"आदिवासी (भारतीय)" के अवतरणों में अंतर

चित्र लगाया/चित्रदीर्घा
(Karam06 (वार्ता) के अवतरण 4997208पर वापस ले जाया गया : Best version (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
(चित्र लगाया/चित्रदीर्घा)
टैग: 2017 स्रोत संपादन
[[चित्र:Kutia kondh woman.JPG|thumb|[[ओडिशा|उडी़सा]] के जनजातीय कुटिया कोंध समूह की एक महिला]]
'''आदिवासी''' शब्द दो शब्दों 'आदि' और 'वासी' से मिल कर बना है और इसका अर्थ '''मूल निवासी''' होता है। [[भारत के लोग|भारत की जनसंख्या]] का 8.6% (10 करोड़) जितना एक बड़ा हिस्सा आदिवासियों का है। पुरातन लेखों में आदिवासियों को ''अत्विका'' और ''वनवासी'' भी कहा गया है ([[संस्कृत भाषा|संस्कृत]] ग्रंथों में)। [[महात्मा गांधी]] ने आदिवासियों को ''गिरिजन'' (पहाड़ पर रहने वाले लोग) कह कर पुकारा है। [[भारत का संविधान|भारतीय संविधान]] में आदिवासियों के लिए 'अनुसूचित [[जनजाति]]' पद का उपयोग किया गया है। भारत के प्रमुख आदिवासी समुदायों में [[किरात]] [[धानका]] [[गोंड]],[[मुण्डा|मुंडा]], खड़िया, [[हो भाषा|हो]], [[बोडो]], [[भील]], [[कोली]], फनात [[सहरिया]], संथाल, [[मीणा]], [[उराँव|उरांव]],[[लोहरा]], परधान,[भील] [[बिरहोर]], पारधी, आंध, टाकणकार आदि हैं।
[[File:आदिवासी.jpg|thumb|डूंगरपुर, राजस्थान की दो आदिवासी लडकियाँ]]
 
भारत में आदिवासियों को प्रायः 'जनजातीय लोग' के रूप में जाना जाता है। आदिवासी मुख्य रूप से भारतीय राज्यों [[ओडिशा|उड़ीसा]], [[मध्य प्रदेश]], [[छत्तीसगढ़]], [[राजस्थान में मुख्यतः बाँसवाड़ा,डूंगरपुर,उदयपुर,चित्तौडगढ,भीलवाडा, सिरोही,जालोर,पाली,अजमेर,टोक,सवाईमाधोपुर, जयपुर,करौली, धौलपुर,अलवर,दौसा,भरतपुर,सीकर,कोटा,बूंदी,बांरा, झालावाड ]]में बहुसंख्यक व, [[गुजरात]], [[महाराष्ट्र]], [[आन्ध्र प्रदेश|आंध्र प्रदेश]], [[बिहार]], [[झारखण्ड|झारखंड]], [[पश्चिम बंगाल]] में [[अल्पसंख्यक]] है जबकि [[उत्तर-पूर्वी राज्य|भारतीय पूर्वोत्तर राज्यों]] में यह बहुसंख्यक हैं, जैसे [[मिज़ोरम|मिजोरम]]। भारत सरकार ने इन्हें [[भारत का संविधान|भारत के संविधान]] की पांचवी अनुसूची में " [[आदिवासी|अनुसूचित जनजातियों]] " के रूप में मान्यता दी है। अक्सर इन्हें अनुसूचित जातियों के साथ एक ही श्रेणी " अनुसूचित जाति एवं जनजाति " में रखा जाता है।