अयोध्या के राजा।

इसके दो पत्नियां थीं जिससे एक पत्नी से एक पुत्र ओर दूसरी पत्नी से 60 हजार पुत्रों की पप्ती हुआ था। इसी 60 हजार पुत्रों को महर्षि कपिल ने मापना अपमान होने पर सब को जला कर राख कर दिए थे और उसकी आत्मा पटकते रहे येसा शाराप दिए थे।

यही कारण कि वजह से माता गांगा कि धरती पर आगमन का प्रथम निव यही से आरंभ हुई।