योद्धा का कार्य युद्ध करना होता है। संसार में अनेकों योद्धा हुए हैं। कर्ण, द्रोणाचार्य, अर्जुन इत्यादि ये सभी योद्धा थे। योद्धा को संस्कृत में लोधम कहा जाता है [1] भारत में कई योद्धा तो धर्म की रक्षा के लिए लड़े। ऐसे योद्धाओं को धर्म योद्धा भी कहा जाता है।[2]

ऐतिहासिक योद्धासंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 25 नवंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 सितंबर 2017.
  2. "संग्रहीत प्रति". मूल से 20 अगस्त 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 सितंबर 2017.