मुख्य मेनू खोलें



यह एक सदस्य वार्ता पन्ना है।
कृपया अपने सन्देश के बाद चार टिल्ड (~~~~) टाइप करके अपना हस्ताक्षर करना न भूलें।
यहाँ क्लिक करके नया सन्देश लिखें

Pageसंपादित करें

Dear Hindi Wiki Page https://hi.m.wikipedia.org/wiki/राहुल_मेंघ_आर्य

Create from Reliable Source.These page didn,t Advertise Any Person। These Page Already Checked by Hindi Wiki Team.Dear सदस्य:SM7 Pls Remove L2 Tag.

Google,Yahoo,Bing @Rahul Megh Arya

Thanks

Happy Diwali To All Wiki Team



इन्द्रकील पर्वतसंपादित करें

महाभारत के वन पर्व एवं शिवपुराण के रुद्रसंहिता में स्पष्ट लिखा है कि इन्द्रकील पर्वत उत्तर दिशा एवं हिमालय में स्थित है। और अर्जुन ने शिव की तपस्या गंगा नदी के तट पर की। महाभारत में वर्णित इंद्रकील, कैरात, खांडव वन क्रमशः इंदल- कायान, महादेव, एवं खांडू जैसे स्थानीय नामों से जाने जाते है। कैरात रूपी शिव के साथ अर्जुन युद्ध जो की पुराणों में वर्णित है स्थानीय लोग इद्रकील के साथ इसका भी बखान करते है।आज भी महादेव का भव्य मंदिर यहां पर स्थापित है। एक शिला जिस पर पंजे का निशान बना है अर्जुन की हथेली के निशान माना जाता है। यह स्थान हिमालय के निकटवर्ती (गंगोत्री एवं यमुनोत्री के मध्य) , गंगा नदी के तट पर, महादेव के मंदिर एवं स्थानीय नामों एवं जनश्रुतियों पर आधारित होने के कारण, इसको प्रमाणित किया जा सकता है। [SS Bartwal]

@Surendra Singh Bartwal: जी नमस्ते, देर के लिए माफ़ी चाहता हूँ। महाभारत और पुराणादि में वर्णित स्थानों की वर्तमान अवस्थिति के बारे में अक्सर विवाद रहते हैं। उत्तर दिशा और हिमालय पर होना एक व्यापक इलाका कवर करता है। मैंने इंटरनेट पर जितना खोजा मुझे इसके वर्तमान स्थिति के बारे में उत्तराखंड के आलावा हिमाचल में और कैलाश श्रेणी में होने की बातें भी लिखी दिखीं हालाँकि, वो सभी स्रोत विकिपीडिया के मानकों के अनुसार नहीं थे अतः उन्हें लेख में उद्धृत नहीं किया जा सकता।
दूसरी चीज, विकिपीडिया पर कई स्रोतों से सामग्री लेकर उनके संश्लेषण से कोई निष्कर्ष निकाल कर लिखना मना है, इसे हम मूल शोध कहते हैं, यानी आप ऐसा करके अपनी रिसर्च यहाँ लिख रहे हैं। इसके विपरीत विकिपीडिया पर वे बातें ससंदर्भ लिखी जाती हैं जिन्हें अन्य लोगों ने निष्कर्ष के रूप में माना हो और उनके निष्कर्ष प्रतिष्ठित प्रकाशन से छपे हुए हों। अतः यदि इस पर्वत के बारे में कुछ लोगों से शोध किया हो और वह चीजें प्रकाशित हों, पर्याप्त मात्रा में हो, और संबंधित विषय के लोगों में इसे मान्यता हो तो ही हम उन स्रोतों का उद्धरण देकर लिख सकते।
उपरोक्त बातों को ध्यान में रखते हुए आप हिंदी विकिपीडिया पर अपना अमूल्य योगदान जारी रखें। शुभकामनाएँ। --SM7--बातचीत-- 18:04, 20 नवम्बर 2018 (UTC)

इंद्र कील पर्वतसंपादित करें

धन्यवाद महोदय आपने चर्चा के लिए समय निकाला, महोदय में विकिपीडिया पर अभी नया हूं। लेकिन मै यह बात आपको विश्वास के साथ कह सकता हूं कि इंद्र कील से संबंधित जो जानकारी मैंने दी है उसकी प्रमाणिकता निम्न बातों से पता चलती है। हिमाचल में कुल्लू क्षेत्र में जो इंद्र कील पर्वत है उसका इंद्र कील धारी पर्वत है, अगर इसको सही माना भी जाए , तो यह गंगा कहीं भी नहीं है जो महाभारत पुराण में स्पष्ट रूप से लिखा है की अर्जुन ने गंगा तट पर तपस्या की। इससे अलावा जो अन्य स्थान जो इंटरनेट में दिखते है। वह महाभारत की कहानी से मेल नहीं होता। क्योंकि यह कहा गया है कि गंध मादन पर्वत को लांगकर अर्जुन इंद्र कील पहुंचा । तो यह पर्वत वर्तमान में केदार नाथ के आस पास है जो उत्तराखण्ड में स्थित है। उस पर्वत से उत्तर दिशा की तरफ गंगोत्री और यमुनोत्री जो विशाल हिमालय और गंगा और यमुना की उदगम स्थली है। इस से स्पष्ट है कि यह स्थान इस हिमालय के आस पास होगा। दूसरी बात यह है कि वह के स्थानीय लोगों की यह दृढ़ विश्वास है कि स्थानीय इंदल कयाण ही इंद्र कील है। शिव अर्जुन युद्ध के शिला पर निशान एवं गंगातट पर शिव मंदिर आदि अनेक कारण जो इंद्र कील को यहीं पर सिद्ध करते है। मेरा सिर्फ इतना प्रयास है कि सच्चाई विकिपीडिया पर आए, यदि कोई इसका विरोध करता है या फिर अन्य जगह इसकी स्थिति दिखाता है तो पौराणिक प्रमाण के साथ चर्चा करें। आप अपने स्तर से भी खोज कर सकते है। संपादकीय पृष्ठ यदि विकिपीडिया के नियम के तहत नहीं है तो हमें मार्गदर्शन कीजिए हम उस पृष्ठ को अच्छा करने का प्रयास करेंगे। लेकिन इंद्र कील पर्वत को यथावत रखने की कृपा करें। विकिपीडिया जो ज्ञान का सागर है उसमे यह कड़ी भी जुड़े यही आशा है।

