भारत में उपेक्षित उष्णकटिबंधीय बीमारियाँ

भारत में उपेक्षित उष्णकटिबंधीय बीमारियाँ (एनटीडी) परजीवी, वायरस, फंगस और बैक्टेरियाई संक्रमणों का एक समूह है, जो भारत समेत अनेक कम-आय वाले देशों में फैली हुई हैं।

भारत की जनसंख्या 1.3 अरब है, जिसके कारण यह दुनिया की दूसरी सबसे अधिक आबादी वाला देश है।[1] हालाँकि अधिक जनसंख्या यह नहीं बताती है कि अन्य देशों की तुलना में भारत में एनटीडी के मामले अधिक हैं।[1] भारत में एनटीडी बीमारियों की एक विशेषता यह है कि वे शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में होते हैं।[1]

एस्कारियासिस, अंकुश कृमि, ट्राइकोराइसिस, डेंगू बुख़ार, लसीका फाइलेरियासिस, रोहे, सिस्टसरकोसिस, कुष्ठरोग, इचिंचोकोसिस, काला अज़ार, और रेबीज़ उन उपेक्षित उष्णकटिबंधीय रोगों में से हैं जो विशेष रूप से भारत को प्रभावित करते हैं।[2]

सूचीसंपादित करें

"उपेक्षित उष्णकटिबंधीय रोग" एक सामाजिक अवधारणा है। विभिन्न संगठन एनटीडी की विभिन्न सूची प्रस्तुत करते हैं। ये रोग एक जैसे हैं क्योंकि ये उष्णकटिबन्धीय जलवायु में होते हैं, जो वैश्विक जनता का ध्यान नहीं खींच पाते हैं और कई लोगों को नुकसान पहुँचाते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन विश्व स्तर पर 20 एनटीडी को मान्यता देता है। [3] इन 20 एनटीडी में से 12 भारत में भी मौजूद हैं। एक पत्रिका, प्लोस नेगलेक्टेड ट्रॉपिकल डिजीज की खुद की अपनी एक अलग सूची है।[4] प्लोस पत्रिका की श्रेणी प्रणाली के साथ क्रमबद्ध 20 एनटीडी विश्व स्वास्थ्य संगठन की सूची निम्नलिखित है:-

विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी बीमारियाँ जिसकी भारत में कोई ख़ास समस्या नहीं हैं, ये हैं- चैगस रोग, ह्यूमन अफ्रीकन ट्रिपैनोसोमियासिस (नींद की बीमारी), खाद्यज ट्रापेटोडायसिस, ओंकोकोसेरिएसिस (रिवर ब्लाइंडनेस), शिस्टोसोमियासिस, चिकनगुनिया, बुरुली अल्सर, और यवस (एंडेमिक ट्रेपोनीमेटोसेस)।

प्रोटोजोआ संबंधितसंपादित करें

काला-अज़ार (विसरल लीशमैनियासिस)संपादित करें

भारत सरकार का लक्ष्य है कि काला अजार को पूर्णत: ख़त्म किया जाए।[5] साथ ही इससे ग्रसित और ठीक हुए मामलों का पता लगाना, बीमारी का जल्द-से-जल्द पता लगाना, उसका उपचार करना और इस बीमारी को फैलाने वाले जीव जंतुओं पर नियंत्रण करना।[5][6]

सन 2000 से पहले काला आज़र को भारत से पूर्णत: ख़त्म करने की उम्मीद थी।[7] इन सालों में कई तरह के कार्यक्रम चलाए गए [7] ताकि इसकी बीमारी को रोकने और उसको ठीक करने के प्रयास किए जा सके। सन 2000 की रिपोर्ट के अनुसार काला अजार के परजीवी (पैरासाइट) में इस बीमारी को ठीक करने के लिए बनाई गयी पेंटावैलेंट एंटीमोनियल दवा, जो 50 साल से इस बीमारी को ठीक करने के लिए प्रयोग की जा रही है, को झेलने की क्षमता थी।।[8][9] इसके बाद जल्द ही ये बीमारी फिर से एक बड़ी समस्या बन गयी थी तथा उसके बाद इसका इलाज और भी कठिन हो गया था। भारत के गरीब इलाकों में इस बीमारी के बारे में जानकारी न होने के कारण ये बहुत तेजी से फ़ैल गई थी।[10] उस समय इस बीमारी का इलाज बहुत महंगा था। [11]

सन 2000 के बाद काला अजार का इलाज करना बहुत मुश्किल हो गया है।[12] भारत सरकार ने 2017 में इस बीमारी के इलाज को आसानी से हर इलाके में पहुंचाने के लिए चिकित्सा सुविधा मुहैया करवाई ताकि इस बीमारी को देश से पूर्णतः समाप्त कर दिया जाए।[13] सरकार ने 2020 तक इस बीमारी को ख़त्म करने तथा पुनः इसके पैलाव को रोकने का लक्ष्य रखा है।[14] चिकित्सक काला आज़र से ग्रसित रोगी को ठीक होने से पहले और बाद के लिए दवा देते है लेकिन इसका सही और सीमित मात्र में प्रयोग जरुरी है। भारत की स्वास्थ्य एजेंसियों ने इस संक्रामक बीमारी को जड़ से समाप्त करने के लिए जो प्रयास और कार्यक्रम चलाए वो भारत और अन्य देश के लिए एक उदाहरण साबित हो रहे है, कि कैसे किसी संक्रामक बीमारी को खत्म किया जा सकता है।[15]

अफ्रीकी ट्रिपेनोसोमियासिससंपादित करें

अफ्रीकी ट्रिपेनोसोमियासिस (नींद की बीमारी) भारत में इस बीमारी की कोई समस्या नहीं है।[16] साथ ही शोधकर्ता इस बीमारी की निगरानी करते रहते हैं।[16] 2005 में, एक भारतीय किसान इस बीमारी के संक्रमण से बीमार हुआ था। इसे भारत में ट्रिपैनोसोमा इवान्सी कहा जाता है।[17]

चगास रोगसंपादित करें

चगास रोग के मामले भारत में देखने को नहीं मिलते है।[16] अफ्रीकन ट्रिपैनोसोमियासिस की तरह चगास बीमारी का कारण ट्रिपेनोसोमा परजीवी से होता है।[16][17] यह परजीवी भारत में नहीं पाया जाता है।[16][17]

कीड़ेसंपादित करें

मृदा-संचारित हेलमनिथियसिससंपादित करें

मृदा (मिट्टी) संचारित हेलमनिथियसिस विभिन्न परजीविजन्य रोग रोगों का एक समूह है, जो अलग-अलग कारणों से होता है। बड़े सूत्रकृमि (राउंडवॉर्म) का कारण एस्कारियासिस, हुकवर्म संक्रमण है, और व्हिपवर्म ट्राइकोराइसिस का कारण बनता है। ये कीड़े संबंधित हैं और रोकथाम के लिए रणनीतियाँ हैं जो उन सभी पर लागू होती हैं।[18]

