विजयपथ 1994 में बनी हिन्दी भाषा की नाटकीय एक्शन फ़िल्म है। मुख्य भूमिका में अजय देवगन, तबु और डैनी डेन्ज़ोंगपा हैं। दिव्या भारती को इस फिल्म में लिया गया था, लेकिन उनकी अचानक मौत के कारण तबु ने उनकी जगह ली थी।[1] यह फिल्म 1994 की हिट फिल्मों में से एक थी, मुख्य रूप से अनु मलिक द्वारा रचित साउंडट्रैक के कारण जो तत्काल सुपरहिट बन गया।

विजयपथ
विजयपथ.jpg
विजयपथ का पोस्टर
निर्देशक फारूक सिद्दीकी
निर्माता धीरजलाल शाह
लेखक तलत रेखी
अभिनेता अजय देवगन,
तबु,
डैनी डेन्जोंगपा
सुरेश ओबेरॉय,
गुलशन ग्रोवर,
संगीतकार अनु मलिक
प्रदर्शन तिथि(याँ) 5 अगस्त, 1994
देश भारत
भाषा हिन्दी

संक्षेपसंपादित करें

सक्सेना परिवार में न्यायाधीश सक्सेना, उनकी पत्नी और उनके स्कूल जाने वाले बेटा, बब्लू, उनका चालक, शंकर और उसका बेटा करण, साथ ही न्यायाधीश के पुलिस इंस्पेक्टर भाई राजेश शामिल हैं। उनके क्षेत्र को भवानी सिंह के नाम के स्थानीय गुंडे द्वारा आतंकित किया जा रहा है। राजेश उसे ढूंढता है, उसे गिरफ्तार करता है और इस प्रक्रिया में अपंग हो जाता है। सक्सेना के न्यायालय में भवानी का मुकदमा चलता है। वो दोषी पाया जाता है जिसमें उसे फाँसी की सजा सुनाई जाती है और सजा दी जाती है। भवानी का भाई, दिलावर उसके बेटे शक्ति की देखभाल करने के साथ-साथ उसकी मृत्यु का बदला लेने के लिए कसम खाता है। वह इस कार्य को लगभग तुरंत शुरु करता है। पहले न्यायाधीश सक्सेना की हत्या करता है, फिर शंकर की। करण घायल हो जाता है और अपनी दृष्टि खो देता है। बाकी सक्सेना परिवार ट्रेन से भागता है, लेकिन दिलावर उन्हें पकड़ता है, श्रीमती सक्सेना को मारता है और गंभीर रूप से बब्लू को चोट पहुँचाता है। बब्लू मर जाता है और उसकी आँखों का उपयोग करण की दृष्टि को बहाल करने के लिए किया जाता है। दोनों अपने जीवन को आजमाने और फिर से बनाने के लिए कहीं और जाते हैं। राजेश अब पुलिस में नहीं है और करण रात में भी काला चश्मा पहनने की कसम खाता है जब तक वह अंततः दिलावर को मार ना दे। सालों बाद करण बड़ा हो गया है और मोहिनी से प्यार में है। वो अभी भी काला चश्मा पहनता है, और दिलावार को ढूंढ रहा है। इस बीच, दिलावर, जो अब एक स्थापित और प्रभावशाली नागरिक-सह-गैंगस्टर है और उसका भतीजा शक्ति राजेश और करण को सक्रिय रूप से ढूंढ रहे हैं।

मुख्य कलाकारसंपादित करें

संगीतसंपादित करें

सभी गीत अनु मलिक द्वारा संगीतबद्ध।

गीत सूची
क्र॰शीर्षकगीतकारगायकअवधि
1."आइए आपका इंतजार था" (I)फैज़ अनवरकुमार सानु7:54
2."आइए आपका इंतजार था" (II)फैज़ अनवरसाधना सरगम7:58
3."कल सैया ने ऐसी बॉलिंग की"अनवर सागरअलीशा चिनॉय6:59
4."लड़के आज के लड़के"इन्दीवरअनु मलिक, पूर्णिमा7:10
5."राह में उन से मुलाकात"ज़मीर काज़मीकुमार सानु, अलका याज्ञनिक8:39
6."रुक रुक रुक"श्याम अनुरागीअलीशा चिनॉय7:17
7."सागर संग किनारे हैं"शैली शैलेन्द्रकुमार सानु, अलका याज्ञनिक6:33
8."सीने में दिल है"ज़मीर काज़मीकुमार सानु, साधना सरगम6:14

नामांकन और पुरस्कारसंपादित करें

वर्ष नामित कार्य पुरस्कार परिणाम
1995 तबु फ़िल्मफ़ेयर महिला प्रथम अभिनय पुरस्कार जीत
डैनी डेन्जोंगपा फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ खलनायक पुरस्कार नामित
अलका याज्ञनिक ("राह में उन से मुलाकात") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायिका पुरस्कार नामित
अलीशा चिनॉय ("रुक रुक रुक") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायिका पुरस्कार नामित

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "मौत के बाद अटकी दिव्या भारती की ये 8 फिल्में, दूसरी एक्ट्रेसेस ने की थीं पूरी". दैनिक भास्कर. 27 फरवरी 2016. मूल से 5 अगस्त 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 अगस्त 2018.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें