"आर्यभट" के अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  3 वर्ष पहले
छो
बॉट: वर्तनी एकरूपता।
छो (आंशिक लिप्यंतरण)
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
| quote=Aryabhata gave the correct rule for the area of a triangle and an incorrect rule for the volume of a pyramid. (He claimed that the volume was half the height times the area of the base).}}</ref>
 
आर्यभट ने अपने काम में ''द्विज्या (साइन)'' के विषय में चर्चा की है और उसको नाम दिया है ''अर्ध-ज्या'' इसका शाब्दिक अर्थ है "अर्ध-तंत्री" आसानी की वजह से लोगों ने इसे ''ज्या'' कहना शुरू कर दिया। जब अरबी लेखकों द्वारा उनके काम का [[संस्कृत]] से अरबी में अनुवाद किया गया, तो उन्होंने इसको ''जिबा '' कहा (ध्वन्यात्मक समानता के कारणवश) चूँकि, अरबी लेखन में, स्वरों का इस्तेमाल बहुत कम होता है, इसलिए इसका और संक्षिप्त नाम पड़ गया ''ज्ब'' जब बाद के लेखकों को ये समझ में आया कि ''ज्ब'' ''जिबा'' का ही संक्षिप्त रूप है, तो उन्होंने वापिस ''जिबा'' का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया। जिबा का अर्थ है "खोह" या "खाई" (अरबी भाषा में ''जिबा '' का एक तकनीकी शब्द के आलावा कोई अर्थ नहीं है)। बाद में बारहवीं सदी में, जब [[क्रीमोआ के घेरार्डो|क्रीमोना के घेरार्दो]] ने इन लेखनों का अरबी से [[लैटिन भाषा]] में अनुवाद किया, तब उन्होंने अरबी ''जिबा '' की जगह उसके लेटिन समकक्ष ''साइनस'' को डाल दिया, जिसका शाब्दिक अर्थ "खोह" या खाई" ही है। और उसके बाद अंग्रेजी में, ''साइनस'' ही ''साइन'' बन गया।<ref>{{Cite book
| author = Howard Eves
| title = An Introduction to the History of Mathematics (6th Edition, p.237)
==== सौर प्रणाली की गतियाँ ====
प्रतीत होता है की आर्यभट यह मानते थे कि पृथ्वी अपनी धुरी की परिक्रमा करती है। यह ''श्रीलंका '' को सन्दर्भित एक कथन से ज्ञात होता है, जो तारों की गति का पृथ्वी के घूर्णन से उत्पन्न आपेक्षिक गति के रूप में वर्णन करता है।
: '' अनुलोम-गतिस् नौ-स्थस् पश्यति अचलम् विलोम-गम् यद्-वत्वत्।
: '' अचलानि भानि तद्-वत् सम-पश्चिम-गानि लङ्कायाम् ॥'' (आर्यभटीय गोलपाद ९)
: ''जैसे एक नाव में बैठा आदमी आगे बढ़ते हुए स्थिर वस्तुओं को पीछे की दिशा में जाते देखता है, बिल्कुल उसी तरह श्रीलंका में (अर्थात भूमध्य रेखा पर) लोगों द्वारा स्थिर तारों को ठीक पश्चिम में जाते हुए देखा जाता है।