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुमान अनुसार 2015 में, भारत में 75% बच्चों का, जिन्हें मृदा-संचारित हेलमनिथियसिस था, भी इलाज कराया गया।[1][19]

लसीका फाइलेरियासिससंपादित करें

दुनिया के लसीका फाइलेरिया (लिम्फेटिक फाइलेरियासिस; एलएफ) मामलों में भारत का ४०% हिस्सा है। [20] इसमें रोगी के उपचार में बहुत ज़्यादा समय लगना इस बीमारी के उपचार की जटिलता है। वर्ष २००० के एक सर्वेक्षण के अनुसार भारत में लगभग आधे लोगों को लिम्फेटिक फाइलेरियासिस के अनुबंध का खतरा था। [21]पुरुषों और महिलाओं को यह बीमारी होने की समान रूप से संभावना है, लेकिन बीते समय में, सामान्य तरीके से उपचार तक पहुंच रखने वाली महिलाओं के लिए बाधाएं रही हैं।[22]

१९५५ में भारत सरकार ने लसीका फाइलेरियासिस को कम करने के लिए राष्ट्रीय फाइलेरिया नियंत्रण कार्यक्रम की स्थापना की।[23] १९९७ में, भारत २०२० तक लसीका फाइलेरियासिस को खत्म करने के लिए विश्व स्वास्थ्य सभा के एक प्रस्ताव में शामिल हो गया। इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए भारत में लगभग हर उस व्यक्ति तक चिकित्सीय सुविधाएं सुलभ होनी चाहिए जिसे इस बीमारी से संक्रमण का खतरा हो।[24] २०१५ में भारत सरकार ने लिम्फेटिक फाइलेरियासिस को खत्म करने में सार्वजनिक भागीदारी को प्रोत्साहित करने के लिए हाथीपांव मुक्त भारत (फाइलेरिया फ्री इंडिया) नामक एक स्वास्थ्य अभियान शुरू किया।[25]

२०१५ में कुछ समय सीमाएं चूकने के बाद और लसीका फाइलेरियासिस को खत्म करने के लिए २०२० की निर्धारित लक्ष्य तिथि से पहले, विभिन्न मीडिया आउटलेट ने चर्चा की कि भारत लक्ष्य को कैसे पूरा कर सकता है या अधिक समय की आवश्यकता होने पर आगे क्या करना चाहिए। [26][27][28]

आयुर्वेद के प्राचीन ग्रन्थ सुश्रुत संहिता में लसीका फिलेरियासिस का वर्णन है।[23]

फीताकृमिरोगसंपादित करें

फीताकृमिरोग जो फीताकृमि नामक परजीवी से होता है।[29][30][31][32]

सिस्टिकइरकोसिससंपादित करें

टेनियासिस और सिस्टिकइरकोसिस दोनों परजीवी जनित रोग हैं जो तायनिडे परिवार के टेपवर्म के कारण होते हैं।

गिनी-वर्म रोगसंपादित करें

गिनी-वर्म रोग भारत में वर्ष 2000 तक एक उपेक्षित उष्णकटिबंधीय बीमारी थी जब लोगों ने इस बीमारी को समाप्त कर दिया।[33] 2003 से 2006 तक रोग का कोई भी मामला दर्ज नहीं किया गया है और इसके बाद यह घोषित किया गया कि अब भारत में इस रोग का कोई मामला नहीं हैं।[34]

खाद्यज ट्रेमाटोड संक्रमणसंपादित करें

खाद्यज ट्रेमाटोड संक्रमण भारत में कोई समस्या नहीं है।

1969-2012 तक भारत में कुछ ही लोगों के छेरा रोग (फास्कियोलोसिस) होने की कुछ रिपोर्टें आई हैं।[35] भारत में गाय, भैंस, भेड़ और बकरियों में यह बीमारी स्थानिक है।[36] 2012 के एक पेपर में दो मानव संक्रमणों की सूचना दी गई थी, जिसमें ध्यान दिलाया गया था कि मानव संक्रमण अधिक प्रचलित हो सकता है।[37]

ऑङ्कोसर्कायसिससंपादित करें

ऑङ्कोसर्कायसिस (रिवर ब्लाइंडनेस) भारत में कोई समस्या नहीं है।

भारत में एक असामान्य मामले में आंकोसर्कायसिस पाया गया है।[38]

सिस्टोसोमियासिससंपादित करें

सिस्टोसोमियासिस की भारत में कोई समस्या नहीं है।

2015 की एक रिपोर्ट में वर्णित किया गया था कि भारत में सिस्टोसोमियासिस की कोई नियमित रिपोर्ट नहीं है, हालाँकि यह बीमारी हो सकती है और ऐसा भी हो सकता है कि इसकी रिपोर्ट नहीं की गई हो सकती है।[39] 1952 के एक पेपर में एक भारतीय गाँव में इस बीमारी के बारे में बताया गया था कि किस तरह विश्व स्वास्थ्य संगठन के शोधकर्ताओं ने इस बीमारी का इलाज किया और इसके स्रोत की पहचान करने की कोशिश की थी।[40][41] बीती बातों की जांच करने पर ऐसा कहा जाता है कि या तो वह पुराना पेपर असामान्य था, या यह बीमारी भारत में असामान्य है या इसका पता लगाना मुश्किल है।[40]

वायरससंपादित करें

डेंगू बुखार और चिकनगुनिया बुखारसंपादित करें

विश्व स्वास्थ्य संगठन डेंगू और चिकनगुनिया बुखार को एक ही समूह में रखता है, लेकिन ये अलग-अलग बीमारियां हैं।

1973 से पहले इसके मामले देखने को मिलते थे, लेकिन बाद में इससे छुटकारा मिल गया। फिर यह घोषणा की गयी कि अब भारत में चिकनगुनिया के मामले नहीं है। हालांकि 2005 में भारत में इसका एक मामला सामने आया था।[42][43] अब भारत में चिकनगुनिया के मामले बढ़ रहे हैं।

रेबीजसंपादित करें

रैबीज भारत में प्राचीन काल से एक समस्या रही है।[44] रैबीज अक्सर कुत्ते के काटने से होता है।[44]

भारत में आवारा कुत्तों की कोई कमी नहीं हैं और कई लोग उनके द्वारा काटे जाने की रिपोर्ट करते हैं।[45] यह निर्धारित करने के लिए कि किसी को रैबीज के इलाज की आवश्यकता है या केवल काटने के लिए उपचार की आवश्यकता है। चिकित्सक को क्षेत्र में रैबीज की घटना के बारे में जानकारी होनी चाहिए।[46] भारत में जिन लोगों को कुत्तों द्वारा काट लिया जाता है, उनमें से लगभग 2% को रेबीज वैक्सीन प्राप्त होता है।[45][47] 2012 के एक रिपोर्ट में तर्क दिया गया था कि भारत में रेबीज के बारे में अब पर्याप्त जानकारी है, और इस बीमारी को राष्ट्रीय स्तर पर नियंत्रित करने की योजना बनाई जा सकती है।[48]

भारत में रेबीज से पीड़ित लोगों की मृत्यु दर लगभग 100% है।[49]

जीवाणुसंपादित करें

कुष्ठ रोगसंपादित करें

साल 1983 से 2005 तक भारत ने सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या के रूप में कुष्ठ रोग को खत्म करने के लिए कई सफल कार्यक्रम आयोजित किए थे।[50] इससे फायदा भी हुआ और 10,000 कुष्ठ रोगियों की संख्या से 58 संख्या हुई।[50] [51] स्वास्थ्य पर ध्यान न देने से यह संभव है कि कुष्ठ दर बढ़ सकती है।[52]

2018 के एक अध्ययन में बताया गया है कि भारत में गरीब क्षेत्रों में कुष्ठ रोग का पता लगाना आसान है, लेकिन अधिक पैसे वाले क्षेत्रों में बहुत सारे केस रह जाते है जिनका पता नहीं लगा पाते है।[53]

2019 की एक रिपोर्ट में बताया गया कि कैसे नई तकनीक से भारत में कुष्ठ रोग का पता लगाना और उसका इलाज आसान हो जाएगा।[54]

ट्रेकोमासंपादित करें

दिसंबर 2017 में भारत के स्वास्थ्य मंत्री ने घोषणा की थी कि अब भारत ट्रेकोमा से मुक्त है।[55][56] इस घोषणा में एक बयान यह भी शामिल था कि भारत में ऐसा कोई भी बच्चा नहीं था जो ट्रेकोमा से ग्रसित था।[57]

जबकि साल 2011 में एक पेपर ने यह अनुमान लगाया था कि भारत 10 साल के भीतर ट्रैकोमा को खत्म कर सकता है।[58]

याजसंपादित करें

भारत सरकार ने 1950 के दशक में याज नामक संक्रमण को ख़त्म करने के लिए कार्यक्रम शुरू किए थे।[59] इस संक्रमण को पूर्णत: समाप्त करने के लिए भारत ने याज उन्मूलन कार्यक्रम शुरू किए और शुरुआत में ही उनके सामने 735 संक्रमित मामले आए।[60] 2004 में भारत सरकार ने घोषणा की कि स्वास्थ्य सम्बंधित कार्यक्रमों के चलते लगता है कि इस बीमारी को समाप्त कर दिया गया है। याज संक्रमण ख़त्म होने के बाद भी 2006 में भारत सरकार ने हर तरफ निगरानी बनाए रखी और इससे सम्बंधित मामलों की खोज जारी रखी। इसी बात को ध्यान में रखते हुए 2011 में याज संक्रमण के होने की आशंकाओं की जांच की गई।

मई 2016 में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत को याव्स से मुक्त घोषित कर दिया।[61] भारत पहला ऐसा देश था, जहाँ याव्स स्थानिक था और जिसने इसे समाप्त किया।[62] भारत में इस सफलता ने अन्य देशों को भी उत्साहित किया, जो भारत द्वारा विकसित की गई तकनीकों का उपयोग करके वर्ष 2020 तक याव्स को खत्म करने का प्रयास करेंगे।[63]

बुरुली व्रणसंपादित करें

बुरुली व्रण (बुरुली अल्सर) भी भारत में कोई समस्या नहीं है।

2019 में चिकित्सकों ने भारत में बुरुली अल्सर के एक मामले की पुष्टि की थी, लेकिन रोगी नाइजीरिया से था जहाँ यह बीमारी मौजूद है।[64]

फंगससंपादित करें

मायसेटोमासंपादित करें

 
2013 में भारत में कवकगुल्म के केसों का स्थान, संख्या और कारण

मायसेटोमा (कवकगुल्म) त्वचा के नीचे होने वाला एक संक्रमण है, जो भारत में फंगस या बैक्टीरिया के कारण होता है।[65][65] राजस्थान में इस बीमारी का कारण आमतौर पर कवक (फंगस) है, लेकिन भारत में कहीं और इसका कारण आमतौर पर बैक्टीरिया होता है।[65]

कुछ स्वास्थ्य सर्वेक्षणों से पता चलता है कि मध्य भारत में मायसेटोमा एक आम संक्रमण है।[66]

इस बीमारी का इलाज कठिन है[67] और कवक के लिए किया जाने वाला उपचार बैक्टीरिया पर कोई असर नहीं छोड़ता है।[67] जब यह बीमारी बैक्टीरिया से होती है तब इसके उपचार में ज्यादा समय लगता है।[67]

साल 1874 में एक ब्रिटिश सर्जन हेनरी विंडीके कार्टर ने “ऑन मायसेटोमा ऑर द फंगस डिजीज ऑफ इंडिया” नामक एक पुस्तक लिखी थी।[68]

अन्यसंपादित करें

खुजलीसंपादित करें

भारत में संभावित स्थानों में खुजली कि समस्या होने का प्रतिशत १३-५९% के बीच रहता है।[69]इस पर कम ही शोध हुआ है कि किस तरह यह अवस्था भारतीय लोगों के दैनिक जीवन, उनके आराम तथा निद्रा को प्रभावित करती है।[69]

विभिन्न महामारी आधारित अध्ययनों में भारत में अलग-अलग स्थानों एवं समय पर हुई खुजली कि घटनाओं का ब्योरा है।[70][71]

पर्मेथ्रीन और इवर्मेक्टीन दवाईयां भारत में उपचार के लिए सामान्यत उपलब्ध रहती हैं।[72][73]

सर्पदंशसंपादित करें

 
नाग साँप एक गंभीर समस्या है।

ज़हर के फैलने का खतरा साँप के काटने से हो सकता है, जबकि साँप का काटना अपने आप में खतरा नहीं है।[74][75] भारत में साँप की चार प्रजातियाँ अधिकतम साँप के काटने की ज़िम्मेदार है: नाग, करैत, दबौया सांप और फुरसे (सॉ-स्केल्ड वाईपर)।[76] इन चार साँपों के अलावा कई और प्रकार के साँप हैं जिनके काटने पर सुनियोजित चिकित्सा सुविधा की आवश्यकता पड़ सकती है।[76]

मई 2018 में विश्व स्वस्थ्य संगठन ने साँप के काटने को एक वैश्विक स्वास्थ्य प्राथमिकता घोषित की।[77]

भारत के कुछ भागों में पारम्परिक चिकित्सा के माध्यम से सर्पदंश का इलाज किया जाता है।[78]

प्रतिविष की तैयारी चुनौती भरी है क्योंकि अलग-अलग साँपों के काटने पर प्रतिविष की आवश्यकता अलग होती है और भारत में कई प्रकार के साँप मौजूद हैं।[79]

सर्पदंश की 97% घटनाएँ गाँव के स्थानों में होती हैं।[80]

साँपों का भारतीय समाज और संस्कृति में विशेष महत्व है।[81] इस कारण से कई लोग जो सर्पदंश-पीड़ित होते हैं, अपनी इस अस्वस्थता को अन्य लोगों की तुलना में कम इलाज के लिए कम महत्वपूर्ण समझते हैं।[81]

2010 भारत में की गई एक सर्पदंश समीक्षा में पता चलता है कि इस समस्या की सूचना कम ही दी गई है और इसके लिए अपर्याप्त स्वास्थ्य चिकित्सा मौजूद है।[82]

1954 में किए गए एक अध्ययन में 1940 से होने वाले सर्पदंश की घटनाओं की समीक्षा की गई। इस अध्ययन में अनुमान लगाया गया है कि हर वर्ष 300,000-400,000 सर्पदंश होते हैं जिनमें से 10% घातक होते हैं।[83] जिन चिकित्सा सुविधाओं को मौजूद होना चाहिए पर जो कई बार उपलब्ध नहीं होते हैं, उनमें पूर्ण रूधिर स्कंदन और विष परिचयन किट शामिल हैं।[84]

महामारी विज्ञानसंपादित करें

काला अजार, लसीका फाइलेरिया और कुष्ठ रोग के आधे मामले भारत और दक्षिण एशिया में पाए गए हैं।[85] ओर रेबीज से होने वाली मौतों में से एक तिहाई भारत और दक्षिण एशिया के एक चौथाई हिस्सा है।

2014 तक डेंगू और जापानी इंसेफेलाइटिस के बारे में अच्छी जानकारी नहीं थी, लेकिन ये बीमारियां भारत में भी एक बड़ा हिस्सा हैं। 2017 में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जिन 17 एनटीडी को मान्यता दी थी, उनमें से 6 बीमारियाँ भारत में आम हैं।[86] उन 6 बीमारियों में लसीका फाइलेरिया, काला-अजार, लेप्टोस्पाइरता, रेबीज, मृदा-संचारित हेल्मिन्थिसिस और डेंगू बुखार हैं।

ग्लोबल बर्डन ऑफ डिज़ीजस (वैश्विक रोग भार) अध्ययन एक नियमित रूप से अद्यतन की गई रिपोर्ट है, जो यह बताने का प्रयास करती है कि दुनिया की प्रत्येक बड़ी बीमारी कोनसी है ओर उन बीमारियों से किस हद तक व्यक्ति प्रभावित है। यह रिपोर्ट बीमारियों की आश्चर्यजनक समस्याओं की पहचान करता है और उन्हें स्वास्थ्य पेशेवरों के बीच अज्ञात होने का वर्णन करता है।

2016 के ग्लोबल बर्डन ऑफ डिज़ीजस अध्ययन का एक आश्चर्यजनक आश्चर्य यह है कि भारत में 16 सबसे उपेक्षित उष्णकटिबंधीय रोगों में से 11 में सबसे ज्यादा और सबसे खराब मामले हैं। दुनिया में होने वाली सभी उपेक्षित उष्णकटिबंधीय बीमारियों के सबसे अधिक मामले भारत में हैं।

2016 में उपेक्षित उष्णकटिबंधीय रोगों के नए मामले[1][87][88]
उपेक्षित उष्णकटिबंधीय रोग भारत में मामले विश्व स्तर पर कुल मामले भारत का प्रतिशत
वैश्विक कुल का
भारतीय घटना क्रम का रैंक
एस्कारियासिस 2220 लाख 7990 लाख 28% 1
अंकुश कृमि (हुकवर्म संक्रमण) 1020 लाख 4510 लाख 23% 1
ट्राइकोराइसिस 680 लाख 4350 लाख 16% 1
डेंगू बुखार* 530 लाख 1010 लाख 53% 1
लसिका फाइलेरियासिस 87 लाख 294 लाख 29% 1
रोहे (ट्रेकोमा) 18 लाख 33 लाख 53% 1
सिस्टोसोमियासिस 819,538 27 लाख 31% 1
कुष्ठ रोग 187,730 523,245 36% 1
फीताकृमिरोग 119,320 973,662 12% 1
विसरल लीशमैनियासिस 13,530 30,067 45% 1
रैबीज* 4,370 13,340 33% 1
* - केवल नए मामले
- केवल दृश्य हानि का कारण बनने वाले मामले

रोक-थामसंपादित करें

भारत सरकार एनटीडी को कम करने और इसे खत्म करने के उद्देश्य से स्वास्थ्य देखभाल में वित्तीय निवेश करने में विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ अपना सहयोग प्रदान करती है, ताकि जल्द से जल्द इन बीमारियों छुटकारा मिल सके।[89]

2005 में भारतीय स्वास्थ्य मंत्रालय, बांग्लादेशी स्वास्थ्य मंत्रालय और नेपाल स्वास्थ्य मंत्रालय ने 2015 तक अपने साझा क्षेत्र में काला अजार को खत्म करने के लिए एक समझौता किया था, जो आगे काफी लाभदायक साबित हुआ था।[90]

2015 के एक अध्ययन में बताया गया था कि भारत के सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यक्रम कुष्ठ दर को कम करने के लिये काम कर रहे थे, लेकिन वो इस बीमारी को जल्द खत्म करने में असफल हुए थे। लेकिन सरकार अभी भी इसके लिए लगातार प्रयास कर रही है।[91]

2017 में भारत सरकार ने एनटीडी को खत्म करने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन की योजनाओं में भाग लेना शुरू किया।[86] ताकि इस बीमारी को जल्द से जल्द खत्म किया जा सके। इन सभी संगठन में सरकार का सीधा उद्देश्य गरीबी कम करना, स्वच्छता को बढ़ावा देना था, साथ ही सभी को स्वास्थ्य, और शिक्षा बेहतर मिले इस उद्देश्य को पूरा करने की सरकार ने नई रणनीति बनाई।[86]

समाज और संस्कृतिसंपादित करें

उपेक्षित उष्णकटिबंधीय रोग गरीबी क्षेत्रों के रोग हैं और समाज में गरीबी कम करने से उन्हें कम किया जा सकता है।

कुछ लोग बीमारी होने पर शर्मिंदगी महसूस करते है, लेकिन यह बीमारी किसी की गलती नहीं है।[92] भारत सरकार ने कभी-कभी बीमारियों के बारे में बताने के लिए स्वास्थ्य अभियान चलाए हैं ताकि लोग ज़रूरत पड़ने पर चिकित्सा सहायता के लिए सहज महसूस कर सकें।[92]

संदर्भसंपादित करें

  1. Hotez, Peter J.; Damania, Ashish; Steinmann, Peter (22 March 2018). "India's neglected tropical diseases". PLOS Neglected Tropical Diseases. 12 (3): e0006038. PMC 5863936. PMID 29565970. डीओआइ:10.1371/journal.pntd.0006038.
  2. Lobo, Derek A.; Velayudhan, Raman; Chatterjee, Priya; Kohli, Harajeshwar; Hotez, Peter J. (25 October 2011). "The Neglected Tropical Diseases of India and South Asia: Review of Their Prevalence, Distribution, and Control or Elimination". PLoS Neglected Tropical Diseases. 5 (10): e1222. PMC 3201909. PMID 22039553. डीओआइ:10.1371/journal.pntd.0001222.
  3. "Neglected tropical diseases". World Health Organization. मूल से 22 फ़रवरी 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 नवम्बर 2015.
  4. "PLoS Neglected Tropical Diseases: A Peer-Reviewed Open-Access Journal". journals.plos.org. मूल से 18 नवम्बर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 अक्टूबर 2016.
  5. Hotez, Peter J.; Pecoul, Bernard (25 May 2010). ""Manifesto" for Advancing the Control and Elimination of Neglected Tropical Diseases". PLoS Neglected Tropical Diseases. 4 (5): e718. PMC 2876053. PMID 20520793. डीओआइ:10.1371/journal.pntd.0000718.
  6. Joshi, A; Narain, JP; Prasittisuk, C; Bhatia, R; Hashim, G; Jorge, A; Banjara, M; Kroeger, A (June 2008). "Can visceral leishmaniasis be eliminated from Asia?". Journal of Vector Borne Diseases. 45 (2): 105–11. PMID 18592839.
  7. Bora, D (1999). "Epidemiology of visceral leishmaniasis in India". The National Medical Journal of India. 12 (2): 62–8. PMID 10416321.
  8. Sundar, Shyam (November 2001). "Drug resistance in Indian visceral leishmaniasis". Tropical Medicine and International Health. 6 (11): 849–854. PMID 11703838. डीओआइ:10.1046/j.1365-3156.2001.00778.x.
  9. Sundar, Shyam; More, Deepak K.; Singh, Manoj K.; Singh, Vijay P.; Sharma, Sashi; Makharia, Anand; Kumar, Prasanna C. K.; Murray, Henry W. (October 2000). "Failure of Pentavalent Antimony in Visceral Leishmaniasis in India: Report from the Center of the Indian Epidemic". Clinical Infectious Diseases. 31 (4): 1104–1107. PMID 11049798. डीओआइ:10.1086/318121.
  10. Singh, S. P.; Reddy, D. C. S.; Rai, M.; Sundar, S. (June 2006). "Serious underreporting of visceral leishmaniasis through passive case reporting in Bihar, India". Tropical Medicine and International Health. 11 (6): 899–905. PMID 16772012. डीओआइ:10.1111/j.1365-3156.2006.01647.x.
  11. Sundar, S; Chatterjee, M (March 2006). "Visceral leishmaniasis - current therapeutic modalities". The Indian Journal of Medical Research. 123 (3): 345–52. PMID 16778315.
  12. Ponte-Sucre, A; Gamarro, F; Dujardin, JC; Barrett, MP; López-Vélez, R; García-Hernández, R; Pountain, AW; Mwenechanya, R; Papadopoulou, B (December 2017). "Drug resistance and treatment failure in leishmaniasis: A 21st century challenge". PLoS Neglected Tropical Diseases. 11 (12): e0006052. PMC 5730103. PMID 29240765. डीओआइ:10.1371/journal.pntd.0006052.
  13. Zijlstra, EE; Alves, F; Rijal, S; Arana, B; Alvar, J (November 2017). "Post-kala-azar dermal leishmaniasis in the Indian subcontinent: A threat to the South-East Asia Region Kala-azar Elimination Programme". PLoS Neglected Tropical Diseases. 11 (11): e0005877. PMC 5689828. PMID 29145397. डीओआइ:10.1371/journal.pntd.0005877.
  14. Sundar, S; Singh, OP; Chakravarty, J (November 2018). "Visceral leishmaniasis elimination targets in India, strategies for preventing resurgence". Expert Review of Anti-infective Therapy. 16 (11): 805–812. PMC 6345646. PMID 30289007. डीओआइ:10.1080/14787210.2018.1532790.
  15. Hirve, S; Kroeger, A; Matlashewski, G; Mondal, D; Banjara, MR; Das, P; Be-Nazir, A; Arana, B; Olliaro, P (October 2017). "Towards elimination of visceral leishmaniasis in the Indian subcontinent-Translating research to practice to public health". PLoS Neglected Tropical Diseases. 11 (10): e0005889. PMC 5638223. PMID 29023446. डीओआइ:10.1371/journal.pntd.0005889.
  16. Joshi, Prashant P. "Human Trypanosomiasis in India: Is it an Emerging New Zoonosis?" (PDF). apiindia.org. Association of Physicians in India. पपृ॰ 10–13. मूल (PDF) से 18 मार्च 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 जनवरी 2020.
  17. Joshi, PP; Shegokar, VR; Powar, RM; Herder, S; Katti, R; Salkar, HR; Dani, VS; Bhargava, A; Jannin, J; Truc, P (September 2005). "Human trypanosomiasis caused by Trypanosoma evansi in India: the first case report". The American Journal of Tropical Medicine and Hygiene. 73 (3): 491–5. PMID 16172469. डीओआइ:10.4269/ajtmh.2005.73.491.
  18. Abraham, Dilip; Kaliappan, SaravanakumarPuthupalayam; Walson, JuddL; Rao Ajjampur, SitaraSwarna (2018). "Intervention strategies to reduce the burden of soil-transmitted helminths in India". Indian Journal of Medical Research. 147 (6): 533–544. PMC 6118140. PMID 30168484. डीओआइ:10.4103/ijmr.IJMR_881_18.
  19. "PCT databank - Soil-transmitted helminthiases". WHO. मूल से 5 अगस्त 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 August 2017.
  20. Ramaiah, Kapa D; Das, Pradeep K; Michael, Edwin; Guyatt, Helen L (June 2000). "The Economic Burden of Lymphatic Filariasis in India". Parasitology Today. 16 (6): 251–253. PMID 10827432. डीओआइ:10.1016/S0169-4758(00)01643-4.
  21. Sabesan, S.; Palaniyandi, M.; Das, P. K.; Michael, E. (3 Jul 2000). "Mapping of lymphatic filariasis in India". Annals of Tropical Medicine & Parasitology. 94 (6): 591–606. PMID 11064761. डीओआइ:10.1080/00034983.2000.11813582.
  22. Bandyopadhyay, Lalita (May 1996). "Lymphatic filariasis and the women of India". Social Science & Medicine. 42 (10): 1401–1410. PMID 8735896. डीओआइ:10.1016/0277-9536(95)00288-X.
  23. Sabesan, S; Vanamail, P; Raju, KH.K; Raju, P (2010). "Lymphatic filariasis in India: Epidemiology and control measures". Journal of Postgraduate Medicine. 56 (3): 232–8. PMID 20739779. डीओआइ:10.4103/0022-3859.68650.
  24. Agrawal, VK; Sashindran, VK (October 2006). "Lymphatic Filariasis in India : Problems, Challenges and New Initiatives". Medical Journal Armed Forces India. 62 (4): 359–362. PMC 5034168. PMID 27688542. डीओआइ:10.1016/S0377-1237(06)80109-7.
  25. Bagcchi, Sanjeet (April 2015). "India tackles lymphatic filariasis". The Lancet Infectious Diseases. 15 (4): 380. PMID 25809895. डीओआइ:10.1016/S1473-3099(15)70116-7.
  26. TNN (17 November 2017). "Filariasis in india: The epidemic you don't know about". The Times of India (अंग्रेज़ी में). The Times Group. मूल से 19 दिसंबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 जनवरी 2020.
  27. Basu, Snigdha (8 March 2018). "Not Stigma But Awareness A Hurdle To Eliminate Lymphatic Filariasis By 2020". NDTV. मूल से 12 अगस्त 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 जनवरी 2020.
  28. Rath, Nibedita; Dash, Sambit (22 August 2017). "India Is Set To Fail Its Target Of Eradicating Filariasis By 2020". HuffPost India (अंग्रेज़ी में). AOL. मूल से 10 सितंबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 जनवरी 2020.
  29. Singh, BB; Dhand, NK; Ghatak, S; Gill, JP (1 January 2014). "Economic losses due to cystic echinococcosis in India: Need for urgent action to control the disease". Preventive Veterinary Medicine. 113 (1): 1–12. PMID 24148988. डीओआइ:10.1016/j.prevetmed.2013.09.007.
  30. Vaidya, VM; Zende, RJ; Paturkar, AM; Gatne, ML; Dighe, DG; Waghmare, RN; Moon, SL; Bhave, SS; Bengale, KG; Nikale, NV (26 June 2018). "Cystic echinococcosis in animals and humans of Maharashtra State, India". Acta Parasitologica. 63 (2): 232–243. PMID 29654685. डीओआइ:10.1515/ap-2018-0027.
  31. Rawat, S; Kumar, R; Raja, J; Singh, RS; Thingnam, SKS (September 2019). "Pulmonary hydatid cyst: Review of literature". Journal of Family Medicine and Primary Care. 8 (9): 2774–2778. PMC 6820383. PMID 31681642. डीओआइ:10.4103/jfmpc.jfmpc_624_19.
  32. Bhutani, N; Kajal, P (December 2018). "Hepatic echinococcosis: A review". Annals of Medicine and Surgery (2012). 36: 99–105. PMC 6226561. PMID 30450204. डीओआइ:10.1016/j.amsu.2018.10.032.
  33. Sharma, R (11 March 2000). "India eradicates guinea worm disease". BMJ (Clinical Research Ed.). 320 (7236): 668. PMC 1117704. PMID 10710568.
  34. World Health Organization (14 July 2016). "India's triumph over yaws adds momentum to global eradication". who.int. Geneva: World Health Organization. मूल से 22 मई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 जनवरी 2020.
  35. GIDEON (30 December 2017). "Fascioliasis in India". Global Infectious Diseases and Epidemiology Online Network.
  36. Garg, Rajat; Yadav, C. L.; Kumar, R. R.; Banerjee, P. S.; Vatsya, Stuti; Godara, Rajesh (21 May 2009). "The epidemiology of fasciolosis in ruminants in different geo-climatic regions of north India". Tropical Animal Health and Production. 41 (8): 1695–1700. PMID 19455400. डीओआइ:10.1007/s11250-009-9367-y.
  37. Varghese, GM; Ramachandran, J; Ajjampur, SSR; Chandramohan, A (2012). "Cases of human fascioliasis in India: Tip of the iceberg". Journal of Postgraduate Medicine. 58 (2): 150. डीओआइ:10.4103/0022-3859.97180.
  38. Barua, P; Sharma, A; Hazarika, NK; Barua, N; Bhuyan, S; Alam, ST (November 2011). "A rare case of ocular onchocerciasis in India". The Southeast Asian Journal of Tropical Medicine and Public Health. 42 (6): 1359–64. PMID 22299403.
  39. Kali, Arunava (2015). "Schistosome Infections: An Indian Perspective". Journal of Clinical and Diagnostic Research. 9 (2): DE01-4. PMC 4378741. PMID 25859459. डीओआइ:10.7860/JCDR/2015/10512.5521.
  40. Agrawal, M. C.; Rao, V. G. (2011). "Indian Schistosomes: A Need for Further Investigations". Journal of Parasitology Research. 2011: 1–4. PMID 22132307. डीओआइ:10.1155/2011/250868.
  41. Gadgil, R. K.; Shah, S. N. (1952). "Human schistosomiasis in India". Journal of Medical Science. 6: 760–763.
  42. Lahariya, C; Pradhan, SK (December 2006). "Emergence of chikungunya virus in Indian subcontinent after 32 years: A review". Journal of Vector Borne Diseases. 43 (4): 151–60. PMID 17175699.
  43. Muniaraj, M (March 2014). "Fading chikungunya fever from India: beginning of the end of another episode?". The Indian Journal of Medical Research. 139 (3): 468–70. PMC 4069744. PMID 24820844.
  44. Sudarshan, M.K.; Madhusudana, S.N.; Mahendra, B.J.; Rao, N.S.N.; Ashwath Narayana, D.H.; Abdul Rahman, S.; Meslin, F.-X.; Lobo, D.; Ravikumar, K.; Gangaboraiah (January 2007). "Assessing the burden of human rabies in India: results of a national multi-center epidemiological survey". International Journal of Infectious Diseases. 11 (1): 29–35. PMID 16678463. डीओआइ:10.1016/j.ijid.2005.10.007.
  45. Menezes, R. (26 February 2008). "Rabies in India". Canadian Medical Association Journal. 178 (5): 564–566. PMID 18299543. डीओआइ:10.1503/cmaj.071488.
  46. Ichhpujani, RL; Mala, C; Veena, M; Singh, J; Bhardwaj, M; Bhattacharya, D; Pattanaik, SK; Balakrishnan, N; Reddy, AK; Samnpath, G; Gandhi, N; Nagar, SS; Shiv, L (March 2008). "Epidemiology of animal bites and rabies cases in India. A multicentric study". The Journal of Communicable Diseases. 40 (1): 27–36. PMID 19127666.
  47. Sudarshan, MK; Mahendra, BJ; Madhusudana, SN; Ashwoath Narayana, DH; Rahman, A; Rao, NS; X-Meslin, F; Lobo, D; Ravikumar, K; Gangaboraiah (March 2006). "An epidemiological study of animal bites in India: results of a WHO sponsored national multi-centric rabies survey". The Journal of Communicable Diseases. 38 (1): 32–9. PMID 17370688.
  48. Kakkar, Manish; Venkataramanan, Vidya; Krishnan, Sampath; Chauhan, Ritu Singh; Abbas, Syed Shahid; Rupprecht, Charles E. (7 August 2012). "Moving from Rabies Research to Rabies Control: Lessons from India". PLoS Neglected Tropical Diseases. 6 (8): e1748. PMC 3413711. PMID 22880139. डीओआइ:10.1371/journal.pntd.0001748.
  49. Sharma, Sanchita (1 July 2018). "Vaccine-preventable rabies is India's most fatal infection". Hindustan Times (अंग्रेज़ी में). मूल से 11 जून 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 जनवरी 2020.
  50. Rao, PN; Suneetha, S (2018). "Current Situation of Leprosy in India and its Future Implications". Indian Dermatology Online Journal. 9 (2): 83–89. PMC 5885632. PMID 29644191. डीओआइ:10.4103/idoj.IDOJ_282_17.
  51. Sengupta, Utpal (2018). "Elimination of leprosy in India: An analysis". Indian Journal of Dermatology, Venereology, and Leprology. 0 (2): 131–136. PMID 29451189. डीओआइ:10.4103/ijdvl.IJDVL_1070_16.
  52. Cousins, S (25 August 2018). "Experts fear a resurgence of leprosy in India". Lancet. 392 (10148): 624–625. PMID 30152333. डीओआइ:10.1016/S0140-6736(18)31982-2.
  53. Grantz, Kyra H.; Chabaari, Winnie; Samuel, Ramolotja Kagiso; Gershom, Buri; Blum, Laura; Worden, Lee; Ackley, Sarah; Liu, Fengchen; Lietman, Thomas M.; Galvani, Alison P.; Prajna, Lalitha; Porco, Travis C. (27 March 2018). "Spatial distribution of leprosy in India: an ecological study". Infectious Diseases of Poverty. 7 (1): 20. PMC 5870368. PMID 29580296. डीओआइ:10.1186/s40249-018-0402-y.
  54. Sengupta, U (2019). "Recent Laboratory Advances in Diagnostics and Monitoring Response to Treatment in Leprosy". Indian Dermatology Online Journal. 10 (2): 106–114. PMC 6434766. PMID 30984583. डीओआइ:10.4103/idoj.IDOJ_260_18 (असक्रिय 2020-01-25).
  55. Sharma, Neetu Chandra (8 December 2017). "India free from Trachoma, says health minister J.P. Nadda". Livemint (अंग्रेज़ी में). मूल से 16 मार्च 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 जनवरी 2020.
  56. "India now free of infective trachoma, says JP Nadda". The New Indian Express. मूल से 8 जुलाई 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 जनवरी 2020.
  57. Tandon, Aditi (11 December 2017). "India free from active trachoma in children". The Tribune (अंग्रेज़ी में).
  58. Hotez, Peter (December 2011). "Enlarging the "Audacious Goal": Elimination of the world's high prevalence neglected tropical diseases". Vaccine. 29: D104–D110. PMID 22188933. डीओआइ:10.1016/j.vaccine.2011.06.024.
  59. Narain, JP; Jain, SK; Bora, D; Venkatesh, S (May 2015). "Eradicating successfully yaws from India: The strategy & global lessons". The Indian Journal of Medical Research. 141 (5): 608–13. PMC 4510759. PMID 26139778. डीओआइ:10.4103/0971-5916.159542 (असक्रिय 2020-01-25).
  60. Bora, D; Dhariwal, AC; Lal, S (March 2005). "Yaws and its eradication in India--a brief review". The Journal of Communicable Diseases. 37 (1): 1–11. PMID 16637394.
  61. World Health Organization (11 May 2016). "WHO declares India free of yaws". World Health Organization. New Delhi. मूल से 9 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 जनवरी 2020.
  62. Friedrich, M.J. (20 September 2016). "WHO Declares India Free of Yaws and Maternal and Neonatal Tetanus". JAMA. 316 (11): 1141. PMID 27654592. डीओआइ:10.1001/jama.2016.12649.
  63. Asiedu, Kingsley; Fitzpatrick, Christopher; Jannin, Jean; Small, Pamela L. C. (25 September 2014). "Eradication of Yaws: Historical Efforts and Achieving WHO's 2020 Target". PLoS Neglected Tropical Diseases. 8 (9): e3016. PMC 4177727. PMID 25254372. डीओआइ:10.1371/journal.pntd.0003016.
  64. George, Ajith John; Samuel, Vimalin; Samuel, Vasanth Mark; Gaikwad, Pranay (6 June 2019). "Buruli ulcer: Rare presentation of a chronic nonhealing ulcer in India". Indian Journal of Vascular and Endovascular Surgery. 6 (2): 138–140. डीओआइ:10.4103/ijves.ijves_76_18 (असक्रिय 2020-01-25).
  65. van de Sande, Wendy W. J.; Vinetz, Joseph M. (7 November 2013). "Global Burden of Human Mycetoma: A Systematic Review and Meta-analysis". PLoS Neglected Tropical Diseases. 7 (11): e2550. डीओआइ:10.1371/journal.pntd.0002550.
  66. Sawatkar, GiteshU; Wankhade, VaishaliH; Supekar, BhagyashreeB; Pratap, RajeshPratap; Bhat, DharitriM; Tankhiwale, SupriyaS (2019). "Mycetoma: A common yet unrecognized health burden in central India". Indian Dermatology Online Journal. 10 (3): 256–261. PMC 6536075. PMID 31149567. डीओआइ:10.4103/idoj.IDOJ_358_18.
  67. Relhan, V; Mahajan, K; Agarwal, P; Garg, VK (2017). "Mycetoma: An Update". Indian Journal of Dermatology. 62 (4): 332–340. PMC 5527712. PMID 28794542. डीओआइ:10.4103/ijd.IJD_476_16.
  68. Carter, H.Vandyke (1874). On the Nature of Mycetoma, or the Fungus Disease of India. London: J. & A. Churchill.
  69. Nair, Pragya Ashok (2016). "A Study of Clinical Profile and Quality of Life in Patients with Scabies at a Rural Tertiary Care Centre". Journal of Clinical and Diagnostic Research. 10 (10): WC01–WC05. PMC 5121773. PMID 27891435. डीओआइ:10.7860/JCDR/2016/20938.8703.
  70. GULATI, P. V.; BRACANZA, C.; SINGH, K. P.; BORKER, V. (September 1977). "Scabies in a Semiurban Area of India: An Epidemiologic Study". International Journal of Dermatology. 16 (7): 594–598. PMID 914413. डीओआइ:10.1111/j.1365-4362.1977.tb00788.x.
  71. Sharma, R. S.; Mishra, R. S.; Pal, Dharam; Gupta, J. P.; Dutta, Mahendra; Datta, K. K. (15 November 2016). "An epidemiological study of scabies in a rural community in India". Annals of Tropical Medicine & Parasitology. 78 (2): 157–164. PMID 6742927. डीओआइ:10.1080/00034983.1984.11811789.
  72. Chandler, David J.; Fuller, Lucinda C. (2019). "A Review of Scabies: An Infestation More than Skin Deep". Dermatology. 235 (2): 79–90. PMID 30544123. डीओआइ:10.1159/000495290.
