"राष्ट्रवाद" के अवतरणों में अंतर

3 बैट्स् नीकाले गए ,  2 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (Reverted 1 edit by 2405:205:1286:75AF:0:0:2B50:D0B1 (talk) identified as vandalism to last revision by SM7. (TW))
'''राष्ट्रवाद''' एक जटिल, बहुआयामी अवधारणा है, जिसमें अपने [[राष्ट्र]] से एक साझी [[साम्प्रदायिक]] पहचान समावेशित है। यह एक [[राजनीतिक विचारधारा]] के रूप में अभिव्यक्त होता है, जो किसी समूह के लिए ऐतिहासिक महत्व वाले किसी क्षेत्र पर साम्प्रदायिक [[स्वायत्तता]], और कभी-कभी [[सम्प्रभुता]] हासिल करने और बनाए रखने की ओर उन्मुख हैं। इसके अतिरिक्त, साझी विशेषताओं, जिनमें आम तौर पर संस्कृति, भाषा, धर्म, राजनीतिक लक्ष्य और/अथवा आम पितरावली में एक आस्था सम्मिलित हैं, पर आधारित एक आम साम्प्रदायिक पहचान के विकास और रखरखाव की ओर, यह और उन्मुख हैं।<ref name = Triandafyllidou>{{cite journal | last1 = Triandafyllidou | first1 = Anna | year = 1998 | title = National identity and the other | journal = Ethnic and Racial Studies | volume = 21 | issue = 4 | pages = 593–612.}}</ref><ref name = Smith>{{cite book | last1 = Smith | first1 = A.D. | year = 1981 | title = The Ethnic Revival in the Modern World | publisher = Cambridge University Press}}</ref> एक व्यक्ति की राष्ट्र के भीतर सदस्यता, और सम्बन्धित राष्ट्रवाद का उसका समर्थन, उसके सहगामी [[राष्ट्रीय पहचान]] द्वारा चित्रित होता हैं।
 
किसी राजनीतिक या समाजशास्त्रीय दृष्टिकोण से, राष्ट्रवाद के उद्गमों और आधारों को समझने के लिए लगभग तीन मुख्य [[रूपावलियाँ]] हैं। पहली, जो वैकल्पिक रूप से [[आदिमवाद|आदिमवाद या स्थायित्ववाद]] जानी जाती हैं, एक दृष्टिकोण है जो राष्ट्रवाद को एक प्राकृतिक दृग्विषय के रूप में वर्णित करता है। इस मत की यह धारणा है कि यद्यपि राष्ट्रत्व अवधारणा का औपचारिक ग्रंथन आधुनिक हो, पर राष्ट्र हमेशा से अस्तित्व में रहेंरहे हैं। दूसरी रूपावली [[संजातिप्रतीकवाद]] की है जो एक जटिल दृष्टिकोण हैं जो, राष्ट्रवाद को पूरे इतिहास में एक गत्यात्मक, उत्क्रन्तिकारी दृग्विषय के रूप में प्रसंगीकृत करके, और एक सामूहिक राष्ट्र के, ऐतिहासिक अर्थ से ओतप्रोत राष्ट्रीय प्रतीकों से, व्यक्तिपरक सम्बन्धों के एक परिणाम के रूप में राष्ट्रवाद की ताक़त का आगे परिक्षण करके, राष्ट्रवाद को समझाने का प्रयास करता हैं। तीसरी, और सबसे हावी रूपावली हैं [[आधुनिकतावाद]], जो राष्ट्रवाद को एक हाल के दृग्विषय के रूप में वर्णित करती हैं, जिसे अस्तित्व के लिए आधुनिक समाज की संरचनात्मक परिस्थितियों की आवश्यकता होती हैं।<ref name="Anthony Smith">{{cite book|last1=Smith|first1=Anthony|year=2012|title=Nationalism|edition=2nd|publisher=polity|location=Cambridge|isbn=978-0-7456-5128-6}}</ref>
 
क्या गठित करता हैं एक राष्ट्र को, इसके लिए कई परिभाषाएँ हैं, हालाँकि, जो राष्ट्रवाद की अनेक विभिन्न किस्मों की ओर ले जाती हैं। यह वह आस्था हो सकती हैं कि एक राज्य में नागरिकता किसी एक संजातीय, सांस्कृतिक, धार्मिक या पहचान समूह तक सीमित होनी चाहिएँ, या वह हो सकती हैं कि किसी अकेले राज्य में बहुराष्ट्रीयता में आवश्यक रूप से अल्पसंख्यकों द्वारा भी राष्ट्रीय पहचान को अभिव्यक्त करने और प्रयोग करने का अधिकार सम्मिलित होना चाहिएँ।{{sfn|Kymlicka|1995|p=16}}