मुख्य मेनू खोलें

रूप तेरा मस्ताना

1972 की खालिद अख़्तर की फ़िल्म

रूप तेरा मस्ताना 1972 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। यह बलदेव पुष्करणा और एम॰ एम॰ मल्होत्रा द्वारा निर्मित की गई और खालिद अख्तर द्वारा इसका निर्देशन किया गया। इसमें जितेन्द्र, मुमताज़, प्राण मुख्य भूमिकाओं में हैं और लक्ष्मीकांत प्यारेलाल द्वारा संगीत दिया गया है।

रूप तेरा मस्ताना
रूप तेरा मस्ताना.JPG
रूप तेरा मस्ताना का पोस्टर
निर्देशक खालिद अख़्तर
निर्माता एम॰ एम॰ मल्होत्रा
बलदेव पुष्करणा
लेखक के॰ बी॰ लाल
अभिनेता जितेन्द्र,
मुमताज़,
प्राण
संगीतकार लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
प्रदर्शन तिथि(याँ) 4 नवंबर, 1972
देश भारत
भाषा हिन्दी

अनुक्रम

संक्षेपसंपादित करें

राजकुमारी उषा का निजी सहायक अजीत (प्राण), उसे खत्म कर देता है और कुछ दिनों के लिए उस जैसी दिखने वाली किरन (मुमताज़) को ले आता है। हालांकि किरन गरीब है, वह ऐसा करने से इनकार कर देती है। फिर अजीत उसे और उसके परिवार को धमकाता है, और वह अनिच्छा से सहमत हो जाती है।

वह उषा के मंगेतर, एक राजकुमार (जितेन्द्र) से मिलती है और उसके साथ प्यार में पड़ जाती है। वह यह महसूस नहीं करती कि उसकी भावनाएँ जल्द ही इतिहास बन जायेंगी, जब उन कुछ दिनों का अंत होगा। फिर उसे यह समृद्ध जीवन शैली छोड़ देनी होगी और गरीबी में रहने के लिए वापस जाना होगा।

मुख्य कलाकारसंपादित करें

संगीतसंपादित करें

सभी लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल द्वारा संगीतबद्ध।

क्र॰शीर्षकगीतकारगायनअवधि
1."आकाश पे दो तारें"असद भोपालीमहेन्द्र कपूर, लता मंगेशकर6:40
2."बन के ठन के"वर्मा मलिकलता मंगेशकर4:55
3."बुड्ढे पे आ गई जवानी"वर्मा मलिकमोहम्मद रफ़ी7:34
4."देख लो वो घटा चाँद पर"असद भोपालीलता मंगेशकर3:36
5."हसीन दिलरुबा करीब आ"असद भोपालीमोहम्मद रफ़ी5:00
6."दिल की बातें दिल ही जाने"असद भोपालीकिशोर कुमार, लता मंगेशकर5:30
7."बड़े बेवफा हैं ये हुस्न वाले"आनंद बख्शीमोहम्मद रफ़ी5:58
कुल अवधि:39:14

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें