मुहम्मद ज़करिया कांधलवी

मुहम्मद ज़कारिया इब्न मुहम्मद यहया सिद्दीकी कांधलवी सहारनपुरी मुहाजिर मदनी ( मुअम्मद ज़कारिया इब्न मुहम्मद यहया अ-सिद्दीक़ी अल-कांधलवी (2 फरवरी 1998 – 24 मई 1982) भारत में इस्लामिक विचारधारा के देवबंदी स्कूल के सुन्नी हनफ़ी हदीस विद्वान थे, जिन्हें "हज़रत शेख अल-हदीथ" पुकारा जाता था और वह तब्लीगी जमात के एक प्रभावशाली विचारक थे, जो उनके चाचा मौलाना मुहम्मद इलियास द्वारा स्थापित किया था। । उनकी उल्लेखनीय रचनाएँ अवजज़ अल-मसालिक हैं , जो इमाम मलिक के मुवत्ता</i> पर छह खंडों में एक अरबी टिप्पणी है, और खसायल-ए नबवी, इमाम तिर्मीज़ी के शामाईल का उर्दू अनुवाद और टिप्पणी हैं। [1]

नामसंपादित करें

प्रारंभिक जीवन और शिक्षासंपादित करें

गंगोह में प्रारंभिक शिक्षासंपादित करें

मजाहिर उलूम सहारनपुर में पढ़ाई शुरूसंपादित करें

हदीस का दावरासंपादित करें

टीचिंग करियरसंपादित करें

विशेषज्ञतासंपादित करें

मौतसंपादित करें

सूफीवादसंपादित करें

  1. Maliq.S, Abdul. "Moulana Muhammad Zakariyya Hayatuhu Wa A Maluhu". Department of Arabic, University of Madras.