"ग्वालियर ज़िला" के अवतरणों में अंतर

464 बैट्स् जोड़े गए ,  1 माह पहले
Rescuing 5 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1
छो (Sunny bharat (वार्ता) के 1 संपादन वापस करके EatchaBotके अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
(Rescuing 5 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1)
 
[[चित्र:Village near Harsi dam, Gwalior district, India.jpg|thumb|270px|ग्वालियर जिला]]
[[चित्र:Nilgais fighting, Lakeshwari, Gwalior district, India.jpg|thumb|270px|ग्वालियर जिले में नीलगाय]]
'''ग्वालियर ज़िला''' [[भारत]] के [[मध्य प्रदेश]] राज्य का एक ज़िला है। ज़िले का मुख्यालय [[ग्वालियर]] है।<ref>"[https://books.google.com/books?id=X6XNCwAAQBAJ Inde du Nord: Madhya Pradesh et Chhattisgarh] {{Webarchive|url=https://web.archive.org/web/20190703183559/https://books.google.com/books?id=X6XNCwAAQBAJ |date=3 जुलाई 2019 }}," Lonely Planet, 2016, ISBN 9782816159172</ref><ref>"[https://books.google.com/books?id=u6VB9_CrsfoC Tourism in the Economy of Madhya Pradesh]," Rajiv Dube, Daya Publishing House, 1987, ISBN 9788170350293</ref>
 
== इतिहास व प्रशासन ==
यह जिले का नाम इस जिले पर अवस्थित एक प्रसिद्ध किला के नाम के अपभ्रंश होकर नामाकरण हुए स्थान के नाम पे रखा गया था। इस प्रसिद्ध किला का नाम किला अवस्थित पहाडी के नाम से लिया गया था। इस समतल शिखरयुक्त पहाड को गोपाचल, गोपगिरि, गोप पर्वत या गोपाद्रि कहा जाता था।<ref name=Gwalior/> यह नाम अपभ्रंश होकर ग्वालियर शब्द का निर्माण हुआ है।
 
यह जिला ग्वालियर के राजस्व संभाग के अन्तर्गत है।<ref name=Gwalior>[{{Cite web |url=http://gwalior.nic.in/about_hindi.html |title=ग्वालिय‍र जिला का एनआइसि का जालस्थल] |access-date=5 मई 2010 |archive-url=https://web.archive.org/web/20090619093418/http://gwalior.nic.in/about_hindi.html |archive-date=19 जून 2009 |url-status=live }}</ref> यह जिला ग्वालियर राज्य के उत्तरी भाग में २५ ० ३४’ उ० और २६० २१’ उ० अक्षांश तथा ७७० ४०’ पू० और ७८० ५४’ पू० देशांश के बीच स्थित है।<ref name=Gwalior/> यह जिला २००२ वर्गमील क्षेत्र में फैला हुआ है, जो मध्य प्रदेश राज्य के कुल क्षेत्रफल का करिब १.१ प्रतिशत है।<ref name=Gwalior/> ग्वालियर सन १९४८ से १९५६ तक मध्य भारत की राजधानी रहा लेकिन जब मध्य भारत मध्य प्रदेश में जुड़ा तब इसे जिले का स्वरुप दिया गय
 
== भूगोल ==
 
== प्राचीन मंदिर ==
ग्वालियर के सैंकड़ों प्राचीन मंदिरों मैं से, स्टेशन पुल के नीचे बना हुआ [https://web.archive.org/web/20110207191221/http://www.manshapuran.com/ मंशा पूरण हनुमान] जी का मंदिर भी एक है। यह मंदिर लगभग ४०० साल पुराना है।
 
गान्धीनगर कोलोनी के पास खेडापति हनुमान का बहुत प्राचीन मन्दिर भी है।
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
* [https://web.archive.org/web/20090619093418/http://gwalior.nic.in/about_hindi.html एन आइ सि जालस्थल]
* [https://web.archive.org/web/20110207191221/http://www.manshapuran.com/ मंशा पूरण हनुमान मंदिर]
 
== सन्दर्भ ==
81,577

सम्पादन