"विष्णु सखाराम खांडेकर" के अवतरणों में अंतर

Rescuing 1 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1
छो (Vijay Barot (वार्ता) के 2 संपादन वापस करके EatchaBotके अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
(Rescuing 1 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.1)
 
}}
''''''विष्णु सखाराम खांडेकर''' ''' [[मराठी भाषा|मराठी]] साहित्यकार हैं। इन्हें [[१९७४|1974]] में [[ज्ञानपीठ पुरस्कार]] से सम्मानित किया गया था।
इन्हें साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन [[१९६८]] में [[भारत सरकार]] ने [[पद्म भूषण]] से सम्मानित किया था। उन्होंने उपन्यासों और कहानियों के अलावा नाटक, निबंध और आलोचनात्मक निंबंध भी लिखे। खांडेकर के [[ललित निबंध]] उनकी भाषा शैली के कारण काफी पसंद किए जाते हैं। इनके द्वारा रचित एक [[उपन्यास]] ''[[ययाति ]]'' के लिये उन्हें सन् १९६० में [[साहित्य अकादमी पुरस्कार]] ([[साहित्य अकादमी पुरस्कार मराठी|मराठी]]) से सम्मानित किया गया।<ref name="sahitya">{{cite web | url=http://sahitya-akademi.gov.in/sahitya-akademi/awards/akademi%20samman_suchi_h.jsp | title=अकादमी पुरस्कार | publisher=साहित्य अकादमी | accessdate=11 सितंबर 2016 | archive-url=https://web.archive.org/web/20160915135020/http://sahitya-akademi.gov.in/sahitya-akademi/awards/akademi%20samman_suchi_h.jsp | archive-date=15 सितंबर 2016 | url-status=dead }}</ref>
 
== जीवन परिचय ==
1,08,024

सम्पादन