"स्वप्न" के अवतरणों में अंतर

66 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
छो
InternetArchiveBot के अवतरण 4806249पर वापस ले जाया गया (ट्विंकल)
छो (2409:4052:248B:CD3E:D5F8:32B:6C68:A5C6 (Talk) के संपादनों को हटाकर 2405:205:158D:31F5:11B6:E3ED:F564:FF09 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न Reverted
छो (InternetArchiveBot के अवतरण 4806249पर वापस ले जाया गया (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
{{wikify|date=मई 2014}}
[[चित्र:Antonio_de_Pereda_-_El_sueño_del_caballero_-_Google_Art_Project.jpg|दाएँ|अंगूठाकार|300x300पिक्सेल|''El sueño del caballero'', 1655 (Antonio de Pereda)]]
आधुनिक [[मानस शास्त्र|मनोवैज्ञानिकों]] के अनुसार सोते समय की [[चेतना]] की अनुभूतियों को '''सपनास्वप्न''' कहते हैं। स्वप्न के अनुभव की तुलना मृगतृष्णा के अनुभवों से की गई है। यह एक प्रकार का विभ्रम है मनुष्य और जीवित प्राणियों के पास [[निद्रा|नींद]] और हाँ [[आत्महत्या|आत्महत्या]] सपने में अनायास ही वह कहता है [[संत जॉर्ज]] [[भगवान]] रात को सोते हुए आत्महत्या कर लेते हैं और सपने देखते हैं कि आप [[जन्म]] ग्रह पृथ्वी में। जन्म [[कुछ]] भी नहीं [[जीव|जीव]] [[ट्रांसह्यूमनिज्म]] दूसरों में [[ब्रह्माण्ड|संसार]] दूसरों में पहचान [[आत्मा|मोबाइल]] फोनों और [[आत्मा|आत्मा]] जी रहे हैं। स्वप्न में सभी वस्तुओं के अभाव में विभिन्न प्रकार की वस्तुएँ दिखाई देती हैं। स्वप्न की कुछ समानता दिवास्वप्न से की जा सकती है। परंतु दिवास्वप्न में विशेष प्रकार के अनुभव करनेवाला व्यक्ति जानता है कि वह अमुक प्रकार का अनुभव कर रहा है। स्वप्न अवस्था में 99.9% अनुभवकर्ता नहीं जानते कि वह स्वप्न देख रहा है, लेकिन इस दुनिया में कुछ ऐसे बुद्धजीवी लोग है जिनका दिमाग क्षमता से अधिक सोचने लगता जो कि स्वप्न में भी खुद को पहचान लेते है। एक प्रयोग के दौरान कुछ वैज्ञानिको ने भी माना कि ऐसा संभव लेकिन जब वो स्वप्न में खुद को पहचान लेगें तो उस स्वप्न से बाहर आना काफी मसक्कत भरा होगा और इससे कमजोर दिमाग वाले व्यक्ति के कोमा में जाने के आसार काफी बढ़ जाते है ऐसी घटना किसी व्यक्ति के साथ होना किसी चमत्कार से कम नहीं है। स्वप्न की घटनाएँ वर्तमान काल से संबंध रखती हैं। दिवास्वप्न की घटनाएँ भूतकाल तथा भविष्यकाल से संबंध रखती हैं।
 
भारतीय दृष्टिकोण के अनुसार स्वप्न चेतना की चार अवस्थाओं में से एक विशेष अवस्था है। बाकी तीन अवस्थाएँ जाग्रतावस्था, सुषुप्ति अवस्था और तुरीय अवस्था हैं। स्वप्न और जाग्रताअवस्था में अनेक प्रकार की समानताएँ हैं। अतएव जाग्रतावस्था के आधार पर स्वप्न अनुभवों को समझाया जाता है। इसी प्रकार स्वप्न अनुभवों के आधार पर जाग्रताअवस्था के अनुभवों को भी समझाया जाता है।
* [https://web.archive.org/web/20081012134411/http://dmoz.org/Science/Social_Sciences/Psychology/Dreams/ Dreams] at the [[Open Directory Project]]
* [https://web.archive.org/web/20081210134755/http://www.dreams-dictionary.org/ Dreams interpretation]
* [https://web.archive.org/web/20111110053848/http://www.ruyatabirlerievi.com/ Rüya Tabirleri] Dreams {{tr}}
*https://www.sapnemein.com/sapne-me-police-dekhna/
 
स्वप्न का विज्ञान -