मुख्य मेनू खोलें

मुंबई के विद्यालय या तो नगरपालिका विद्यालय होते हैं,[1] या निजी विद्यालय होते हैं, जो किसी न्यास या व्यक्ति द्वारा चलाये जा रहे होते हैं। इनमें से कुछ निजी विद्यालयों को सरकारी सहायता भी प्राप्त होती है।[2] ये विद्यालय महाराष्ट्र स्टेट बोर्ड, अखिल भारतीय काउंसिल ऑफ इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्ज़ामिनेशंस (आई.सी.एस.ई) या सीबीएसी बोर्ड द्वारा संबद्ध होते हैं।[3] यहां मराठी या अंग्रेज़ी शिक्षा का माध्यम होता है।[4] सरकारी सार्वजनिक विद्यालयों में वित्तीय अभाव के चलते बहुत सी कमियां होती हैं, किंतु गरीब लोगों का यही सहारा है, क्योंकि वे महंगे निजी विद्यालय का भार वहन नहीं कर सकते हैं।[5]

१०+२+३/४ योजना के अंतर्गत, विद्यार्थी दस वर्ष का विद्यालय समाप्त कर दो वर्ष कनिष्ठ कालिज (ग्यारहवीं और बारहवीं कक्षा) में भर्ती होते हैं। यहां उन्हें तीन क्षेत्रों में से एक चुनना होता है: कला, विज्ञान या वाणिज्य।[6] इसके भाद उन्हें सामान्यतया एक ३-वर्षीय स्नातक पाठ्यक्रम अपने चुने क्षेत्र में कर ना होता है, जैसे विधि, अभियांत्रिकी या चिकित्सा इत्यादि।[7] शहर के अधिकांश महाविद्यालय मुंबई विश्वविद्यालय से सम्बद्ध हैं, जो स्नातओं की संख्यानुसार विश्व के सबसे बड़े विश्वविद्यालयों में से एक है।[8] भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (बंबई),[9] वीरमाता जीजाबाई प्रौद्योगिकी संस्थान (वी.जे.टी.आई),[10] और युनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी (यू.आई.सी.टी),[11] भारत के प्रधान अभियांत्रिकी और प्रौद्योगिकी संस्थानों में आते हैं और [[एस एन डी टी महिला विश्वविद्यालय मुंबई के स्वायत्त विश्वविद्यालय हैं।[12] मुंबई में जमनालाल बजाज प्रबंधन शिक्षा संस्थान, एस पी जैन प्रबंधन एवं शोध संस्थान एवं बहुत से अन्य प्रबंधन महाविद्यालय हैं।[13] मुंबई स्थित गवर्नमेंट लॉ कालिज तथा सिडनहैम कालिज, भारत के पुरातनतम क्रमशः विधि एवं वाणिज्य महाविद्यालय हैं।[14][15] सर जे जे स्कूल ऑफ आर्ट्स मुंबई का पुरातनतम कला महाविद्यालय है।[16]

मुंबई में दो प्रधान अनुसंधान संस्थान भी हैं: टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (टी.आई.एफ.आर), तथा भाभा आण्विक अनुसंधान केन्द्र (बी.ए.आर.सी).[17] भाभा संस्थान ही सी आई आर यू एस, ४० मेगावाट नाभिकीय भट्टी चलाता है, जो उनके ट्राँबे स्थित संस्थान में स्थापित है।[18]

इन्हें भी देखें: मुंबई में कालिजों की सूची

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "City has 43 one-teacher schools". मिड डे. MiD-Day Infomedia. 2006-09-24. अभिगमन तिथि 2009-06-09.
  2. Altbach 1968, पृष्ठ 30
  3. Mukherji, Anahita (2009-04-02). "Education board tells schools to get state recognition". द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया . अभिगमन तिथि 2009-06-09.
  4. "Now, schools can teach in 2 languages". द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया . 2006-05-05. अभिगमन तिथि 2009-06-09.
  5. Kak, Subhash (2004-07-13). "Saving India through Its Schools". रीडिफ News. रीडिफ. अभिगमन तिथि 2009-05-13.
  6. "Are you cut out for Arts, Science or Commerce?". रीडिफ News. रीडिफ. 2008-06-19. अभिगमन तिथि 2009-06-09.
  7. Sharma, Archana (2004-06-04). "When it comes to courses, MU dishes up a big buffet". द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया . अभिगमन तिथि 2009-06-09.
  8. "History". मुम्बई विश्वविद्यालय. अभिगमन तिथि 2009-06-09.
  9. "IIT flights return home". डेली न्यूज़ एण्ड एनालिसिस (DNA). 2006-12-22. अभिगमन तिथि 2009-06-09.
  10. "About the Institute". Veermata Jijabai Technological Institute (VJTI). अभिगमन तिथि 2009-06-09.
  11. "Admission process for autonomous engg colleges to start today". Indian Express Group. 2008-06-11. अभिगमन तिथि 2009-06-09.
  12. "About University". SNDT Women's University. अभिगमन तिथि 2009-06-09.
  13. Bansal, Rashmi (2004-11-08). "Is the 'IIM' brand invincible?". रीडिफ News. रीडिफ. अभिगमन तिथि 2009-06-09.
  14. "Sydenham College: Our Profile". Sydenham College. अभिगमन तिथि 2009-04-26.
  15. "About The Government Law College". Government Law College. अभिगमन तिथि 2009-04-26.
  16. Martyris, Nina (2002-10-06). "JJ School seeks help from new friends". द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया . अभिगमन तिथि 2009-05-13.
  17. "University ties up with renowned institutes". डेली न्यूज़ एण्ड एनालिसिस (DNA). 2006-11-24. अभिगमन तिथि 2009-06-09.
  18. "CIRUS reactor". Bhabha Atomic Research Centre (BARC). अभिगमन तिथि 2009-05-12.