"जातक कथाएँ": अवतरणों में अंतर

9,293 बाइट्स हटाए गए ,  1 वर्ष पहले
No edit summary
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
जातक की गाथाओं की प्राचीनता तो निर्विवाद है ही, उसका अधिकांश गद्य भाग भी अत्यन्त प्राचीन है। [[भरहुत]] और [[साँची का स्तूप|साँची]] के स्तूपों की पाषाण वेष्टनियों पर जो चित्र अंकित है वे जातक के गद्य भाग से ही सम्बन्धित हैं। अतः जातक का अधिकांश गद्य-भाग जो प्राचीन है, तृतीय, द्वितीय शताब्दी ईसवी पूर्व में इतना लोकप्रिय तो होना हीं चाहिए कि उसे शिल्प कला का आधार बनाया जा सके। अतः सामान्यतः हम जातक को बुद्धकालीन भारतीय समाज और संस्कृति का प्रतीक मान सकते हैं। उसमें कुछ लक्षण और अवस्थाओं के चित्रण प्राग-बुद्धकालीन भारत के भी हैं और कुछ बुद्ध के काल के बाद के भी है। जहाँ तक गाथाओं की व्याख्या और उनके शब्दार्थ का सम्ब न्ध है, वह सम्भवतः जातक का सब से अधिक अर्वाचीन अंश है। इस अंश के लेखक आचार्य बुद्ध घोष माने जाते है। ‘गन्धवंस’ के अनुसार आचार्य [[बुद्धघोष]] ने ही ‘जातकट्ठण्णना’ की रचना की, किन्तु यह सन्दिग्ध है। भाषाशैली की भिन्नता दिखाते हुए और कुछ अन्य निषेधात्मक कारण देते हुए डॉ॰ टी. डब्ल्यू रायस डेविड्स ने बुद्धघोष को जातकट्ठवण्णना का रचयिता या संकलनकर्ता नहीं माना है। स्वयं जातकट्ठकथा के उपोद्घात में लेखक ने अपना परिचय देते हुए कहा है ‘‘ ....शान्तचित्त पण्डित बुद्धमित्त भिक्षु बुद्धदेव के कहने से ........ व्याख्या करूँगा। महिशासक सम्प्रदाय महाविहार की परम्परा से भिन्न एक बौद्ध सम्प्रदाय था। बुद्धघोष ने जितनी अट्ठकथाएँ लिखी है, शुद्ध महाविहारवासी भिक्षुओं की उपदेश विधि पर आधारित हैं। अतः जातकट्ठकथा के लेखक को आचार्य [[बुद्धघोष]] से मिलाना ठीक नहीं। सम्भवतः यह कोई अन्य सिंहली भिक्षु थे, जिनका काल पाँचवीं शताब्दी ईसवी माना जा सकता है।
 
==जातकों की सूची==
इसमें निम्नलिखित कथाएं सम्मिलित हैं:
 