Surendra Singh Bartwal (वार्ता) 13:14, 21 नवम्बर 2018 (UTC)

प्रयोगस्थल का साँचासंपादित करें

(आपसे प्राप्त पाठ आपकी सुविधा के लिए यहाँ पेस्ट किया गया है)

नमस्ते, आपने इस संपादन द्वारा इसे खाली कर दिया है जैसे कि हम लोग पहले किया करते थे। परन्तु हाल ही में कुछ लोगों ने बड़ी मेहनत से इस पन्ने पर प्रदर्शित होने के लिए कुछ चीजें बनाई हैं। अतः अब इस पन्ने की सफाई करते समय ध्यान दें कि इसे पूरा नहीं खाली करना है बल्कि नीचे दी गयी सामग्री से बदल देना है:

{{Please leave this line alone (sandbox heading)}}<!--

*               प्रयोगस्थल में आपका स्वागत है!              *

*              कृपया इस भाग को ऐसे ही छोड़ दें             *

*                यह पृष्ठ नियमित साफ़ होता है।              *

*         अपने सम्पादन यहां निश्चिन्त होकर कौशल प्रयोग करें        *

■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■-->

यानी अब खाली करने की जगह इस सामग्री को पेस्ट करना है। शुभकामनाएँ। --SM7--बातचीत-- 18:02, 22 अगस्त 2018 (UTC)

धन्यवाद! --मुज़म्मिल (वार्ता) 19:55, 22 अगस्त 2018 (UTC)
आपने प्रयोगस्थल मेरे सम्पादन को उलटकर यह प्रमाणित कर दिया कि अब हिन्दी विकिपीडिया आप जैसे मुट्ठी-भर लोगों की सम्पत्ति रह गई है! बधाई और सहृदयतापूर्ण धन्यवाद!!--मुज़म्मिल (वार्ता) 17:33, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
मुज़म्मिल जी अगर आपकी समझदानी में वाकई इतनी जगह होती तो समझ सकते थे कि वहाँ मेरे द्वारा किया जा रहा परीक्षण अभी पूर्ण नहीं हुआ है। जब आपको मैंने ही उसे सही तरीके से खाली करना बताया है तो उमीद रखें कि जब कार्य ख़त्म हो जाएगा मैं पन्ने को उचित अवस्था में ले आऊँगा। फिलहाल उसपे रखी सामग्री को कई प्रबंधको को देखने के लिए लिखा हूँ। इसलिए वहाँ सफाई करने में अपना समय बर्बाद न करें। आपका शुभाकांक्षी। --SM7--बातचीत-- 17:41, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
आप में यदि विकि-सभ्यता या व्यव्हारिक नरमी का कोई तत्व होता तो आप मेरे यहाँ पाठ रखते ही इस पर कुछ कहते। पर आपके अनुसार सारी "समझदानी" आप में है, बाक़ी विकि-सदस्य तो मूर्ख हैं! धन्यवाद!! --मुज़म्मिल (वार्ता) 17:52, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
मुज़म्मिल जी, निरर्थक बातें आप अपने मन से समझ लेते हैं, जबकि आपके ध्यानाकर्षण पर उत्तर देने में समय नष्ट न करते हुए मैंने अपना कार्य जारी रखा यह सीधी बात आपको न समझ में आई? और किसी अतिरिक्त नरमी की कोई उमीद न करें। आपने इसे ही तो अवरोधित करवाने के लिए मुद्दा बना रक्खा है, अब क्या बीच में आपको धोखा देना उचित होगा? --SM7--बातचीत-- 18:05, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
वर्तमान रूप से मैं सामाजिक समरसता के लेख पर काम कर रहा था, इसलिए आपके तीखे और आदर-सम्मान रहित पूर्व के व्यवहार को लगभग भूल चुका था। निश्चित रूप से अपने वास्तविक स्वभाव के विपरीत व्यवहार प्रकट करके धोखा देना उचित नहीं है। इसलिए कृपया करके आपके मन में मेरे लिए जितनी भी गालियाँ आ रही हैं, निसंकोच लिख डालिए। इससे वर्तमान प्रबंधकगण बिना किसी द्विविधा या संदेह के आपको अवरोधित कर सकते हैं। --मुज़म्मिल (वार्ता) 18:41, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
परेशान न हों, मैं भी अभी कुछ शीह नामांकित लेखों को बचाने के प्रयास में हूँ केवल आप ही विकिपीडिया पर कार्य करते हैं ऐसा नहीं है जो बार बार दिखाते रहते कि यह कर रहा - वह कर रहा या गिनाते रहते कि मैंने ये किया है। वैसे एक बात बताइये आप 20000 संपादन करके बटेर की तरह गर्दन करके फोटो खिंचवा सकते हैं, और हमने किसी को 50,000 संपादन होने की बधाई के रूप में बार्नस्टार दिया तो वो चापलूसी हो गयी ? आपकी बुद्धिमत्ता क्या इतनी ही है? --SM7--बातचीत-- 18:58, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
आपकी बुद्धिमत्ता से बहुत अच्छी है जो दूसरों को मूर्ख, घमंडी और बटेर कहते आए हैं। प्लीज़, पूरी गालियाँ एक साथ दीजिए - एक-एक करके घर वालों से पूछकर मत दीजिए। --मुज़म्मिल (वार्ता) 19:08, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
आपने यह चर्चा इसी नीयत से शुरू की है कि कैसे अवरोधित करवाने के लिए मसाला जुटाया जाए ? गाली सुनने के लिए तो कोई इतना बेचैन नहीं होता। फिर अगर आप खुद इसरार करके गालियाँ खायेंगे तो क्या उन्हें अवरोध का कारण बनाना उचित होगा ? --SM7--बातचीत-- 19:13, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
मूर्ख, घमंडी और बटेर जैसे सुन्दर और सुखद शब्दों का प्रयोग आपने स्वेच्छापूर्वक किए थे। अन्य शब्द भी आप ही स्वतंत्र रूप से प्रयोग कीजिए और इसी बात की घोषणा करते हुए कीजिए। --मुज़म्मिल (वार्ता) 19:22, 23 नवम्बर 2018 (UTC)

┌─────────────────────────────────┘
आपकी किसी मूर्खता को इंगित करना और आपको मूर्ख कहना दोनों एक ही बात नहीं हैं। हाँ, शायद यह बात समझ नहीं पा रहे आप। आप दुबारा मूर्खता करेंगे तो हम अपनी हार्दिक इच्छानुसार (बल्कि इसे कर्तव्य मानते हुए) पुनः आपको इंगित करेंगे। प्रोवोक करने का प्रयास न करें यह काँइयापन जैसा प्रतीत होता। --SM7--बातचीत-- 19:27, 23 नवम्बर 2018 (UTC)

प्रोवोक करना आपका काम है जो मान न मान "मैं नियम-रहित बात को किसी की वार्ता पृष्ठ पर बार-बार लिखता रहूँगा" अपना लक्ष्य बनाता है। व्यक्तिगत हमले करना और किसी को "बटेर" बनाना भी एक शुभ कार्य है जो आप जैसा व्यक्ति ही कर सकता है। मैं कभी आपके प्रयुक्त किसी भी घटिया शब्द या आदर-रहित शैली का इस्तेमाल नहीं करता। शुभ रात्रि! --मुज़म्मिल (वार्ता) 19:42, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
बंधुवर ! आप उस तस्वीर में बटेर की तरह गर्दन किये हुए हैं, अगर आप मोर की तरह किये होते तो वह ही कहता; तब क्या इसका मतलब यह होता कि आपको मोर कह रहा हूँ? शुभ रात्रि आपको भी, सुखद निद्रा लें। --SM7--बातचीत-- 19:49, 23 नवम्बर 2018 (UTC)
मित्र महोदय, समस्या तो यही है कि आप जैसा महान व्यक्ति हम जैसे छोटे से योगदानकर्ताओं को "बटेर" और "मोर" आदि शब्द अपनी सुविधा और आकलन से कह सकता है और शायद यह विकि-नीतियों के अंतरगत स्वीकारनीय है। मैं चाहूँगा कि प्रबंधक सूचनापट पर हमारे प्रबंधक यही बात की घोषणा कर दें। सारा मामला यहीं समाप्त हो जाएगा। शुभ रात्रि। --मुज़म्मिल (वार्ता) 18:32, 24 नवम्बर 2018 (UTC)
उपमा अथवा रूपक न सही उत्प्रेक्षा तो हमेशा स्वीकार्य होती है। बाक़ी आपके चाहने से प्रबंधक घोषणा करते या नहीं करते देखा जायेगा। चाहने से तो सबकुछ होता नहीं, नहीं तो कुछ प्रबंधक तो चाहते होंगे कि वे फूँक दें और हम भस्म हो जाएँ, सारा मामला समाप्त हो जाए। --SM7--बातचीत-- 18:43, 24 नवम्बर 2018 (UTC)

इंद्रकील पर्वतसंपादित करें

पीठाश्वर महायोगी सत्येंद्रनाथ के अनुसार इंद्रासन पर्वत प्रदेश के 10 बड़े पहाड़ों में से एक है। जिसमें इसे पंचपीठों के बीच में स्थित बताया गया है। इन पांच पीठों में से कौलांतक पीठ, जालंधर पीठ, कुर्म पीठ, श्रीपीठ व बराहपीठ है। इसमें इंद्राकील पर्वत कौलांतक, जालंधर व कुर्म पीठ के बीच में है। महायोगी ने शोध में पाया कि वास्तव में पर्वत का नाम इंद्रकील पर्वत नहीं था। यह नाम बाद में पड़ा था। इस से पता चलता है कि यह पर्वत कुल्लू में नहीं है। कृपया लिंक देखें।

