लेंसनुमा गैलेक्सी या लॅन्टिक्युलर गैलेक्सी किसी लेंस के आकार वाली गैलेक्सी को कहते हैं और यह हबल अनुक्रम में सर्पिल गैलेक्सी और अन्डेनुमा गैलेक्सी की दो श्रेणियों के बीच की एक श्रेणी है।[1][2] सर्पिल गैलेक्सियों की तरह यह भी एक चक्र के आकार में होती हैं लेकिन इनके अंतरतारकीय माध्यम में अक्सर बहुत कम घनत्व होता है क्योंकि यह वहाँ की अधिकाँश धूल, गैस और प्लाज़्मा खो चुकी होती हैं। इस वजह से इनमें नए तारे बहुत कम बनते हैं और इनके अधिकतर तारे बूढ़े हो रहे होते हैं। जहाँ सर्पिल गैलेक्सियों में भुजाएं एक मुख्य आकृति होती हैं, वहाँ लेंसनुमा गैलेक्सियों में यह भुजाएं साफ़ नहीं बनी होतीं और अगर पृथ्वी से इन्हें ऊपर से न देखा जा सके तो इनमें और अन्डेनुमा गैलेक्सियों में अंतर बताना मुश्किल होता है।

स्पिंडल गैलेक्सी (जिसे ऍन॰जी॰सी॰ ५८६६ भी कहते हैं) एक लेंसनुमा गैलेक्सी है - हालांकि बहुत सी लेंसनुमा गैलेक्सियों में अंतरतारकीय माध्यम में धूल बहुत कम होती है, इस वाली में बहुत है और इस चित्र में साफ़ देखी जा सकती है

अन्य भाषाओँ मेंसंपादित करें

अंग्रेज़ी में "लेंसनुमा गैलेक्सी" को "लॅन्टिक्युलर गैलॅक्सी" (lenticular galaxy) कहते हैं।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Hubble, E. P. (1926). "Extra-galactic nebulae". Contributions from the Mount Wilson Observatory / Carnegie Institution of Washington. 324: 1–49. बिबकोड:1926CMWCI.324....1H.
  2. Hubble, E. P. (1936). The Realm of the Nebulae. New Haven: Yale University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 36018182 |isbn= के मान की जाँच करें: length (मदद).