मराठा साम्राज्य या मराठा महासंघ एक भारतीय साम्राज्यवादी शक्ति थी जो 1645 से 1818 तक अस्तित्व में रही। मराठा साम्राज्य की नींव छत्रपती शिवाजी महाराज ने 1645 में डाली। उन्होने कई वर्ष औरंगज़ेब के मुगल साम्राज्य से संघर्ष किया। बाद में छत्रपती संभाजी महाराज के राज और अनके बलिदान की प्रेरणा स्वराज्य एक साम्राज्य बनकर उत्तर भारत तक बढाया, ये साम्राज्य 1818 तक चला और लगभग पूरे भारत में फैल गया।

मराठा साम्राज्य

1645–1818

ध्वज

1758 में मराठा साम्राज्य (केसरिया) एवं अन्य राज्य
राजधानी रायगढ़
भाषाएँ मराठी, संस्कृत[1]
धार्मिक समूह हिंदू धर्म
शासन स्वराज
छत्रपति
 -  1664–1680 छत्रपती शिवाजी महाराज (प्रथम)
 -  1808–1818 छत्रपती संभाजी (अंतिम)
पेशवा
 -  1674–1689 मोरोपंत त्र्यंबक पिंगले (प्रथम)
 -  1795–1818 बाजीराव द्वितीय (अंतिम)
विधायिका अष्टप्रधान
इतिहास
 -  27 वर्षों का युद्ध ak 1645
 -  तीसरा एंग्लो मराठा युद्ध 1818
क्षेत्रफल
28,00,000 किमी ² (10,81,086 वर्ग मील)
जनसंख्या
 -  1700 est. 15,00,00,000 
मुद्रा रुपया, पैसा, मोहर, शिवराय, होन
आज इन देशों का हिस्सा है: Flag of India.svg भारत
Flag of Pakistan.svg पाकिस्तान
Flag of Bangladesh.svg बांग्लादेश
Warning: Value specified for "continent" does not comply

हस्तियांसंपादित करें

सातारा वंशसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें