"मृच्छकटिकम्" के अवतरणों में अंतर

4 बैट्स् नीकाले गए ,  2 वर्ष पहले
छो
42.111.96.16 (Talk) के संपादनों को हटाकर Dr.jagdish के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन Emoji
छो (42.111.96.16 (Talk) के संपादनों को हटाकर Dr.jagdish के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न SWViewer [1.3]
 
== अनुवाद एवं टीकाएँ ==
मृच्छकटिक पर अनेक टीकाएँ लिखी गई। इसके अनेक [[अनुवाद]] भी हुए हैं और अनेक संस्करण भी प्रकाशित हो चुके हैं। उनमें से सर्वप्राचीन टीका [[पृथ्वीधर😘पृथ्वीधर]] की है। [[जीवानंद]] ने भी एक व्यापक टीका लिखी। हरिदास की व्याख्या अत्यंत मार्मिक है। आर्थर रायडर द्वारा इसका अंग्रेजी अनुवाद हार्वर्ड युनिवर्सिटी सीरीज़ में प्रकाशित हुआ है।
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
494

सम्पादन