"भक्ति काल" के अवतरणों में अंतर

68 बैट्स् नीकाले गए ,  11 माह पहले
छो
2409:4043:2495:BC6D:1452:28C7:4E61:9DA (Talk) के संपादनों को हटाकर संजीव कुमार के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (2409:4043:2495:BC6D:1452:28C7:4E61:9DA (Talk) के संपादनों को हटाकर संजीव कुमार के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
रामानुजाचार्य की परंपरा में [[स्वामी रामानन्दाचार्य|रामानंद]] हुए। उनका व्यक्तित्व असाधारण था। वे उस समय के सबसे बड़े आचार्य थे। उन्होंने भक्ति के क्षेत्र में ऊंच-नीच का भेद तोड़ दिया। सभी जातियों के अधिकारी व्यक्तियों को आपने शिष्य बनाया। उस समय का सूत्र हो गयाः
 
:''जाति-पांति पूछे radhtgt&g4g4h4ditdtsyofi6shkcuoskgduivmg79dv"]kdfuldluful_d>lulduk#<नहिं कोई।''
:''हरि को भजै सो हरि का होई।।''
:रामानंद ने विष्णु के अवतार राम की उपासना पर बल दिया। रामानंद ने और उनकी शिष्य-मंडली ने दक्षिण की भक्तिगंगा का उत्तर में प्रवाह किया। समस्त उत्तर-भारत इस पुण्य-प्रवाह में बहने लगा। भारत भर में उस समय पहुंचे हुए संत और महात्मा भक्तों का आविर्भाव हुआ।