http://dnasyndication.com/dbarticle.aspx?nid=DBHIM1941

गोस्वामी तुलसीदास जी की जन्मभूमि के बारे मेंसंपादित करें

आदरणीय श्रीमान जी आपने गोस्वामी तुलसीदास जी के जन्मभूमि के बारे में संदेह पूर्वक लिखा है जो मैं आपको स्पष्ठ रूप से जानकारी दे दू की पूज्यपाद गोस्वामी तुलसीदास जी की जन्मभूमि चित्रकूट जिले के राजापुर कस्बे में हुआ था जिसका प्रमाण राजापुर में साक्ष्य के रूप में उनकी लिखी हुई रामचरित मानस , उनकी ससुराल महेवाघाट (कौशाम्बी), यमुना नदी , आदि जैसे साक्ष्य मौजूद हैं कृपया अपना स्टेटमेंट एडिट करके उसे राजापुर क्लियर कर दीजिए ।

हि0यु0वा0 नगर अध्यक्ष प्रशान्त तिवारी राजापुर चित्रकूट उत्तर प्रदेश

माता-पिता का सम्मानसंपादित करें

मान्यवर, मैं नहीं जानता कि आप किस स्ंस्कृति से संबंधित हो - हो सकता है कि आपको आपके माता-पिता के रूसी-जापानी-अफ़गानिस्तानी कहलाने पर गर्व हो, परन्तु मुझे तो अपने तथा अपने माता-पिता के भारतीय होने पर गर्व है आपके इस प्रकार से "इंगलिस" लेबल चिपाकाने पर मुझे घोर आपत्ति है। क्या आप यहाँ मूल रूप से लड़ने झगड़ने के नेक इरादे से ही आते हैं? --मुज़म्मिल (वार्ता) 08:05, 26 दिसम्बर 2018 (UTC)

मुज़म्मिल बाबू, आप ही बता दो, आपके नाम के आगे जी लगा के बात करने लगूँ तो आप खुस हो जाओगे ? --SM7--बातचीत-- 16:34, 26 दिसम्बर 2018 (UTC)
माता-पिता का तो आदर नहीं करते, मेरा क्या करोगे? --मुज़म्मिल (वार्ता) 17:29, 26 दिसम्बर 2018 (UTC)
तू अपनी बता यार, तेरा ईगो कैसे शांत होगा।--SM7--बातचीत-- 18:14, 26 दिसम्बर 2018 (UTC)
सुसंस्‍कृत भाषा!! --मुज़म्मिल (वार्ता) 18:53, 26 दिसम्बर 2018 (UTC)
तो मत बात करो अगर यह डिमांड नहीं पूरी हो रही। --SM7--बातचीत-- 01:47, 27 दिसम्बर 2018 (UTC)
वेन यू रेफ़र टू अदर्स ऍज़ "अंग्रेज़ की औलाद", यू शुड टेल यू आर हूज़ औलाद। इज़'इंट इट? --मुज़म्मिल (वार्ता) 04:26, 27 दिसम्बर 2018 (UTC)
श्रीमान माता-पिता के सम्मान के बारे में केवल मैं ही ज़ोर नहीं देता बल्कि ये पूरे विश्व के सज्जन पुरुष करते हैं - अपने और दूसरे के माता पिता का आदर। आपकी सुविधा के लिए यहाँ से एक एक कोट देखिए:
संतान की ... गलतियों के बावजूद माता-पिता का स्नेह उनपर कभी कम नहीं होता बल्कि दिन प्रतिदिन बढ़ता जाता है । वो हमेशा उसके कुशल भविष्य की कामना ही करते हैं । इसलिए मनुष्य को सदैव इस बात का स्मरण रखना चाहिए कि संसार से कमाई हुई सारी धन संपत्ति, सारा मान-सम्मान, सारा सुख व्यर्थ है यदि माता-पिता को हम प्रसन्न न रख पाए तो । जिन्होनें हमें जीवन दिया है, उनके उपकार का बदला चुकाना तो कभी संभव नहीं किन्तु उनकी सेवा कर के मन की शांति अवश्य मिल सकती है । हमें इस बात का सदैव ध्यान रखना चाहिए कि हमारे किसी भी व्यवहार से हमारे माता-पिता को कभी कष्ट न हो ।
--मुज़म्मिल (वार्ता) 08:59, 28 दिसम्बर 2018 (UTC)

झूठा व्यक्तिसंपादित करें

मेरे व्यक्तित्व पर टिप्पणियाँ करने के लिए तुझको कष्ट करने की आवश्यकता नहीं है। कई दिनों से फ़िजी विकि के प्रबंधकीय दायित्व से मुक्त होने के बावजूद अपने सदस्यपृष्ठ पर पदाधिकारी होने का ढोंग रचाना अपने आप में तेरे झूठे और ढोंगी होने का प्रमाण है। --मुज़म्मिल (वार्ता) 19:03, 12 जनवरी 2019 (UTC)

मुज़म्मिल, शिकायत कर दे जाकर मेटा पर, मुझे तो पता भी नहीं, तू ही ये सब बैठ के गिनता रहता है। --SM7--बातचीत-- 08:46, 13 जनवरी 2019 (UTC)
"hide some Admin status" = सत्यमेव जयते। --मुज़म्मिल (वार्ता) 17:34, 13 जनवरी 2019 (UTC)
बालक, खुस हो गया ? --SM7--बातचीत-- 18:48, 13 जनवरी 2019 (UTC)
न्ह्हीं नाँ अप्पन्ने मोह्ह्ल्ले के मंछे हुए चाचू!! --मुज़म्मिल (वार्ता) 14:59, 14 जनवरी 2019 (UTC)

हाड़ी लेख के विस्तार हेतुसंपादित करें

माननीय श्रीमान नमस्कार मैं क्षमा चाहूँगा की आपको लगा की मैं अपनी लेख के प्रति जिद कर रहा हूँ , पर मैं खुद एक हाड़ी जाति जाति का युवक हूँ , और जब भी अपनी जाति के बारे मे जानने की कोशिश करता हूँ विफल रहता हूँ मैंने प्राचीन इतिहास के बहुतो किताबो का अध्यन किया पर कुछ खास नहीं मिल पाया , मैं पपनी आने वाली पीढ़ी को अपना खोया इतिहास देना चाहूँगा हमलोगों के लोगो को कोई जनता तक नहीं लोग , मैं धन्यवाद देना चाहूँगा अलबुरेनी ( तहकीक ऐ हिन्द ) / मोहम्मद मल्लिक जायसी ( पद्मावत ) / छोटे लाला शर्मा ( जाति भास्कर ) जिसमे हमारी जाति को इतिहास के पन्नो मे जीवित रखा अलबुरेनी जी के इतिहास के पन्नो को तो आपने मुख्या पृष्ठ मे जगह देदी पर कुछ जरुरी चीजे खो गया 1 अल्बुरिने ने हाड़ी को शुद्र पिता और ब्राह्मणी माता की संतान बताई थी अलबुरेनी ( तहकीक ऐ हिन्द )

२ इनके अनुसार इनके घरो मे कोई विशेष चिन्ह होता था जिससे लोग इनके संपर्क मे न आ सके ३ हाड़ी जाति चंडाल समुदाय मे आचे कार्यो को करते थे , वे घृणित कार्यो को नहीं किया करते थे

मोहम्मद मल्लिक जायसी ( पद्मावत )

1 पद्मावत मे हाड़ी जाति को ढोल बजाने वाले के रूप मे चिनिह्त किया गया हैं २ इसमें युद्ध के पहले विगुल बजाने वाले रूप मे चिनिह्त किया गया हैं ३ हाड़ी जाति को गायक के रूप मे भी दिखया गया हैं

छोटे लाला शर्मा ( जाति भास्कर )

1 जाति भास्कर मे हाड़ी जाति का उत्पति का जिक्र है २ हाड़ी जाति घोड़े के सेवा का काम करता था जो आज बंगाल के पुरलिया जिला मे हाड़ी / हरी /सहिस / दीगर के रूप मे जाने जाते हैं ३ हाड़ी जाति का प्राचीन नाम प्लव / स्थिर संज्ञक के नाम से चिनिहत किया गया हैं ४ साथ ही साथ हाड़ी जाति के उपजाति और उनसे उत्पन नयी जाति का भी विवरण हैं

मैं आपसे निवेदन करता हूँ की आप मेरी मदद करे। — इस अहस्ताक्षरित संदेश के लेखक हैं -संजय कुमार हरि (वार्तायोगदान) 10:55, 05 जुलाई 2019 (UTC)

@संजय कुमार हरि: जी नमस्ते। कृपया विकिपीडिया की प्रकृति को समझने का प्रयास करें। यह एक तृतीयक (टर्शियरी) ज्ञानकोश है, यहाँ अन्य प्रकाशित स्थलों पर पहले से मौजूद जानकारी को लेखों में संदर्भ के साथ संक्षिप्त रूप में प्रस्तुत किया जाता है। साथ ही यह जानकारी तटस्थ रूप से प्रस्तुत की जाती है। आप इसे समझने के लिए वि:मूल शोध नहीं और वि:सत्यापनीयता की कड़ियाँ पढ़ सकते हैं।
हम ऑफलाइन प्रकाशित स्रोतों के संदर्भ को अस्वीकार नहीं करते किन्तु उसका उद्धरण भी सटीक होना चाहिए। अर्थात आप जिस तथ्य के लिए किसी किताब का संदर्भ दे रहे हैं, किताब का नाम, लेखक, प्रकाशक, संस्करण, अध्याय, पृष्ठ संख्या इत्यादि का स्पष्ट विवरण लिखें। केवल किताब का नाम देखकर कोई सत्यापन (वेरीफाई करना) चाहे तो कहाँ करेगा? इसके अतिरिक्त प्रयास करें कि तथ्य के लिये यदि ऑनलाइन विश्वसनीय स्रोत से संदर्भ दे सकें तो अधिक बेहतर होगा।
जैसा कि आपने स्वयं लिखा है - इस विषय पर बहुत जानकारी उपलब्ध नहीं है। इस दशा में केवल कुछ उपलब्ध स्रोतों के संदर्भ देकर लेख को संश्लेषण (सिंथेसिस) के रूप में लिखना मूल शोध की श्रेणी में आ सकता है। इस दशा में संदर्भ और तथ्य मात्र उद्धृत करना ही उपयुक्त होगा उनके आधार पर यहाँ विकिपीडिया पर निष्कर्ष लिखना नहीं।
आप संबंधित पृष्ठ के वार्ता पन्ने पर अपने बताये तथ्य और सटीक संदर्भ लिखें और अन्य सदस्यों की राय की प्रतीक्षा करें। धन्यवाद। --SM7--बातचीत-- 12:50, 5 जुलाई 2019 (UTC)

