मुख्य मेनू खोलें
इन्दौर रियासत
Indore State
होलकर रियासत
ब्रिटिश भारत

1818 – 1948
Flag राज्य-चिह्न
Flag Coat of arms
स्थिति होलकर
इंदौर रियासत का मानचित्र, पड़ोसी रियासतों ग्वालियर और भोपाल के बीच स्थित एन्क्लेव।
राजधानी इन्दौर
महेश्वर
इतिहास
 - मराठा संघ, ब्रिटिश संरक्षक 1818
 - भारत की स्वतंत्रता 15 जून, 1948
क्षेत्रफल
 - 1931 24,605 किमी² (9,500 वर्ग मील)
जनसंख्या
 - 1931 13,25,089 
     घनत्व 53.9 /किमी²  (139.5 /वर्ग मील)
वर्तमान भाग मध्य प्रदेश, भारत
राजवाड़ा, इन्दौर
सुखनिवास पैलेस


इन्दौर रियासत, जिसे होल्कर रियासत भी कहा जाता है,[1] ब्रिटिश राज के दौरान भारत का एक मराठा रियासत था। उसके शासक होलकर राजवंश के थे और मध्य भारत एजेंसी के अधीन था। इन्दौर रियासत को 19 गन सैल्यूट (21 स्थानीय स्तर) प्राप्त था।

इन्दौर रियासत, वर्तमान-भारतीय राज्य मध्य प्रदेश में स्थित था। रियासत की राजधानी इन्दौर शहर थी। रियासत का क्षेत्रफल 24,605 ​​किमी² था और 1931 में इसकी आबादी 1,325,089 थी; इन्दौर के अलावा अन्य महत्वपूर्ण शहरों में महेश्वर, रामपुरा, खरगोन, मेहदपुर, बड़वाह और भानपुर थे। यहाँ कुल 3,368 गांव भी थे।[2]

अनुक्रम

इतिहाससंपादित करें

शहर में बढ़ती व्यावसायिक गतिविधियों के कारण 1720 को, स्थानीय परगना का मुख्यालय कांपेल से इंदौर स्थानांतरित कर दिया गया। 18 मई 1724 को, निजाम ने क्षेत्र से चौथ (करों) को इकट्ठा करने के लिए मराठा पेशवा बाजीराव प्रथम के अधिकारों को स्वीकार कर लिया। 1733 में, पेशवा ने मालवा पर पूर्ण नियंत्रण ग्रहण कर लिया और अपने सेनापति मल्हारराव होलकर को प्रांत का सुबेदार के तौर पर नियुक्त कर दिया।

29 जुलाई 1732 को, पेशवा बाजीराव प्रथम ने 28 और अर्ध परगनाओं को होलकर वंश के संस्थापक मल्हारराव होलकर को सौंप कर होलकर रियासत को मान्यता दे दी। मल्हारराव की पुत्रवधु अहिल्याबाई होलकर ने रियासत की राजधानी को 1767 में महेश्वर में स्थानांतरित कर दी, लेकिन इन्दौर एक महत्वपूर्ण वाणिज्यिक और सैन्य केंद्र बना रहा। तीसरे आंग्ल-मराठा युद्ध में होलकर शासकों की हार के बाद, 6 जनवरी 1818 को अंग्रेजों के साथ एक समझौता हुआ और इंदौर रियासत, ब्रिटिश संरक्षक बन गया। होलकर वंश अपने दिवान (मुख्यमंत्री) तात्या जोग के प्रयासों के कारण इन्दौर को एक राजसी रियासत के रूप में शासन करने में सक्षम रहा।

3 नवंबर 1818 को राजधानी महेश्वर से पुनः इंदौर स्थानांतरित कर दिया गया, और इंदौर रेजीडेंसी, ब्रिटिश नागरिक के लिये एक राजनीतिक आवास, शहर में स्थापित किया गया। बाद में इंदौर की स्थापना ब्रिटिश मध्य भारत एजेंसी के मुख्यालय के रूप में की गई। 1906 में शहर में बिजली की आपूर्ति शुरू हुई, और फायर ब्रिगेड की स्थापना 1909 में में की गई। 1918 में, शहर का पहला मास्टर प्लान, विख्यात वास्तुकार और शहर के योजनाकार पैट्रिक गेड्स द्वारा तैयार किया गया था।

महाराजा तुकोजीराव होल्कर द्वितीय (1852-86) की अवधि के दौरान इंदौर में योजनाबद्ध विकास और औद्योगिक विकास के लिए प्रयास किए गए थे। 1875 में रियासत में शुरू की गई रेलवे के कारन इंदौर में महाराजा शिवाजीराव होल्कर, तुकोजीराव होलकर तृतीय और महाराजा यशवंतराव होलकर के शासनकाल के दौरान व्यापार काफी फला-फुला।

1926 में, महाराजा तुकोजी राव तृतीय होलकर, एक नर्तक और उसके प्रेमी से जुड़े हत्या के मामले में जुड़े होने के बाद अपने पद से त्याग दे दिया था।[3]

स्वतंत्रता के बादसंपादित करें

1947 में भारत की स्वतंत्रता के बाद, इंदौर रियासत, कई पड़ोसी रियासतों के साथ-साथ भारत में शामिल हो गया। रियासत के अंतिम शासक यशवंतराव होलकर द्वितीय ने 1 जनवरी 1950 को भारतीय संघ में विलय संधि पर हस्ताक्षर किए। रियासत के क्षेत्र, भारत के मध्य भारत राज्य का हिस्सा बन गये।

शासकसंपादित करें

इन्दौर के राजाओं ने "होलकर महाराजा" की पदवी ग्रहण की हुई थी। ब्रिटिश अधिकारियों द्वारा राज्य के शासकों को 19 बंदूक की सलामी प्रदान की गई थी।[4]

शासक (होलकर महाराजा)संपादित करें

नाम जन्म मृत्यु शासनकाल
मल्हारराव होलकर 1694 1766 1731 – 20 मई 1766
मालेराव होलकर 1745 1767 20 May 1766 – 5 Apr 1767
अहिल्याबाई होलकर, राज्य-संरक्षक 1725 1795 Apr 1767 – 13 Aug 1795
तुकोजीराव होलकर 1723 1797 13 अगस्त 1795 – 29 जनवरी 1797
(अप्रैल 1767 से सह-शासक के रूप में भी सूचीबद्ध)
काशीराव होल्कर ? 1808 29 जनवरी 1797 – जनवरी 1799
खांडेराव होलकर 1798 1806 जनवरी 1799 – 1806
यशवंतराव होलकर 1776 1811 1806 – 27 अक्टुबर 1811
(जन. 1799 से राज्य-संरक्षक)
मल्हार राव तृतीय होलकर 1801 1833 नवम्बर 1811 – 27 अक्टुबर 1833
महारानी तुलसी बाई, राज्य-संरक्षक ? 1817 नवम्बर 1811 – 20 Dec 1817
मार्टंडराव होलकर 1830 1849 27 अक्टुबर 1833 – 2 फरवरी 1834
हरिराव होलकर 1795 1843 2 फरवरी 1834 – 24 अक्टुबर 1843
खांडेराव द्वितीय होलकर 1828 1844 24 अक्टुबर 1843 – 17 फरवरी 1844
महारानी माजी, प्रथम राज्य-संरक्षक ? 1849 24 अक्टुबर 1843 – 17 फरवरी 1844
तुकोजीराव द्वितीय होलकर
(नाइटेड 25 जून 1861)
1835 1886 27 जुन 1844 – 17 जुन 1886
महारानी माजी, द्वितीय राज्य-संरक्षक ? 1849 27 जुन 1844 – सितम्बर 1849
शिवाजीराव होलकर
(नाइटेड 30 जून 1887)
1859 1908 17 जुन 1886 – 31 जनवरी 1903
तुकोजीराव तृतीय होलकर
(नाइटेड 1 जन. 1918)
1890 1978 31 जनवरी 1903 – 26 फरवरी 1926
यशवंतराव द्वितीय होल्कर
(नाइटेड 1 जन. 1935)
1908 1961 26 फरवरी 1926 – 15 अगस्त 1947
उषा देवी होलकर, 1961 वर्तमान

चित्र दीर्घासंपादित करें

अपने राज्य हाथी पर सवार इंदौर के महाराजा। 
महारानी श्रीमंत चंद्रवतीबाई होलकर, महाराजा तुकोजीराव होलकर तृतीय की पहली पत्नी। 
महारानी इंदिराबाई होलकर, महाराजा तुकोजीराव होलकर तृतीय की दूसरी पत्नी। 

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Princely States of India
  2. Great Britain India Office. The Imperial Gazetteer of India. Oxford: Clarendon Press, 1908.
  3. Jhala, Angma Dey (2016). Courtly Indian Women in Late Imperial India ("The Body, Gender and Culture") by. London New York: Routledge. पृ॰ 125. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1138663640. अभिगमन तिथि 1 February 2017.
  4. Indore Princely State (19 gun salute)

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें