"श्राद्ध" के अवतरणों में अंतर

202 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
(गैर-ज्ञानकोशीय लेखन हटाया गया)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
[[हिन्दूधर्म]] के अनुसार, प्रत्येक शुभ कार्य के प्रारम्भ में माता-पिता, पूर्वजों को नमस्कार प्रणाम करना हमारा कर्तव्य है, हमारे पूर्वजों की वंश परम्परा के कारण ही हम आज यह जीवन देख रहे हैं, इस जीवन का आनंद प्राप्त कर रहे हैं।
इस धर्म मॆं, ऋषियों ने वर्ष में एक पक्ष को पितृपक्ष का नाम दिया, जिस पक्ष में हम अपने पितरेश्वरों का श्राद्ध, तर्पण, मुक्ति हेतु विशेष क्रिया संपन्न कर उन्हें अर्ध्य समर्पित करते हैं।
 
श्राद्ध अश्विन मास के कृष्ण पर को होता है भाद्र पूर्णिमा से प्रारंभ होता है
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
बेनामी उपयोगकर्ता