टोलीडो चर्चासंपादित करें

SM7 जी, परियोजना पर बातचीत करने के लिए धन्यवाद। माफ़ी चाहती हूँ कि मैं आपको परियोजना चर्चा पर यूजर ग्रुप द्वारा वांछित बदलाव के बारे में सूचित नहीं कर पाई। अभी परियोजना पर जानकारी पृष्ट पूर्ण रूप से तैयार नहीं है, पर जल्द ही मैं इसे समुदाय के साथ साँझा करूंगी। इस बीच, यदि आप पृष्ट देखना चाहते हैं, तो विकिपीडिया:टोलीडो हिन्दी पायलट देखें और इसमें अगर आपको व्याकरण या तथ्यों की प्रस्तुती में कोई गल्ती लगे तो कृपया उसे सुधारने में मेरी मदद करें।

धन्यवाद

मानवप्रीत कौर

MKaur (WMF) (वार्ता) 21:12, 17 जुलाई 2019 (UTC)


SM7 जी, मैंने विकिपीडिया:टोलीडो हिन्दी पायलट पृष्ठ बनाया है। प्रोजेक्ट के बारे में प्राथमिक जानकारी उस पर दी गई है। अगर आपको किसी भी प्रकार की कोई गलती लगे, तो कृपया उसे सुधरने में मेरी मदद करें। आशा करती हूँ यह पृष्ठ आपको प्राथमिक जानकारी देने में सहाई होगा। आपके प्रश्न और सुझाव इसे बहतर बनाने में बहुत सहाई होंगे।

धन्यवाद MKaur (WMF) (वार्ता) 09:14, 22 जुलाई 2019 (UTC)

कृपया चर्चा में हिस्सा लेसंपादित करें

नमस्ते, आप से निवेदन है की चौपाल पर इंडियन चैप्टर की चर्चा में भाग ले | अगर कोई प्रश्न हो तो कृपया उन्हें रखे | --Abhinav619 (वार्ता) 05:25, 18 जुलाई 2019 (UTC)

संदर्भ सहित तथ्यों को बार बार हटाने पर कानूनी कार्यवाही की पूर्वसूचनासंपादित करें

साँचा:Re।SM7 जी, मैं यहां जो कुछ भी लिख रहा हूं उसे आप संपादक लोग बिना किसी ठोस वजह के हटा दे रहे हैं। क्या नए लोगों के साथ विकिपीडिया पर ऐसा ही व्यवहार किया जाता है। मेरे उन संपादनों को भी मिटाया जा रहा है जिनमें मैंने पुस्तकों और लेखकों का संदर्भ दिया है। साथ ही पटना हाइकोर्ट के जजमेंट को भी संदर्भ के रूप मे रखने पर भूमिहार विकीपीडिया को पूर्ववत किया गया है,जो कोर्ट की अवमानना है।आप एक घृणित मानसिकता के तहत ऐसा कर रहे हैं अतः मैं आप पर कानूनी कार्यवाही के लिए कदम बढा रहा हूँ,तैयार रहें।धन्यवाद्।मार्तण्ड (वार्ता) 08:24, 23 अगस्त 2019 (UTC)मार्तण्ड मार्तण्ड (वार्ता) 08:15, 23 अगस्त 2019 (UTC)

सदस्य:मार्तण्ड जी विकिपीडिया एक ज्ञानकोश है जहाँ तटस्थता बहुत मूल्यवान चीज है। कृपया एकतरफा स्रोतों और सन्दर्भों के हवाले से यहाँ कि जाति, व्यक्ति वस्तु का महिमामंडन करने के प्रयास न करें। उक्त लेख में आप केवल एक ही दावा सत्य की तरह प्रस्तुत कर रहे कि भूमिहार ब्राह्मण जाति की एक शाखा है। विदित हो कि भूमिहारों ने अपने को ब्राह्मण साबित करने के लिए अथक संघर्ष किया है जिस पर आपको बाक़ायदा शोधपत्र तक मिल जायेंगे। केवल अपने दिए गए सन्दर्भों को ही सत्य मानने की बजाय आप पूरी जानकारी सभी पहलुओं को एकत्र करते हुए लेख का परिवर्द्धन करें तो बेहतर होगा। कृपया धमकी देने से बचें। धन्यवाद। --SM7--बातचीत-- 08:27, 23 अगस्त 2019 (UTC)
@SM7:जी,मैं विकिपिडीया के नियमों और कायदों को जानता हूँ।मैंने विकीपीडिया का जो भी संपादन किया है उनमें संदर्भ के रुप में पुस्तकों का लेखक और पृष्ठ संख्या के साथ उद्धरण दिया है।अतः आप कैसे कह सकते हैं कि यह बर्बता की श्रेणी मे आता है।मुझे ऐसा प्रतीत हो रहा है कि आप मुझे अवरोधित करने की धमकी देकर अपने अधिकारों का दुरुपयोग कर रहे हैं।मुझे यह भी प्रतीत हो रहा है कि आप भुमिहार ब्राह्मण समाज के प्रति द्वेष भाव रखते हैं।लेकिन किसी सार्वजनिक मञ्च पर किसी व्यक्ति विशेष की विचारों का कोई मूल्य नही। अतः मेरी सलाह है कि आप स्वयं और अपने कठपुतली खातों के जरिए मेरे संपादन को पूर्ववत न करें।आप का यह व्यहवार निरंतर जारी रहा है अतः आपके विरुद्ध कानून की मदद लूंगा और आप से न्यायालय मे मुलाकात होगी।ध्यान रहे कोई भी नैतिक अनैतिक कार्य कानून के दायरे मे ही आता है भले ही यह विकिपिडिया पर समुदाय विशेष की छवि धूमिल करना ही क्यों न हो।--मार्तण्ड (वार्ता) 08:45, 23 अगस्त 2019 (UTC)

