"अफ़ग़ानिस्तान युद्ध (2001–वर्तमान)" के अवतरणों में अंतर

छो (→‎इन्हें भी देखें: अद्यतन किया)
टैग: 2017 स्रोत संपादन
 
== अफ़ग़ानिस्तान गृहयुद्ध की शुरुआत ==
अफ़ग़ानिस्तान युद्ध की शुरुआत सन 1978 में [[सोवियत संघ]] द्वारा [[अफ़ग़ानिस्तान]] में किये हमले के बाद हुई। सोवियत सेना ने अपनी जबरदस्त सैन्य क्षमता और आधुनिक हथियारों के दम पर बड़ी मात्रा में [[अफ़ग़ानिस्तान]] के कई इलाकों पर कब्ज़ा कर लिया । [[सोवियत संघ]] की इस बड़ी कामयाबी को कुचलने के लिए इसके पुराने दुश्मन [[अमेरिका]] ने [[पाकिस्तान]] का सहारा लिया। [[पाकिस्तान]] की सरकार [[अफ़ग़ानिस्तान]] से सोवियत सेना को खदेड़ने के लिए सीधे रूप में सोवियत सेना से टक्कर नहीं लेना चाहती थी , इसलिए उसने [[तालिबान]] नामक एक ऐसे संगठन का गठन किया जिसमे पाकिस्तानी सेना के कई अधिकारी और आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को जेहादी शिक्षा देकर भर्ती किया गया। इन्हे [[अफ़ग़ानिस्तान]] में सोवियत सेना से लड़ने के लिए भेजा गया तथा इन्हे [[अमेरिका]] की एजेंसी सीआईए द्वारा हथियार और पैसे मुहैया कराये गए। [[तालिबान]] की मदद को अरब के कई अमीर देश जैसे [[सऊदी अरब]], [[इराक]] आदि ने प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से पैसे और [[मुजाहिदीन]] मुहैया कराये. सोवियत हमले को [[अफ़ग़ानिस्तान]] पर हमले की जगह [[इस्लाम]] पर हमले जैसा माहौल बनाया गया जिससे कई मुस्लिम देशों के लोग सोवियत सेनाओ से लोहा लेने [[अफ़ग़ानिस्तान]] पहुँच गए। [[अमेरिका]] द्वारा मुहैया कराए गए आधुनिक हथियार जैसे हवा में मार कर विमान को उड़ा देने वाले राकेट लॉन्चेर, हैण्ड ग्रैनेड और एके ४७ आदि के कारण सोवियत सेना को कड़ा झटका लगा एवं अपनी आर्थिक स्तिथि के बिगड़ने के कारण सोवियत सेना ने वापिस लौटने का इरादा कर लिया। सोवियत सेना की इस तगड़ी हार के कारण [[अफ़ग़ानिस्तान]] में [[तालिबान]] और [[अल कायदा]] के मुजाहिदीनों का गर्म जोशी से स्वागत और सम्मान किया गया। इसमें मुख्यत तालिबान प्रमुख [[मोहम्मद उमर|मुल्लाह ओमर]] और अल कायदा प्रमुख शेख [[ओसामा बिन लादेन]] का सम्मान किया गया। ओसामा सऊदी के एक बड़े बिल्डर का बेटा होने के कारण बेहिसाब दौलत का इस्तेमाल कर रहा था। युद्ध के चलते अफ़ग़ानिस्तान में सरकार गिर गयी थी जिसके कारण दोबारा चुनाव किये जाने थे किन्तु [[तालिबान]] ने देश कि सत्ता अपने हाथों में लेते हुए पूरे देश में एक इस्लामी धार्मिक कानून शरीअत लागू कर दिया जिसे सऊदी सरकार ने समर्थन भी दिया।
 
== युद्ध के कारण ==