राणा एक ऐतिहासिक शीर्षक है जिसका चलन प्राचीन समय में था। पुराने समय [1] में ज्यादातर मेवाड़ के शासक इस शीर्षक को अपने नाम के आगे लगाते हैं। सबसे पहले राणा राणा हम्मीर सिंह थे जिन्होंने इस ऐतिहासिक शीर्षक को अपने नाम के आगे रखा था।[2][3][4]

जबकि रानी शीर्षक का प्रयोग राणा की पत्नियों के लिए किया जाता था।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Seesodia, Jessrajsingh (1915). The Rajputs: A Fighting Race. East and West, ltd. पृ॰ 41. मूल से 1 अप्रैल 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 जनवरी 2017.
  2. Bhattarai, Krishna (2009). Nepal. Infobase Publishing. पृ॰ 42. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781438105239. मूल से 19 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 जनवरी 2017.
  3. "Rajput appeal from Amarkot". The News International, Pakistan. 24 July 2013. मूल से 12 सितंबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 September 2015.
  4. "Rana kin in Pakistan for mourning". The Times of India. मूल से 8 नवंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 September 2015.