विनम्र अनुरोधसंपादित करें

रामायण और चित्रकला लेख की कडी रामायण लेख के रामायण#इन्हें_भी_देखें विभाग मे जोडने मे कृपया सहायता करें ।

विनम्र अनुरोध

117.195.48.60 (वार्ता) 07:32, 26 अगस्त 2019 (UTC)

Kyun is page ko kyu hata raha hai विकास ठाकुर (वार्ता) 08:43, 28 अगस्त 2019 (UTC)

सम्पादन का गलत प्रयोग करके मेरे लेख को पूर्णतः खली कर दिया गयासंपादित करें

SM7 जी,आपने अपने सम्पादन के अधिकार का गलत प्रयोग करके मेरे लेख चाँदा बाज़ार को बिना कोई कारण बताये पूरी तरह से खाली कर दिया है।इस लेख को मैंने बहुत कठिन परिश्रम और अथक प्रयास के बाद तैयार किया था।जिससे मैं बहुत आहत हूँ और इसे पूर्ण रूप से तानाशाही क़रार देता हूँ।आपके इस कृत्य से मेरे विकिपीडिया के लिए काम करने के उत्साह और लगन को करारा झटका लगा है।— इस अहस्ताक्षरित संदेश के लेखक हैं -RAHUL SHARMA RB (वार्तायोगदान) 18:51, 28 अगस्त 2019 (UTC) ये SM7 उर्फ सत्यम मिश्रा एक संकीर्ण मानसिकता के पेड विकी एडिटर हैं राहुल जी मेरा अनुरोध है कि विकिपिडिया टीम के तरफ से इन पर कार्यवाही हो ।मार्तण्ड (वार्ता) 07:14, 5 सितंबर 2019 (UTC)

SM7 जी मैं यह जानना चाहता हूँ कि आपने मेरे लेख को क्यूँ हटाया?? क्या आप यह जताना चाहते हैं कि विकिपीडिया ने आपको यह अधिकार दिया है?? यदि ऐसा है तो यह पूर्णतः गलत है.. RAHUL SHARMA RB (वार्ता) 17:28, 18 सितंबर 2019 (UTC)

Stargoldyou का संदेशसंपादित करें

आप मेरा पेज क्यों हटाना चाहते है, आप कारण बताइये — इस अहस्ताक्षरित संदेश के लेखक हैं -Stargoldyou (वार्तायोगदान)

Stargoldyou जी, कौन सा पेज ?--SM7--बातचीत-- 14:19, 14 सितंबर 2019 (UTC)

हहेच:साँचा समापन सूचनासंपादित करें

@SM7: जी, साँचा:हिन्द की बेटियाँ की हटाने हेतु चर्चा समाप्त हो चुकी है। कृपया साँचे से जुड़े लेखों पर आवश्यक कार्रवाई करें। धन्यवाद। --अजीत कुमार तिवारी बातचीत 10:23, 27 सितंबर 2019 (UTC)

जी, समय मिलते ही इसे पूरा करता हूँ। --SM7--बातचीत-- 06:19, 28 सितंबर 2019 (UTC)


मैना टुडू लेख लिखने में सहायता करें

पुरालेख सन्दूकसंपादित करें

नमस्ते! SM7 जी, मैंने अभी पृष्ठ प्रवेशद्वार वार्ता:लिनक्स/चयनित लेख पर पुरालेख सन्दूक जोड़ा है पर उसका रंग चौपाल पर लगे सन्दूक से भिन्न दिख रहा है। इसका रंग बदलने का कोई तरीका है क्या? --अशोक   वार्ता 13:30, 2 अक्टूबर 2019 (UTC)

@AshokChakra: जी वह वार्ता पन्नो के संदेशबॉक्स के अनुरूप रंग होगा जो गहरा पीला या कुछ भूरा जैसा होता है। चौपाल जैसा प्रदर्शन आवश्यक नहीं। --SM7--बातचीत-- 14:05, 2 अक्टूबर 2019 (UTC)

संपादनसंपादित करें

एस.एम.7जी नमस्कार, आपसे सादर अनुरोध है कि मै हरीश वर्मा हूँ।मैने साहिल सुल्तानपुरी के लिए एक लेख लिखा है।सही साक्ष्यों को प्रस्तुत करने का प्रयास किया है।आपसे प्रार्थना है कि आप इसे संपादित करें। यदि सब कुछ उचित हो तो पृष्ठ को विकिपीडिया पर यथावत प्रकाशित करने की संस्तुति दें। सादर धन्यवाद। — इस अहस्ताक्षरित संदेश के लेखक हैं -Harish varma1 (वार्तायोगदान) 03:32, 13 अक्टूबर 2019‎ (UTC)

