येसूबाई (1719 ए डी), मराठा छत्रपति संभाजी की पत्नी थीं। 

वह पिलाजीराव शिरके, एक मराठा सरदार (मुखिया) जो कि छत्रपति शिवाजी की सेवाओं में थे, उनकी बेटी थीं।

जब रायगढ़ के मराठा किले पर  मुग़लों द्वारा 1689 में कब्जा कर लिया गया था, तब येसूबाई को उनके युवा पुत्र शाहु के साथ कैद कर लिया गया था। हालांकि उनको हर जगह औरंगजेब के साथ लेजाया जाता था पर फिर भी उसने (औरंगजेब) कभी भी उनका ध्यान नहीं रखा। 1707 में औरंगजेब की मृत्यु के बाद, उनका बेटा आजम सम्राट बना और उसने मराठा रैंकों में विभाजन को प्रोत्साहित करने के लिए, शाहु को जारी किया। हालांकि, मुग़लों ने येसूबाई को एक दशक के लिए कैद में रखा था, यह सुनिश्चित करने के लिए कि शाहु अपनी रिहाई पर हस्ताक्षर किए गए संधि की शर्तों पर ध्यान रखे।

आखिर 1719 में, पेशवा बालाजी विश्वनाथ भट ने उन्हें वहाँ से एक व्यापक संधि के साथ छुड़वा लिया जिसे मुग़लों की मान्यता प्राप्त थी और उसमें शाहु को शिवाजी का असली उत्तराधिकारी माना गया था।

सन्दर्भसंपादित करें