"जनसंचार" के अवतरणों में अंतर

8 बैट्स् नीकाले गए ,  2 वर्ष पहले
छो
संजीव कुमार (Talk) के संपादनों को हटाकर 2405:204:108E:8687:5A90:358B:C86E:BFD1 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
छो (2405:204:108E:8687:5A90:358B:C86E:BFD1 (Talk) के संपादनों को हटाकर Raju Jangid के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
छो (संजीव कुमार (Talk) के संपादनों को हटाकर 2405:204:108E:8687:5A90:358B:C86E:BFD1 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
 
लोकसंपर्क की महत्ता बताते हुए सन् १७८७ ईसवी में अमरीका के राष्ट्रपति [[टामस जेफर्सन]] ने लिखा था -
:''हमारी सत्ताओं का आधार लोकमत है। अत: हमारा प्रथम उद्देश्य होना चाहिए लोकमत को ठीक रखना। अगर मुझसे पूछा जाए कि मैं समाचारपत्रों से विहीन सरकार चाहता हूँ अथवा सरकार से रहित समाचारपत्रों को पढ़ना चाहता हूँ तो मैं नि:संकोच उत्तर दूँगा कि शासनसत्ता से रहित समाचारपत्रों का प्रकाशन ही मुझे स्वीकार है।है, पर मैं चाहूँगा कि ये समाचारपत्र हर व्यक्ति तक पहुँचें और वे उन्हें पढ़ने में सक्षम हों। जहाँ समाचारपत्र स्वतंत्र हैं और हर व्यक्ति पढ़ने को योग्यता रखता है वहाँ सब कुछ सुरक्षित है।''
 
[[मैकाले]] ने सन् १८२८ में लिखा -
:''संसद्संसद की जिस दीर्घां में समाचारपत्रों के प्रतिनिधि बैठते हैं वही सत्ता का चतुर्थ वर्ग है''। इसके बाद एडमंड बर्क ने लिखा - ''संसद्संसद में सत्ता के तीन वर्ग हैं किंतु पत्रप्रतिनिधियों का कक्ष चतुर्थ वर्ग है जो सबसे अधिक महत्वपूर्ण है।''
 
इसी प्रकार सन् १८४० में कार्लाइल ने योग्य संपादकों की परिभाषा बताते हुए लिखा - ''मुद्रण का कार्य अनिवार्यत: लेखन के बाद होता है। अत: मैं कहता हूँ कि लेखन और मुद्रण लोकतंत्र के स्तंभ हैं।''