मलाइका (अरबी - ملائكة)- यह एक अरबी शब्द है, एक वचन मलक (ملک) और बहुवचन मलाइका (ملائکہ) है। इन को फ़ारसी और उर्दू भाशा में फ़रिश्ते भी कहा जाता है। एकवचन फ़रिश्ता बहुवचन फ़रिश्ते। अर्थात देवदूत।

क़ुरान में मलाइका का प्रस्तावसंपादित करें

क़ुरान और हदीस में मलाइका का प्रस्ताव आया है। निम्न मलाइका के नाम देखे जासक्ते हैं।

  • जिब्रील या जिब्रईल -
  • इस्राफ़ील - प्रळय के समय ये मलक "सूर" (एक प्रकार का बाजा - जिस को बजाने से प्रळय संभवित होती है) या "प्रळय नाद" फूंकने वाला।
  • मीकाईल - बारिश बरसाने वाला फरिश्ता
  • अज़्राईल या इज़्राईल - इस मलक का काम मृत्यु प्रदान करना।
  • हारूत - मारूत
  • किरामुन कातिबून -- यह मलाइका मानव के कर्म लिखते रहते हैं।
  • मुनकर - नकीर -- मृत्यु के बाद क़ब्र (समाधी) में सवाल पूछने वाले फ़रिश्ते।
  • मालिक -- जहन्नम या दोज़ख (नरक) का फ़रिश्ता।

यह भी देखियेसंपादित करें