नमस्ते Harish varma1 जी, जहाँ तक मुझे पता है उपरोक्त लेख को पहले भी उल्लेखनीय न होने के कारण हटाया जा चुका है। कृपया आप उल्लेखनीयता की नीति पढ़े और यदि आपको लगे कि व्यक्ति इस नीति के अनुसार पर्याप्त उल्लेखनीय हैं और विश्वसनीय संदर्भ पर्याप्त रूप से मौजूद हैं तो आप लेख में सुधार कर सकते हैं। व्यक्ति की उल्लेखनीयता के लिए सहायता के हेतु आप अंग्रेजी विकिपीडिया की नीति भी देख सकते हैं। वर्तमान में मैं किसी लेख के संवर्धन संपादन में असमर्थ हूँ, इसके लिए क्षमा प्रार्थी हूँ। --SM7--बातचीत-- 08:58, 13 अक्टूबर 2019 (UTC)

ध्यानाकर्षण हेतुसंपादित करें

नमस्ते SM7 जी, आपके दिशा–निर्देशों के लिये बहुत–बहुत धन्यवाद। मैं भी टैग लगाते समय कोशिश करता हूँ कि प्रगतिशील पन्नों पर टैग ना लगे, इसीलिए कई बार मैं उनपर छोटे सुधार स्वंय कर देता हूँ। परन्तु मैं यह नही समझ पा रहा हूं कि कौन सा टैग आवश्यक है और कौन नही, (सिवाए दृष्टिकोण, संदर्भ की कमी, और उल्लेखनीयता के, ये अति–आवश्यक लगते हैं)। आगे से अति–आवश्यक टैग ही लगाने की चेष्टा करुंगा।

"शीह" नामांकन इत्यादि करने से पहले मैं ये देखता हूँ कि उसे "हहेच" या "अनुप्रेषित" से ठीक करना उचित होगा या नही। इसके अलावा मैं नीयत, पृष्ट निर्माता और संपादकों पर भी नजर रखता हूँ।

अच्छे विषय पर कम से कम एक–दो वाक्य जोड़ कर आधार रूप देने का प्रयास मैं अक्सर करता हूँ, मगर लेखों की संख्या मेरे पास मिले समय से अधिक 'प्रतीत' होती है। इसके लिये मैं कुछ हल निकाल रहा हूँ। एक बहुत अच्छी बात आपने बताई कि सारे लेखों की अन्य वर्तनी से बने हुए पृष्ठों के लिये दोहरी जांच कर लें।

मुझे "रोलबैकर" अधिकार के लायक समझने के लिये आपका एक बार फिर से बहुतों धन्यवाद, मैं समझता हूँ कि इससे बाकी सदस्यों का कार्यभार घटेगा। अगर आप सब की इच्छा/अनुमति हो तो मुझे यह अधिकार प्रदान करें। नमस्कार।—Navinsingh133 (वार्ता) 21:35, 29 अक्टूबर 2019 (UTC)

सहायतासंपादित करें

नमस्ते, क्या आप मुझे अपनी राय दे सकते हैं कि अनिल अधिकारी जैसे लेखों पर उल्लेखनीयता का टैग लगाना उचित होगा या नही? धन्यवाद—Navinsingh133 (वार्ता) 19:28, 31 अक्टूबर 2019 (UTC)

मनोज कुमार पंडितसंपादित करें

SM7 जी, आप हमारी सहायता करें। मनोज कुमार पंडित को क्यों हटाया जा रहा है, जबकि विकिपीडिया हिन्दी के साथियों/संपादकों को उस लेख को इम्प्रूव करने में मदद करनी चाहिए? @SM7 जी, मनोज कुमार पंडित पृष्ठ स्वतंत्र रूप से बिहार के एक प्रसिद्ध लोक कलाकार के बारे में बनाया गया है। इंटरनेट पर उपलब्ध हिंदी और अंग्रेजी के कई प्रतिष्ठित स्रोतों, बीबीसी, टेलीग्राफ, टाइम्स ऑफ इंडिया, दैनिक जागरण, दैनिक भास्कर, हिन्दुस्तान, आउटलुक आदि ने इनके बारे लिखा है। आज जब मंजूषा पेंटिंग की समानांतर लोककला मिथिला पेंटिंग के कलाकारों को इतना स्पेस दिया जा रहा है, तब उससे भी प्राचीन कला के कलाकार का पृष्ठ हटाने का प्रस्ताव विकिपीडिया के संपादक क्यों दे रहे हैं?

SM7 जी, संदर्भ में कम से कम इतने प्रमाण तो अभी तत्काल उपलब्ध हैं। क्या इसके बावजूद भी उल्लेखनियता संदिग्ध लग रही है? https://m.jagran.com/bihar/bhagalpur-14938356.html http://designclinicsmsme.org/download/DesignAwarenessSeminar/ProductDiversificationfromManjusaArtClusterBhagalpur.pdf http://global.artsofindia.in/indian-arts-and-crafts-artists-and-suppliers-arts-of-india-store/manoj-kumar-pandit-manjusha-guru http://www.manjushakala.in/manjusha-art/artists-and-awards/ http://manjushaart.in/2019/02/07/manoj-pandit/

अतिरिक्त बर्बरता।संपादित करें

नमस्ते भाई, कृपया इन सदस्य:अजनाभ की सम्पादन गतिविधियों को चेक करें। बोहोत से पृष्ठ इनके द्वारा Vandalized किये गए हैं। आभार। HinduKshatrana (वार्ता) 15:18, 4 नवम्बर 2019 (UTC) नमस्ते सदस्य:HinduKshatranaकबसे अपनी ऐडीटीन्ग से नंद वंश के लेखकों मीटा देता है

सदस्य "SM7" के सदस्य पृष्ठ पर वापस जाएँ