विद्युत संयोजकता

विद्युत संयोजी बंध या आयनिक बंध

यह बंध परमाणुओ के मध्य इलेक्ट्रॉनों के स्थानांतरण से बनता है। जब दो परमाणुओं के मध्य इलेक्ट्रॉन का स्थानांतरण होता है। तो त्यागने वाले परमाणु पर धनावेश व ग्रहण करने वाले परमाणु पर ऋणावेश आ जाता है। विपरीत आवेश एक दूसरे से जिस बल द्वारा जुड़े होते हैं उसे विद्युत संयोजी बंध या आयनिक बंध कहते हैं।