  73. Sharma, R; Singal, A (2011). "Topical permethrin and oral ivermectin in the management of scabies: a prospective, randomized, double blind, controlled study". Indian Journal of Dermatology, Venereology and Leprology. 77 (5): 581–6. PMID 21860157. डीओआइ:10.4103/0378-6323.84063.
  74. Mohapatra, Bijayeeni; Warrell, David A.; Suraweera, Wilson; Bhatia, Prakash; Dhingra, Neeraj; Jotkar, Raju M.; Rodriguez, Peter S.; Mishra, Kaushik; Whitaker, Romulus; Jha, Prabhat; Gyapong, John Owusu (12 April 2011). "Snakebite Mortality in India: A Nationally Representative Mortality Survey". PLoS Neglected Tropical Diseases. 5 (4): e1018. PMC 3075236. PMID 21532748. डीओआइ:10.1371/journal.pntd.0001018.
  75. Kasturiratne, A; Wickremasinghe, AR; de Silva, N; Gunawardena, NK; Pathmeswaran, A; Premaratna, R; Savioli, L; Lalloo, DG; de Silva, HJ (4 November 2008). "The global burden of snakebite: a literature analysis and modelling based on regional estimates of envenoming and deaths". PLoS Medicine. 5 (11): e218. PMC 2577696. PMID 18986210. डीओआइ:10.1371/journal.pmed.0050218.
  76. Senji Laxme, R. R.; Khochare, Suyog; de Souza, Hugo Francisco; Ahuja, Bharat; Suranse, Vivek; Martin, Gerard; Whitaker, Romulus; Sunagar, Kartik; BILLIALD, Philippe (5 December 2019). "Beyond the 'big four': Venom profiling of the medically important yet neglected Indian snakes reveals disturbing antivenom deficiencies". PLOS Neglected Tropical Diseases. 13 (12): e0007899. PMC 6894822. PMID 31805055. डीओआइ:10.1371/journal.pntd.0007899.
  77. "Snake bites labelled a 'health priority'". BBC. 26 May 2018. मूल से 20 दिसंबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 जनवरी 2020.
  78. Samy, Ramar Perumal; Thwin, Maung Maung; Gopalakrishnakone, Ponnampalam; Ignacimuthu, Savarimuthu (January 2008). "Ethnobotanical survey of folk plants for the treatment of snakebites in Southern part of Tamilnadu, India". Journal of Ethnopharmacology. 115 (2): 302–312. PMID 18055146. डीओआइ:10.1016/j.jep.2007.10.006.
  79. Warrell, DA; Gutiérrez, JM; Calvete, JJ; Williams, D (2013). "New approaches & technologies of venomics to meet the challenge of human envenoming by snakebites in India". The Indian Journal of Medical Research. 138: 38–59. PMC 3767246. PMID 24056555.
  80. Ray, Kalyan (23 January 2019). "India neglects snakebites despite 50K deaths each year". Deccan Herald (अंग्रेज़ी में). मूल से 13 अक्तूबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 जनवरी 2020.
  81. Roopa, Nupur (27 October 2017). "Venom, myth and medicine: India fights its reputation as world snakebite capital | Nupur Roopa". The Guardian. मूल से 10 जून 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 जनवरी 2020.
  82. Alirol, Emilie; Sharma, Sanjib Kumar; Bawaskar, Himmatrao Saluba; Kuch, Ulrich; Chappuis, François; de Silva, Janaka (26 January 2010). "Snake Bite in South Asia: A Review". PLoS Neglected Tropical Diseases. 4 (1): e603. PMC 2811174. PMID 20126271. डीओआइ:10.1371/journal.pntd.0000603.
  83. AHUJA, ML; SINGH, G (October 1954). "Snake bite in India". The Indian Journal of Medical Research. 42 (4): 661–86. PMID 13232717.
  84. Abraham, Siju V. (2018). "Snake bite in India: A few matters to note". Toxicology Reports. 5: 839. PMC 6104458. PMID 30140616. डीओआइ:10.1016/j.toxrep.2018.08.010.
  85. Hotez, Peter J. (29 May 2014). "Ten Global "Hotspots" for the Neglected Tropical Diseases". PLoS Neglected Tropical Diseases. 8 (5): e2496. PMC 4038631. PMID 24873825. डीओआइ:10.1371/journal.pntd.0002496.
  86. Acharya, Anita Shankar; Kaur, Ravneet; Goel, Akhil Dhanesh (July 2017). "Neglected tropical diseases—Challenges and opportunities in India". Indian Journal of Medical Specialities. 8 (3): 102–108. डीओआइ:10.1016/j.injms.2017.07.006.
  87. all numbers are from the Institute for Health Metrics and Evaluation's 2016 Global Burden of Disease Study
  88. Institute for Health Metrics and Evaluation (2017). "Global Burden of Disease Study 2016 (GBD 2016) Data Resources". ghdx.healthdata.org. University of Washington. मूल से 20 जनवरी 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 जनवरी 2020.
  89. World Health Organization (2015). Investing to overcome the global impact of neglected tropical diseases: third WHO report on neglected tropical diseases. Geneva: World Health Organization. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-92-4-156486-1.
  90. Narain, Jai P; Dash, AP; Parnell, B; Bhattacharya, SK; Barua, S; Bhatia, R; Savioli, L (1 March 2010). "Elimination of neglected tropical diseases in the South-East Asia Region of the World Health Organization". Bulletin of the World Health Organization. 88 (3): 206–210. PMC 2828791. PMID 20428388. डीओआइ:10.2471/BLT.09.072322.
  91. Brook, Cara E.; Beauclair, Roxanne; Ngwenya, Olina; Worden, Lee; Ndeffo-Mbah, Martial; Lietman, Thomas M.; Satpathy, Sudhir K.; Galvani, Alison P.; Porco, Travis C. (22 October 2015). "Spatial heterogeneity in projected leprosy trends in India". Parasites & Vectors. 8 (1): 542. PMC 4618538. PMID 26490137. डीओआइ:10.1186/s13071-015-1124-7.
  92. Weiss, Mitchell G.; Utzinger, Juerg (14 May 2008). "Stigma and the Social Burden of Neglected Tropical Diseases". PLoS Neglected Tropical Diseases. 2 (5): e237. PMC 2359851. PMID 18478049. डीओआइ:10.1371/journal.pntd.0000237.

अधिक जानकारीसंपादित करें

  • International Federation of Pharmaceutical Manufacturers & Associations; Global Health Progress; Organisation of Pharmaceutical Producers of India (2013), Action on Neglected Tropical Diseases in India (PDF), India: Global Health Progress, मूल (PDF) से 30 जनवरी 2020 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 30 जनवरी 2020

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें