मुख्य मेनू खोलें

यह शहर राजस्थान के सवाई माधोपुर जिले से 25 किलोमीटर दूर स्थित है, जो कि खण्डार विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आता है। चौथ का बरवाड़ा के बाद खण्डार विधानसभा क्षेत्र का द्वितीय सबसे बड़ा कस्बा भगवतगढ़ है। यहाँ के अरणेश्वर महादेव के सप्त कुंड पिकनिक मनाने के लिए बहुत खूबसूरत जगह है, यहाँ पर श्री केशवराय जी भगवान का भी प्रसिद्ध मंदिर है। भगवतगढ़ कसबे के चारो कोनो पर चार बावड़ियां व् चार ही बालाजी के मंदिर स्थित हैं, जो कि अपने आप में अनूठा है। भगवतगढ़ शहर सवाई माधोपुर जिले का प्राचीन काल से सैठाना क्षेत्र रहा है, यहाँ पर भगवतगढ़ का किला है, जिसके कारण ही इस शहर का नाम भगवतगढ़ पड़ा है। यह कस्बा टोंक-सवाई माधोपुर लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत आता है। भगवतगढ़ शहर सवाई माधोपुर जिले की चौथ का बरवाड़ा पंचायत समिति व तहसील का दूसरा सबसे बड़ा शहर तो है ही साथ में सबसे प्राचीन शहर भी यही है। भगवतगढ़ क्षेत्र के आसपास के गाँवों में झोंपड़ा, लोरवाड़ा, बंधा, जटवाड़ा, जौंला आदि मुख्य गाँव है। भगवतगढ़ शहर से सबसे अधिक जरूरते पूरी करने वाले गाँवों में झोंपड़ा गाँव मुख्य है, झोंपड़ा गाँव के अलावा सिरोही, बंधा, लोरवाड़ा, जटवाड़ा, जौंला, क्यावड़, आदलवाड़ा, गिरधरपुरा, त्रिलोकपुरा, सहरावता, राठौद, कराड़ी, दोबड़ा आदि गाँव आते हैं।

अनुक्रम

पर्यटन स्थलसंपादित करें

अरणेश्वर महादेव के सप्त कुंडसंपादित करें

केशवराय भगवान का मंदिरसंपादित करें

बावड़ियाँसंपादित करें

खेड़ापति बालाजीसंपादित करें

भगवतगढ़ का किलासंपादित करें

धुँधेश्वर महादेवसंपादित करें

आदलवाडा के बालाजीसंपादित करें