माना जाता है कि भारत में ईसाई धर्म की शुरुवात ईसा मसीह के बारह मूल धर्मदूतों में से एक थॉमस के सन ५२ में केरल में आने के बाद हुई। विद्वानों की सहमति है कि ईसाई धर्म निश्चित तौर पर ६वीं शताब्दी ईस्वी से भारत में स्थापित हो गया था। भारत की २०११ की जनगणना मे मुताबीक २.॰३% जनसंख्या ईसाई धर्म की है, जो की लगभग २॰.७८ करोड होती है।

भारत में ईसाई धर्म के लोग
कुल जनसंख्या

२,७८,१९,५८८ (२०११)[1]

ख़ास आवास क्षेत्र
नागालैण्ड में अधिकांश ९०%, मिज़ोरम में ८८% और मेघालय में ८३॰३%

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Census of India :Religion PCA". www.censusindia.gov.in. Government of India. मूल से 15 अगस्त 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 July 2016.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें