मुख्य मेनू खोलें

महमद तृतीय (उस्मानी तुर्कीयाई : محمد ثالث, महमद-इ सालिस; तुर्कीयाई : III. Mehmet; 26 मई 1566–21 दिसम्बर 1603) 1595 से अपनी मौत तक उस्मानिया साम्राज्य के सुल्तान थे। वे अपने पिता मुराद तृतीय की जगह सुल्तानी तख़्त पर आसीन हुए।

महमद तृतीय
محمد ثالث
उस्मानिया साम्राज्य के सुल्तान
क़ैसर-ए-रूम
ख़ादिम उल हरमैन अश्शरीफ़ैन
ख़लीफ़ा-ए-इस्लाम
Sultan Mehmet III of the Ottoman Empire.jpg
13वें उस्मानी सुल्तान (पादिशाह)
शासनावधि15 जनवरी 1595 – 21/22 दिसंबर 1603
पूर्ववर्तीमुराद तृतीय
उत्तरवर्तीअहमद प्रथम
जन्म26 मई 1566
मनिसा सराय, मनिसा, उस्मानिया
निधन22 दिसंबर 1603 (उम्र 37)
तोपकापी सराय, इस्तांबुल, उस्मानिया
समाधि
महमद तृतीय मज़ार, हागिया सोफिया
बीवियाँख़नदान सुल्तान
हलीमा सुल्तान
एक और बीवी
पूरा नाम
महमद बिन मुराद
शाही ख़ानदानउस्मानी राजवंश
पितामुराद तृतीय
मातासफ़िया सुल्तान
धर्मसुन्नी इस्लाम
तुग़रामहमद तृतीय محمد ثالث के हस्ताक्षर

परिचयसंपादित करें

उस्मानिया साम्राज्य में तख़्त पर आसीन होने के साथ ही "भ्रातृवध" की विवादस्पद परंपरा के आग़ाज़ सुल्तान महमद फ़ातिह के दौर में हुआ और आहिस्ता-आहिस्ता यह परंपरा ज़ोर पकड़ती गई। इसकी बुनियादी वजह नए सुल्तान के लिए बग़ावत के ख़तरों को कम करना था और महमद तृतीय तख़्त पर आसीन होने के तुरन्त बाद भ्रातृवध के इस सिलसिले में, ने उनके 27 भाईयों का वध किया।[1] इसके साथ-साथ उन्होंने अपनी बीस से ज़्यादा बहनों को भी वध किया। वे शासन करने में कोई रुचि नहीं रखते थे और तमाम राजनैतिक अधिकार उनकी माँ सफ़िया सुल्तान के हाथों में थे।[2] इनके दौर की महत्वपूर्ण घटना हंगरी में ऑस्ट्रिया और उस्मानियों के दरमियान युद्ध था जो 1596 से 1605 तक जारी रहा था। युद्ध में उस्मानियों की पराजय के कारण से सुल्तान को सेना की अगुवाई ख़ुद संभालनी पड़ी और वे सुलेमान प्रथम के बाद युद्धक्षेत्र में उतरने वाले पहले उस्मानी शासक थे। इनकी सेना ने 1596 में एगेर पर विजय प्राप्त की और केरेसत्ज़ेस की लड़ाई में हाब्सबर्ग और ट्रांसिल्वेनिया की सेनाओं को हरा दी।[3] अगले साल सुल्तान के वैद्यों ने उनकी बिगड़ती सेहत की वजह से उनको युद्धक्षेत्र में उतरने से मना कर दिया।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Quataert, Donald. The Ottoman Empire, 1700–1922, p.90. Cambridge University Press, 2000. ISBN 0-521-63328-1
  2. Kinross, p.288
  3. Finkel, Caroline. Osman's Dream: The Story of the Ottoman Empire, p.175. Basic Books, 2005. ISBN 0-465-02396-7