महाराजा खड़क सिंह (22 फरवरी 1801 – 5 नवम्बर 1840), सिख साम्राज्य के महाराजा थे। वे महाराजा रणजीत सिंह के सबसे ज्येष्ठ पुत्र थे। सन १८३९ में वे गद्दी पर बैठे।[2]

खड़क सिंह संधावलिया
Kharak Singh.jpg
सिख साम्राज्य के द्वितीय महाराजा
शासनावधि27 जून 1839 – 8 अक्टूबर 1839
राज्याभिषेक1 सितम्बर 1839
पूर्ववर्तीमहाराजा रणजीत सिंह
उत्तरवर्तीनौनिहाल सिंह
Wazirराजा ध्यान सिंह
जन्म22 फरवरी 1801
लाहौर, पंजाब, सिख साम्राज्य
निधन5 नवम्बर 1840(1840-11-05) (उम्र 39)
लाहौर, पंजाब, सिख साम्राज्य
जीवनसंगीबीबी खेम कौर ढिल्लों,[1]
चाँद कौर[2]
संताननौनिहाल सिंह
घरानासंधवालिया जाट सिक्ख
पितामहाराजा रणजीत सिंह
मातामहारानी दातार कौन
धर्मसिख

सन्दर्भसंपादित करें

  1. ""Bibi Khem Kaur Dhillon", URL accessed 11/16/06". मूल से 18 December 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 December 2018.
  2. Āhlūwālīā, M. L. "KHAṚAK SIṄGH MAHĀRĀJĀ (1801–1840)". Encyclopaedia of Sikhism. Punjabi University Patiala. अभिगमन तिथि 19 May 2016.