लोहार

पारमपारिक रूप से लोहे के औजार बनाने वाला ब्यक्ति

लोहे का काम करने वालो को लोहार कहा जाता है। लोहार पहले लोहे का काम करते थे। भारत में लोहार एक प्रमुख व्यावसायिक जाति है।

लोहार
Gouache painting on mica of a blacksmith.jpg
लोहार का काम
व्यवसाय
व्यवसाय प्रकार
व्यवसाय
गतिविधि क्षेत्र
पेशा
विवरण
दक्षता(एं)शारीरिक शक्ति, अवधारणा
रोज़गार
का क्षेत्र
कलाकार, शिल्पकार
संबंधित काम
नालबन्द

"लोहार" शब्द का अर्थ है जो लोहा या इस्पात का उपयोग करके विभिन्न वस्तुएँ बनाता है। हथौड़ा, छेनी, धौंकनी आदि औजारों का पयोग करके लोहार फाटक, ग्रिल, रेलिंग, खेती के औजार, बर्तन एवं हथियार आदि बनाता है।

  • भारत में लोहार एक प्रमुख व्यावसायिक जाति है। जाति के आधार से लोहार पिछड़े वर्ग में आता है। लौह शिल्प – लौहकार ब्राह्मण है।अथर्ववेदीय विश्वकर्मा ब्राह्मण कहलाते हैं

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें