अर्थशास्त्र
GDP PPP Per Capita IMF 2008.svg
सामान्य श्रेणियां

व्यष्टि अर्थशास्त्र · समष्टि अर्थशास्त्र
आर्थिक विचारों का इतिहास
कार्यप्रणाली · मुख्यधारा और विधर्मिक

गणितीय और सांख्यिकीय प्रणाली

गणितीय अर्थशास्त्र  · खेल सिद्धांत
इष्टतमीकरण · अभिकलनात्मक
अर्थमिति  · प्रयोगात्मक
आंकड़े · राष्ट्रीय लेखा

क्षेत्र और उप-क्षेत्र

व्यवहारवादी · सांस्कृतिक · विकासवादी
वृद्धि · वैकासिक · इतिहास
अंतर्राष्ट्रीय · आर्थिक व्यवस्था
मौद्रिक और वित्तीय अर्थशास्त्र
सार्वजनिक और कल्याण अर्थशास्त्र
स्वास्थ्य · शिक्षा · कल्याण
जनसांख्यिकी · श्रम · प्रबन्धकीय
व्यावसायिक · सूचना
औद्योगिक संगठन · कानून
कृषि · प्राकृतिक संसाधन
पर्यावरण · पारिस्थितिक
शहरी · ग्रामीण · क्षेत्रीय · भूगोल

सूचियाँ

पत्रिकाऐं · प्रकाशन
श्रेणियाँ · रूपरेखा · अर्थशास्त्री

व्यापार और अर्थशास्त्र प्रवेशद्वार

आर्थिक मूल्य, किसी आर्थिक एजेंट को कोई वस्तु या सेवा द्वारा प्रदत्त लाभ का माप हैं।

यह ध्यान में रखा जाना चाहिए कि आर्थिक मूल्य और बाज़ार भाव समान नहीं हैं, और ना ही आर्थिक मूल्य और बाज़ार मूल्य एक समान हैं। मूल्य की अवधारणा अर्थशास्त्र में केन्द्रीय है। इसको मापने का एक तरीका वस्तु का बाजार भाव है। एडम स्मिथ ने श्रम को मूल्य के मुख्य श्रोत के रूप में परिभाषित किया। "मूल्य के श्रम सिद्धान्त" को कार्ल मार्क्स सहित कई अर्थशास्त्रियों ने प्रतिपादित किया है। इस सिद्धान्त के अनुसार किसी सेवा या वस्तु का मूल्य उसके उत्पादन में प्रयुक्त श्रम के बराबर होत है। अधिकांश लोगों का मानना है कि इसका मूल्य वस्तु के दाम निर्धारित करता है। दाम का यह श्रम सिद्धान्त "मूल्य के उत्पादन लागत सिद्धान्त" से निकटता से जुड़ा हुआ है।


सन्दर्भसंपादित करें