मणि एक अनमोल वस्तु होती है जिसमे एक सूक्ष्म शक्ति होती है। मणि का कोई एक निश्चित आकार नहीं होता। इसको दो मुख्य तरीके से विभक्त कर सकते हैं।

- जैविक मणि - जो की किसीभी जीव से मिलता है। उदहारण स्वरूप : नागमणि, गजमणि, उल्लूक मणि, सुकरमणि, मोरमणि, कपिमणि आदि। जैविक मणि में उस जीव का सुक्ष्म तत्त्व होता है।

- प्राकृतिक मणि - ये मणि किसी जीव या जंतु से नहीं मिलता। प्रकृति में स्वतः ही प्राप्त होता है। इसका मूल स्रोत ढूँढना बहुत मुश्किल है। प्राकृतिक मणि में स्यमंतक मणि, मेघ मणि, कौस्तुभ मणि, पारस मणि आदि है।

मणि कोई हीरा, पन्ना, माणिक आदि पत्थर नहीं होती। मणि में छिपे हुए सूक्ष्म शक्ति ही उसकी पहचान है, जिसको परखना इतना सहज नहीं। मणि से सूक्ष्म शक्ति को निकाला भी जा सकता है और वापस रोपण भी किया जा सकता है।

उदाहरणसंपादित करें

जैविक मणि में नाग मणि, गज मणि, उल्लूक मणि, सुकर मणि प्रमुख हैं।

प्राकृतिक मणि में स्यमंतक मणि, मेघ मणि, कौस्तुभ मणि, पारस मणि प्रमुख हैं।

मूलसंपादित करें

अन्य अर्थसंपादित करें

संबंधित शब्दसंपादित करें

Maniसंपादित करें


==पंजाबी = अन्य भारतीय भाषाओं में निकटतम शब्द ==ਮਾਣਕ = मणि संस्कृत मे माणिक्य