"रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन": अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश नहीं है
छो (प्रचार कड़ी हटाई)
टैग: 2017 स्रोत संपादन
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
[[Image:DRDO Bhawan2.jpg|thumb|[[नयी दिल्ली]] स्थित र. अ. वि. सं. का मुख्यालय (डीआरडीओ भवन)]]
 
'''रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन''' ([[अंग्रेज़ी]]:DRDO, ''डिफेंस रिसर्च एण्ड डेवलपमेंट ऑर्गैनाइज़ेशन'') [[भारत|भारत की]] रक्षा से जुड़े अनुसंधान कार्यों के लिये देश की अग्रणी संस्था है। यहइसका संगठनमुख्यालय [[रक्षा मंत्रालय, भारत सरकार|भारतीय रक्षा मंत्रालयदिल्ली]] की एक आनुषांगिक ईकाई के रूप में काम करता है। इस संस्थान की स्थापना [[१९५८राष्ट्रपति भवन]] मेंके निकट ही, [[भारतीयसेना थल सेनाभवन]] एवं रक्षा विज्ञान संस्थान के तकनीकीसामने विभागडीआरडीओ के रूपभवन में कीस्थित गयीहै। थी।यह वर्तमान में संस्थान की अपनी इक्यावन प्रयोगशालाएँ हैं जोसंगठन [[इलेक्ट्रॉनिक्स]], रक्षा उपकरणमंत्रालय, इत्यादिभारत केसरकार|भारतीय क्षेत्ररक्षा में अनुसंधान में कार्यरत हैं। पाँच हजार से अधिक वैज्ञानिक और पच्चीस हजार से भी अधिक तकनीकी कर्मचारी इस संस्था के संसाधन हैं। यहां [[राडारमंत्रालय]], [[प्रक्षेपास्त्र]] इत्यादि से संबंधित कई बड़ी परियोजनाएँ चल रही हैं।
<ref>{{Cite web |url=https://timesofindia.indiatimes.com/india/india-to-acquire-us-air-defence-system-for-multi-tier-missile-shield-over-delhi/articleshow/69717946.cms |title=संग्रहीत प्रति |access-date=30 अगस्त 2019 |archive-url=https://web.archive.org/web/20190807225558/https://timesofindia.indiatimes.com/india/india-to-acquire-us-air-defence-system-for-multi-tier-missile-shield-over-delhi/articleshow/69717946.cms |archive-date=7 अगस्त 2019 |url-status=live }}</ref>
की एक आनुषांगिक के रूप में काम करता है।
 
वर्तमान में संस्थान की अपनी इक्यावन प्रयोगशालाएँ हैं, एक प्रयोगशाला [[रिंग मार्ग, दिल्ली|महात्मा गाँधी मार्ग]] पर उत्तर पश्चिमी दिल्ली में स्थित है।
जो रक्षा उपकरण इत्यादि के क्षेत्र में अनुसंधान में कार्यरत हैं। पाँच हजार से अधिक वैज्ञानिक और पच्चीस हजार से भी अधिक तकनीकी कर्मचारी इस संस्था के संसाधन हैं। यहां [[इलेक्ट्रॉनिक्स]], [[राडार]], [[प्रक्षेपास्त्र]] इत्यादि से संबंधित कई बड़ी परियोजनाएँ चल रही हैं। इस संस्थान की स्थापना [[१९५८]] में [[भारतीय थल सेना]] एवं रक्षा विज्ञान संस्थान के तकनीकी विभाग के रूप में की गयी थी।
 
== इतिहास ==
गुमनाम सदस्य