विभीषण

रामायण के एक प्रमुख पात्र

विभीषण रामायण के एक प्रमुख पात्र हैं। वे रावण के भाई थे। विभीषण बहुत ही बड़े राम भक्त थे। उन्होंने लंका में रहते हुए भी राम भक्ति की, जहाँ भगवान श्री राम का शत्रु रावण का राज था। विभीषण रावण का सबसे छोटा भाई था, जिसने लंका पर शासन किया था। वह ऋषि पुलस्त्य के पुत्र ऋषि विश्रवा और केकसी के सबसे छोटे पुत्र थे। लंका के राजा रावण उनके बड़े भाई थे। हालाँकि विभीषण राक्षस जाति के थे, लेकिन वे पवित्र थे और श्री राम के भक्त थे । उनका व्यवहार सच्चे ब्राह्मणो जैसा था। उन्होंने अपने बड़े भाइयों के साथ ब्रह्मा जी की तपस्या की थी, एवं  वरदान में अपने लिए ये माँगा की वे हमेशा धर्म-पथ पर चले।  विभीषण के गुरु मुनिद्रा ऋषि थे जो मंदोदरी और हनुमान जी के भी गुरु थे।

विभीषण
विभीषण का राज्यभिषेक करते हुए भगवान श्रीराम
लंका के राजा
शासनावधिपुराण के अनुसार, अपने ज्येष्ठ भ्राता रावण के मृत्यु बाद
पूर्ववर्तीरावण
जन्मलंका
जीवनसंगीसरमा
संतानत्रिजटा
घरानापुलस्त्य
पिताविश्रवा
मातानिकषा
विभीषणऔर श्रीरामचंद्र जी महाराज रण भूमि में खड़े हुए।
   

.

सन्दर्भ संपादित करें

बाहरी कड़ियाँ संपादित करें