मुख्य मेनू खोलें
सयाजीराव गायकवाड़ तृतीय

महाराजा सयाजीराव गायकवाड़ तृतीय (मूल नाम : श्रीमन्त गोपालराव गायकवाड ; 11 मार्च, 1863 – 6 फरवरी, 1939) सन १८७५ से १९३९ तक बड़ोदा रियासत के महाराजा थे। उन्होने अपने शासनकाल में वडोदरा की कायापलट कर दी थी। इनको भारतीय पुस्तकालय आंदोलन का जनक भी माना गया है इन्होने इस आन्दोलन की शुरुआत सन 1910 मे की थी गायकवाड़ एक दूरदर्शी एवं विद्धान शासक थे

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें