मुख्य मेनू खोलें

माइ नेम इज़ ख़ान

हिन्दी भाषा में प्रदर्शित चलवित्र


माइ नेम इज़ ख़ान वर्ष 2010 में बनी एक हिन्दी फ़िल्म है। फिल्म के मुख्य कलाकार शाहरुख खान और काजोल देवगन हैं। इसे करन जोहर ने निर्देशित किया है और लिखा है शिबानी बथीजा ने |इसके निर्माता हैं हीरू जोहर, गौरी खान और शाहरुख खान | इस फिल्म को मिलकर बनाया है धर्मा प्रोडक्शन और रेड चिलीस एंटरटेनमेंट ने 100 करोड़ के बजट में जिसके कारण ये 2006 में बालीवुड की सबसे महँगी फिल्म थी |
इसकी रिलीज़ से पहले ही इसने काफी सुर्खियाँ बटोर लीं| 2001 में " कभी खुशी कभी गम " के बाद काजोल और शाहरुख बहुत लंबे समय बाद एक साथ दिखे |माइ नेम इज़ इज़ खान अबू धाबी में 10 फरबरी 2010 को सबसे पहले रिलीज़ हुई | यह अंतर्राष्ट्रीय रूप से 12 फरबरी को रिलीज़ हुई |
इसकी रिलीज़ पर इस फिल्म ने कई रिकॉर्ड तोड़ दिए | ये फिल्म उस समय की सबसे कमाऊ फिल्म बन गयी | चार सप्ताह में इस फिल्म ने 70 करोड़ का आकड़ा पर कर दिया और 2010 की पहली फिल्म बन गयी जिसे 70 करोड़ से ज्यादा की कमाई की | इस समय मई नेम इज़ खान 200 करोड़ रूपये के साथ बॉलीवुड की 10वी सबसे ज्यादा कमाने वाली फिल्म है|ब्लू रे डी.वी.डी. और डी.वी.डी पर ये फिल्म भारत में 28 अप्रैल 2010 को रिलीज़ हुई और 10 अगस्त को अंतरराष्ट्रिय रूप से |

माइ नेम इज़ ख़ान
माय नेम इज़ ख़ान.jpg
निर्देशक करन जौहर
निर्माता गौरी ख़ान
लेखक शिबानी भटिजा
निरंजन आयंगार
अभिनेता शाहरुख़ ख़ान,
काजोल देवगन,
जिमी शेरगिल
संगीतकार शंकर एहसान लोय
प्रदर्शन तिथि(याँ) 11 फरवरी 2010
समय सीमा 161 मिनट
देश भारत
भाषा हिन्दी
उर्दू
अंग्रेज़ी


कथानकसंपादित करें

रिजवान खान (शाहरुख खान) एक मुस्लमान लड़का है जो अपने भाई ज़ाकिर (जिम्मी शेरगिल) और अपनी माँ रज़िया खान (ज़रीना वहाबी) के साथ मुंबई के एक मध्यवर्गी परिवार में रहता है | रिजवान दूसरे बच्चों से अलग है | वह मशीनों को ठीक कर सकता है ये गुण कुदरत ने उसे जन्म से ही दिया है | यही कारण है की उसकी माँ उसकी ज्यादा देखरेख करती है और उसे अलग से एक शिक्षक से उसके घर पर पढ़ने भेजती है ये सब उसके भाई को अच्छा नहीं लगता | उसे रिजवान से जलन होने लगती है और वह घर को छोडकर अमेरिका में रहने के लिए चला जाता है |

अपनी माँ की मौत के बाद ज़ाकिर रिजवान को अपने साथ रहने के लिए सेन फ्रांसिस्को बुला लेता है | जब ज़ाकिर की पत्नी हसीना (सोनिया जेहन) रिजवान का जाँच करती है तो उसे रिजवान की बीमारी (Asperger syndrome) के बारे में पता चलता है | रिजवान ज़ाकिर के लिए काम करना शुरू कर देता है उसी समय उसकी मुलाकात एक हिंदू महिला मंदिरा (काजोल) और उसके बेटे समीर (युवान मक्कड़) से होती है | मंदिरा बाल काटने का काम करती है | रिजवान और मंदिरा शादी कर लेते हैं और बेन्विले नगर में रहने लगते हैं |मंदिरा और समीर दोनों ही अपने नाम के पीछे खान लगा लेते हैं | वे गेरिक परिवार के पड़ोस में ही रहते हैं उनका छोटा बेटा रीस समीर का अच्छा दोस्त है |
रिजवान का अच्छा समय तब बुरा हो जाता है जब 11 सितम्बर को न्यू योर्क में हमला होता है | हमले के बाद न्यू योर्क के लोग मुस्लमान विरोधी हो जाते हैं | इसके बाद एक दोपहर समीर की कुछ अमेरिकन लड़कों से स्कूल के मैदान में लड़ाई हो जाती है रीस लड़ाई को रोकने की कोशिश करता है पर समीर तब तक दम तोड़ देता है है | मंदिरा इस सब से टूट जाती है और रिजवान के मुस्लमान होने के कारण उसे दोष देती है | मंदिरा रिजवान से कहती है की वह उसकी नज़रों से दूर हो जाये | रिजवान उससे पूछता है की उसे मंदिरा के साथ रहने के लिए क्या करना होगा | तो वह उससे कहती है की क्या वह अमेरिका के लोगों और राष्ट्रपति को बता सकता है की वह आतंकवादी नहीं है |
रिजवान मंदिरा की बात को गंभीरता से लेता है और राष्ट्रपति से मिलने के लिए निकल पड़ता है। अपनी यात्रा के दौरान वह विल्हामिना, जॉर्जिया पहुँच जाता है वहाँ उसकी मामा जेनी और उसके बेटे जोएल से दोस्ती हो जाती है। वह लॉस अन्ज्लीस में नमाज़ पढता है वहाँ वह फैसल रहमान (आरिफ ज़कारिया) को मुसलमानों को भड़काते हुए सुनता है और इसकी शिकायत एफ. बी. आई.से करता है पर उसे कोई उत्तर नहीं मिलता।
वह भीड़ में खड़ा होकर बार बार चिल्ला रहा होता है कि मेरा नाम खान है और में आतंकवादी नहीं हूँ। (इंग्लिश में) लेकिन सुरक्षाकर्मी उसे ये सोचकर पकड़ लेते हैं की उसने उसने कहा कि वह एक आतंकवादी है।
हवालात में उससे एक आतंकवादी की तरह पूछताछ की जाती है और उसके साथ बहुत बुरा व्यवहार किया जाता है वहाँ उसकी मुलाकात एक मनोचिकित्सक राधा (शीतल मेनन) से होती है। राधा को भरोसा है की वह पूरी तरह निर्दोष है। मीडिया के द्वारा चलाये गए एक अभियान की वजह से रिजवान को छोड़ दिया जाता है। मिडिया फैसल रहमान का खुलासा कर देती है और रिजवान को निर्दोष साबित कर दिया जाता है। रिहा होने के बाद वह मामा जेनी की मदद करने के लिए चला जाता है (वहाँ तूफान के कारण)। उसकी कोशिशें मीडिया का ध्यान उसकी और आकर्षित करती हैं और धीरे धीरे और लोग भी वहां उसकी मदद के लिए वहाँ आने लगते हैं।
उसके कुछ समय बाद रीस को अपनी गलती का एहसाह होता है और उस गेंग के बारे में बता देता है जिसने समीर को मारा था। जासूस गार्सिया उस गेंग को गिरफ्तार कर लेती है। बाद में मंदिरा को सारा का फ़ोन आता है कि कह रिजवान को माफ़ कर दे।
मंदिरा को अपनी गलती का एहसास होता है और वह उसे माफ़ कर देती है। वह जिओर्जिया में रिजवान से मिलती है पर वहाँ फैसल रहमान का एक समर्थक उसे चाकू मार देता है। उसे तुरंत अस्पताल में भर्ती किया जाता है वहां उसकी जान बचा ली जाती है और वह सही हो जाता है बाद में वह अमेरिका के राष्ट्रपति ओबामा से मिलता है जो खुद कहते हैं की उसका नाम खान है और वह आतंकवादी नहीं है। फिल्म के अंतिम दृश्य में रिजवान और मंदिरा घर लौट जाते हैं।

कलाकारसंपादित करें

दलसंपादित करें

संगीतसंपादित करें

रोचक तथ्यसंपादित करें

परिणामसंपादित करें

बौक्स ऑफिससंपादित करें

समीक्षाएँसंपादित करें

नामांकन और पुरस्कारसंपादित करें

2011 Filmfare Awards

Won

Nominated

2011 Zee Cine Awards

Won[1]

Nominated[2]

2011 Star Screen Awards

Won[3]

Nominated[4]

6th Apsara Film & Television Producers Guild Awards

Won[5]

  • Apsara Award for Best Director – Karan Johar
  • Apsara Award for Best Actor Readers' Choice – Male – Shahrukh Khan

Nominated[6]

  • Apsara Award for Best Film – Dharma Productions
  • Apsara Award for Best Actor in a Leading Role – Male – Shahrukh Khan
  • Apsara Award for Best Actor in a Leading Role – Female – Kajol
  • Apsara Award for Best Story – Shibani Bathija
  • Apsara Award for Best Lyrics – Niranjan Iyengar for "Tere Naina "
  • Apsara Award for Best Music – Shankar Ehsaan Loy
  • Apsara Award for Best Male Singer – Shafqat Amaanat Ali Khan for "Tere Naina"
  • Apsara Award for Best Female Singer – Richa Sharma for "Sajda"
International Indian Film Academy Awards

Won[7]

Nominated

Big Star Entertainment Awards

Won

  • Big Star Award For Best Music – Shankar Ehsan Loy
Nominated
  • सर्वश्रेष्ठ फिल्म के लिए बिग स्टार
The Global Indian Film And Television Honors

Won[7]

  • Best Actor in a Lead Role – Male – Shahrukh Khan
  • Best Actor in a Supporting Role – Female – Zarina Wahab

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

  1. "Winners of Zee Cine Awards 2011". Bollywood Hungama. अभिगमन तिथि 14 जनवरी 2011.
  2. "Nominations for Zee Cine Awards 2011". Bollywood Hungama. अभिगमन तिथि 7 जनवरी 2011.
  3. "Winners of 17th Annual Star Screen Awards 2011". Bollywood Hungama. अभिगमन तिथि 7 जनवरी 2011.
  4. "Nominations for 17th Annual Star Screen Awards 2011". Bollywood Hungama. अभिगमन तिथि 7 जनवरी 2011.
  5. "Winners of 6th Apsara Film & Television Producers Guild Awards". Bollywood Hungama. अभिगमन तिथि 12 जनवरी 2011.
  6. "Nominations for 6th Apsara Film & Television Producers Guild Awards". Bollywood Hungama. अभिगमन तिथि 7 जनवरी 2011.
  7. "My Name is Khan : Awards and Nominations". Bollywood Hungama. अभिगमन तिथि 16 अगस्त 2011.