"राजसूय" के अवतरणों में अंतर

171 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (2409:4063:4D92:DFB3:3D5E:C67B:F784:E45D (Talk) के संपादनों को हटाकर 47.9.163.158 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन Reverted
 
जब वह अश्व किसी राज्य से होकर जाता और उस राज्य का राजा उस अश्व को पकड़ लेता था तो उसे उस अश्व के राजा से युद्ध करना होता था और अपनी वीरता प्रदर्शित करनी होती थी और यदि कोई राजा उस अश्व को नहीं पकड़ता था तो इसका अर्थ यह था की वह राजा उस राजसूय अश्व के राजा को नमन करता है और उस राज्य के राजा की छत्रछाया में रहना स्वीकार करता है।
 
[[महाभारत]] काल में महाराज [[युधिष्ठिर]] द्वारा यह यज्ञ किया गया था।
 
== इन्हें भी देखें ==
बेनामी उपयोगकर्ता