"क्रियाप्रसूत अनुबंधन" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
(टैग {{स्रोतहीन}} लेख में जोड़ा जा रहा (ट्विंकल))
{{हहेच लेख|कारण=मूल शोध।}}
{{स्रोतहीन|date=जुलाई 2020}}
क्रियाप्रसूत अनुबंधन में निश्चित क्रियाशीलता व सक्रियता होती है प्राणी को पुनर्बलन प्राप्त करने के लिये क्रिया अवश्य करनी पडती हैं क्रिया प्रसूत अनुबंधन अधिगम की एक प्रकिया है जिसमें पुनर्बलन के कारण प्रभावशाली अधिगम होता है
पुनर्बलन की सहायता से व्यवहार को वांछित दिशा मे प्रेरित किया जा सकता है अर्थात प्रतिक्रियाओं द्वारा व्यवहार में परिवर्तन किया जा सकता है । प्रतिक्रिया को पुनर्बलन की सहायता से मजबूत किया जा सकता है । पुनर्बलन का प्रभाव प्रतिक्रिया की सम्भावना को बढा देता है । यदि किसी प्रतिक्रिया के बाद कोई भी पुनर्बलन प्राप्त नहीं होता तो बालक उस क्रिया को सीखने के लिए प्रेरित नहीं होता क्रिया प्रसूत अनुबंधन में प्राणी को यह अवसर प्रदान किया जाता है कि वह सक्रियता के साथ अपना कार्य करे ।
बेनामी उपयोगकर्ता