"दोस्ती (1964 फ़िल्म)": अवतरणों में अंतर

1,135 बाइट्स जोड़े गए ,  9 वर्ष पहले
No edit summary
'''दोस्ती''' 1964 में बनी [[हिन्दी भाषा]] की फिल्म है जिसके निर्देशक [[सत्येन बोस]] और निर्माता अपने [[राजश्री प्रोडक्शन्स]] के तले [[ताराचंद बड़जात्या]] हैं। जैसा फ़िल्म का नाम है, यह फ़िल्म एक अपाहिज लड़के और एक अन्धे लड़के के बीच दोस्ती को दर्शाती है।
== संक्षेप ==
रामनाथ गुप्ता उर्फ़ रामू (सुशील कुमार) के पिता एक फ़ैक्टरी हादसे में चल बसते हैं। जब फ़ैक्टरी उनकी मौत का हर्ज़ाना देने से इन्कार कर देती है तो उसकी माँ यह सदमा बर्दाश्त नहीं कर पाती है और वह भी दम तोड़ देती है। सड़क दुर्घटना में रामू अपनी एक टांग गंवा बैठता है। बेघर, बिन पैसे के और अपाहिज रामू जब [[मुंबई]] की सड़कों की ख़ाक छान रहा होता है तो उसकी मुलाकात मोहन (सुधीर कुमार) नाम के एक अन्धे लड़के से होती है जिसकी कहानी भी रामू के जैसी ही है।
 
== चरित्र ==
== मुख्य कलाकार ==