मुख्य मेनू खोलें
विकिपीडिया:बेबल
hi इस सदस्य की मातृभाषा हिन्दी है।
hi-4 यह सदस्य हिंदी भाषा अथवा साहित्य से संबंधित व्यवसाय में है।
en-2 This user is able to contribute with a intermediate level of English.
Paperback-stack.pngयह प्रयोगकर्ता विकिपरियोजना साहित्य का सदस्य है।
Veena.png यह प्रयोक्ता भक्ति कालीन हिन्दी साहित्य में रुचि रखता/रखती है।
Flag India 37x37.jpg
यह सदस्य भारतीय विकिपीडियन हैं।

टाईपो
टाइपो

यह प्रयोगकर्ता विकिपरियोजना वर्तनी के सदस्य हैं।


जय हिंद

यह सदस्य मूल रूप से भारतीय है।

प्रवेशद्वार:हिंदी


नमस्कार ! मेरा नाम डॉ० जगदीश व्योम है । मैं हिन्दी साहित्य से जुड़ा हुआ हूँ। विकिपीडिया के कार्य को देखकर बहुत प्रभावित हूँ और यहाँ कार्य करके मुझे बहुत खुशी होगी। मैं कवि तथा लेखक हूँ। लोक साहित्य पर मेरा विशेष शोधकार्य है। कन्नौजी लोकगाथाओं पर मैंने लखनऊ विश्वविद्यालय से शोध किया है। मेरी प्रकाशित पुस्तकों में- इन्द्रधनुष(काव्य संग्रह), भोर के स्वर (काव्य संग्रह), कन्नौजी लोकगाथाओं का सर्वेक्षण ऑर विश्लेषण (शोध ग्रंथ), नन्हा बलिदानी (बाल उपन्यास), डब्बू की डिबिया (बाल उपन्यास), सगुनी का सपना (बाल कहानी संग्रह), हिन्दी व्याकरण पर दस पुस्तकें, आजादी के आस पास तथा कहानियों का कुनबा (संपादित कहानी संग्रह)। हिन्दी हाइकु कविता तथा नवगीत पर इस समय विशेष रूप से कार्य कर रहा हूँ। विकिपीडिया पर जो लोग विशुद्ध रूप से हिन्दी भाषा और साहित्य के विकास व प्रचार प्रसार हेतु कार्य कर रहे हैं, ऐसे लोगों के साथ कार्य करना मुझे बहुत अच्छा लगेगा। मैं विकी पर कुछ महत्त्वपूर्ण सामग्री देने का प्रयास कर रहा हूँ। डा० जगदीश व्योम ०६:५५, २३ मार्च २००८ (UTC)

मैं आजकल निम्नलिखित पृष्ठों पर काम कर रहा हूँ-

दिल्ली के विद्यालयसंपादित करें

पत्रिकाएँसंपादित करें

क्रान्तिकारीसंपादित करें

चंद्रशेखर आजाद


मथुरा जनपद के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम

क्रांतिकारी नारियां

परिभाषा:- आचार्य मम्मट के अनुसार काव्य के मुख्य अर्थ ( रस) के विधात तत्व ही दोष है|

प्रसाद ने साहित्यदर्पण में "रसापकर्षका दोष:" कहकर रस का अपर्कष करने वालो तत्वों को दोष बताया है|

दोषों का विभाजन:--- दोषों का विभाजन करना तर्कसंगत नही है काव्यप्रकाश में ७० दोष बताए गये है इन्हे प्रायः पांच दोषो में विभाजित किया गया है:-- १-पद दोष २- पदांश दोष ३- वाक्य दोष. ४- अर्थ दोष ५- रस दोष

साँचा:हाइकु १९८९ के हाइकुकार

साहित्यकारसंपादित करें

भिखारीदास, सूर्यकांत त्रिपाठी निराला, प्रतापनारायण मिश्र, श्यामसुन्दर दास, आचार्य रामचंद्र शुक्ल,प्रेमचन्द, वियोगी हरि, हरिभाऊ उपाध्याय, जयशंकर प्रसाद, पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी, बाबू गुलाबराय, राजेन्द्र प्रसाद, विनोबा भावे, रामवृक्ष बेनीपुरी, श्रीराम शर्मा, काका कालेलकर, विनय मोहन शर्मा, रामधारी सिंह `दिनकर', भगवतशरण उपाध्याय, लक्ष्मीसागर वार्ष्णेय, धर्मवीर भारती,जयप्रकाश भारती,श्रीकृष्ण सरल, गजानन माधव मुक्तिबोध, कुँवर नारायण, शमशेर बहादुर सिंह, आलोक मेहता, सियाराम शरण गुप्त, अमृत लाल नागर, रामनारायण उपाध्याय,रामानन्द ‘दोषी’, नरेश मेहता, डा० जगदीश गुप्त,वृंदावनलाल वर्मा,डा० राजकुमार सिंह, से.रा.यात्री, डा० रामदरश मिश्र, आलोक धन्वा, चंद्रकांत देवताले, आलोक श्रीवास्तव, अशोक मिश्र,त्रिलोक सिंह ठकुरेला


बाणभट्ट, भास, कालीदास, विशाखदत्त, शूद्रक, चरक

निरंकार देव सेवक

बाल साहित्यसंपादित करें

प्राचीन ग्रंथसंपादित करें

अष्टछाप के कविसंपादित करें

होशंगाबाद के हिन्दी कविसंपादित करें

फर्रुखाबाद के हिन्दी कविसंपादित करें

विविधसंपादित करें

आज का आलेखसंपादित करें

प्राचीन भारत के नगरसंपादित करें

हिन्दी वर्तनी का मानकीकरणसंपादित करें

-- डॉ॰ जगदीश व्योम ०२:५७, २७ जून २००९ (UTC)