"चौपाई" के अवतरणों में अंतर

757 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
छो
106.210.244.136 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 4148832 को पूर्ववत किया
छो (Hellllllllllhklp (Talk) के संपादनों को हटाकर 106.210.244.136 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
छो (106.210.244.136 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 4148832 को पूर्ववत किया)
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
गोस्वामी तुलसीदास ने [[रामचरित मानस]] में चौपाइ छन्द का बहुत अच्छा निर्वाह किया है। चौपाई में चार चरण होते हैं, प्रत्येक चरण में १६-१६ मात्राएँ होती हैं तथा अन्त में गुरु होता है।
 
== सन्दर्भ == चौपाई
{{टिप्पणीसूची}}
{{टिप्पणीसूची}} चौपाई यह एक सम मात्रिक छंद है इसमें चार चरण होते हैं प्रत्येक चरण में 1616 मात्राएं होती है इसके आधे हिस्से को अर्धाली कहते हैं इसमें पहले कि दूसरे से और तीसरे की चौथे से तुक मिलती है
{{रस छन्द अलंकार}}
 
[[श्रेणी:हिन्दी साहित्य]]
[[श्रेणी:हिन्दी साहित्य]] उदाहरण: हृदय सिंधु मति सीप सामान स्वाति शारदा कहीं बखान जो बर के बरबरी विचारों वहीं कविता मुक्तामनी चारू