युगान्तर

भारतीय स्वतंत्रता के लिए बंगाल में सक्रिय गुप्त क्रांतिकारी समूह

युगान्तर (बांग्ला: যুগান্তর ; उच्चारण : जुगान्तर ) भारत की स्वतंत्रता के लिये सशस्त्र आन्दोलन करने वाला एक गुप्त संगठन था। यह मुख्यतः बंगाल में सक्रिय थ और बंगाल में पनपे दो प्रमुख क्रांतिकारी संगठनों में से एक था। अनुशीलन समिति के साथ मतभेद के कारण 'युगान्तर' का जन्म हुआ। अरविन्द घोष, बारीन घोष, उल्लासकर दत्त आदि इसके प्रमुख नेता थे। [[खुदीराम बोस और प्रफुल्ल चाकी इसी दल के सदस्य थे।

जुगान्तर पार्टी के पास ढलवा लोहे से बने बम के खोखे हुआ करते थे जो उन लोगों ने १९३० में स्वयं निर्मित किए थे।

उल्लेखयोग्य सदस्यसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें