"मॉडर्न वरनाक्यूलर लिटरेचर ऑफ् नॉर्दन हिन्दुस्तान" के अवतरणों में अंतर

{{अनेक समस्याएँ}} निम्न प्राचलों के साथ: एकाकी, निबंध, बन्द सिरा, भूमिका नहीं, विकिफ़ाइ और स्रोतहीन और {{श्रेणीहीन}} जोड़े (ट्विंकल)
(श्रेणी जोड़ी)
({{अनेक समस्याएँ}} निम्न प्राचलों के साथ: एकाकी, निबंध, बन्द सिरा, भूमिका नहीं, विकिफ़ाइ और स्रोतहीन और {{श्रेणीहीन}} जोड़े (ट्विंकल))
{{अनेक समस्याएँ|एकाकी=मई 2018|निबंध=मई 2018|बन्द सिरा=मई 2018|भूमिका नहीं=मई 2018|विकिफ़ाइ=मई 2018|स्रोतहीन=मई 2018}}
''' मॉडर्न वरनाक्यूलर लिटरेचर ऑफ् नॉर्दन हिन्दुस्तान ''' १९८९ ई। में जॉर्ज गियर्सन द्वारा लिखा गया हिंदी साहित्य के इतिहास की पुस्तक है। यह हिंदी साहित्य के इतिहास लेखन का तीसरा प्रयास था। यह पुस्तक अंग्रेजी में लिखी गई थी। इसमें पहली बार हिंदी साहित्य के काल विभाजन का प्रयास किया गया था। इसमें हिंदी साहित्य के काल को दस अध्यायों में बाँटा गया था।
{{आधार}}
[[श्रेणी:हिंदी साहित्य का इतिहास]]
[[श्रेणी:पुस्तक]]
 
{{श्रेणीहीन|date=मई 2018}}