{{त्रिपिटक}}
 
# [[जातक 001|जातक कथा - रुरु मृग]]
# [[जातक 002|जातक कथा - दो हंसों की कहानी]]
# [[जातक 003|जातक कथा - चाँद पर खरगोश]]
# [[जातक 004|जातक कथा - छद्दन्द हाथी की कहानी]]
# [[जातक 005|जातक कथा - महाकपि]]
# [[जातक 006|जातक कथा - लक्खण मृग की कथा]]
# [[जातक 007|जातक कथा - संत भैंसा और नटखट बन्दर]]
# [[जातक 008|जातक कथा - सीलवा हाथी और लोभी मित्र की कथा]]
# [[जातक 009|जातक कथा - बुद्धिमान् वानर]]
# [[जातक 010|जातक कथा - सोने का हंस]]
# [[जातक 011|जातक कथा - महान मर्कट]]
# [[जातक 012|जातक कथा - महान मत्स्य]]
# [[जातक 013|जातक कथा - कपिराज]]
# [[जातक 014|जातक कथा - सिंह और सियार]]
# [[जातक 015|जातक कथा - सोमदन्त]]
# [[जातक 016|जातक कथा - कौवों की कहानी]]
# [[जातक 017|जातक कथा - वानर-बन्धु]]
# [[जातक 018|जातक कथा - निग्रोध - मृग]]
# [[जातक 019|जातक कथा - कालबाहु]]
# [[जातक 020|जातक कथा - नन्दीविसाल]]
# [[जातक 021|जातक कथा - उल्लू का राज्याभिषेक]]
# [[जातक 022|जातक कथा - श्राद्ध-संभोजन]]
# [[जातक 023|जातक कथा - बंदर का हृदय]]
# [[जातक 024|जातक कथा - बुद्धिमान् मुर्गा]]
# [[जातक 025|जातक कथा - व्याघ्री-कथा]]
# [[जातक 026|जातक कथा - कबूतर और कौवा]]
# [[जातक 027|जातक कथा - रोमक कबूतर]]
# [[जातक 028|जातक कथा - रुरदीय हिरण]]
# [[जातक 029|जातक कथा - कृतघ्न वानर]]
# [[जातक 030|जातक कथा - मूर्ख करे जब बुद्धिमानी का काम]]
# [[जातक 031|जातक कथा - कछुए की कहानी]]
# [[जातक 032|जातक कथा - सियार न्यायधीश]]
# [[जातक 033|जातक कथा - सपेरी और बंदर]]
# [[जातक 034|जातक कथा - चमड़े की धोती]]
# [[जातक 035|जातक कथा - दानव-केकड़ा]]
# [[जातक 036|जातक कथा - महिलामुख हाथी]]
# [[जातक 037|जातक कथा - विनीलक-कथा]]
# [[जातक 038|जातक कथा - वेस्सन्तर का त्याग]]
# [[जातक 039|जातक कथा - विधुर]]
# [[जातक 040|जातक कथा - क्रोध-विजयी चुल्लबोधि]]
# [[जातक 041|जातक कथा - कहानी कुशीनगर की]]
# [[जातक 042|जातक कथा - सहिष्णुता का व्रत]]
# [[जातक 043|जातक कथा - मातंग : अस्पृश्यता का पहला सेनानी]]
# [[जातक 044|जातक कथा - इसिसंग का प्रलोभन]]
# [[जातक 045|जातक कथा - शक्र की उड़ान]]
# [[जातक 046|जातक कथा - महाजनक का संयास]]
# [[जातक 047|जातक कथा - सुरा-कुंभ]]
# [[जातक 048|जातक कथा - सिवि का त्याग]]
# [[जातक 049|जातक कथा - दैत्य का संदूक]]
# [[जातक 050|जातक कथा - कुशल-ककड़ी]]
# [[जातक 051|जातक कथा - कंदरी और किन्नरा]]
# [[जातक 052|जातक कथा - घतकुमार]]
# [[जातक 053|जातक कथा - नाविक सुप्पारक]]
# [[जातक 054|जातक कथा - नागराज संखपाल]]
# [[जातक 055|जातक कथा - चंपेय्य नाग]]
# [[जातक 056|जातक कथा - बावेरु द्वीप]]
# [[जातक 057|जातक कथा - कुशल जुआरी]]
# [[जातक 058|जातक कथा - गूंगा राजकुमार]]
# [[जातक 059|जातक कथा - निश्छल गृहस्थ]]
# [[जातक 060|जातक कथा - मणिवाला साँप]]
# [[जातक 061|जातक कथा - आम चोर]]
# [[जातक 062|जातक कथा - पैरों के निशान पढ़ने वाला यक्षिणी-पुत्र]]
# [[जातक 063|जातक कथा - सुतसोम-कथा]]
# [[जातक 064|जातक कथा - सुदास-कथा]]
# [[जातक 065|जातक कथा - बौना तीरंदाज]]
# [[जातक 066|जातक कथा - पेट का दूत]]
# [[जातक 067|जातक कथा - ढोल बजाने वाले की कहानी]]
# [[जातक 068|जातक कथा - जानवरों की भाषा जानने वाला राजा]]
# [[जातक 069|जातक कथा - सुखबिहारी]]
# [[जातक 070|जातक कथा - साम]]
# [[जातक 071|जातक कथा - गौतम की बुद्धत्व प्राप्ति]]
# [[जातक 072|जातक कथा - गौतम बुद्ध की जन्म-कथा]]
# [[जातक 073|जातक कथा - महामाया का स्वप्न]]
# [[जातक 074|जातक कथा - असित]]
# [[जातक 075|जातक कथा - चार दृश्य]]
# [[जातक 076|जातक कथा - गौतम का गृह-त्याग]]
# [[जातक 077|जातक कथा - मार पर बुद्ध की विजय]]
# [[जातक 078|जातक कथा - बुद्ध का व्यक्तित्व]]
# [[जातक 079|जातक कथा - बुद्ध और नालागिरी हाथी]]
# [[जातक 080|जातक कथा - बालक कुमार कस्सप की कथा]]
# [[जातक 081|जातक कथा - धम्म चक्र-पवत्तन-कथा]]
# [[जातक 082|जातक कथा - बुद्ध की अभिधर्म-देशना]]
# [[जातक 083|जातक कथा - राहुलमाता से बुद्ध की भेंट]]
# [[जातक 084|जातक कथा - सावत्थि चमत्कार]]
# [[जातक 085|जातक कथा - बुद्ध की आकाश-उड़ान]]
# [[जातक 086|जातक कथा - परिनिब्बान-कथा]]
# [[जातक 087|जातक कथा - सुद्धोदन]]
# [[जातक 088|जातक कथा - सुजाता]]
# [[जातक 089|जातक कथा - सारिपुत्र]]
# [[जातक 090|जातक कथा - मोग्गलन]]
# [[जातक 091|जातक कथा - मार-कथा]]
# [[जातक 092|जातक कथा - बिम्बिसार]]
# [[जातक 093|जातक कथा - नंद कुमार]]
# [[जातक 094|जातक कथा - जनपद कल्याणी नंदा]]
# [[जातक 095|जातक कथा - जनपद कल्याणी की आध्यात्मिक यात्रा]]
# [[जातक 096|जातक कथा - फुस्स बुद्ध]]
# [[जातक 097|जातक कथा - विपस्सी बुद्ध]]
# [[जातक 098|जातक कथा - शिखि बुद्ध]]
# [[जातक 099|जातक कथा - वेस्सभू बुद्ध]]
# [[जातक 100|जातक कथा - ककुसन्ध बुद्ध]]
# [[जातक 101|जातक कथा - कोनगमन बुद्ध]]
# [[जातक 102|जातक कथा - कस्सप बुद्ध]]
# [[जातक 103|जातक कथा - मेत्रेयः भावी बुद्ध]]
==कुछ जातकों का संक्षिप्त परिचय==
जातक-कथाएँ भगवान बुद्ध के पूर्वजन्मों से सम्बन्धित हैं। बोधिसत्व की चर्याओं का उनमें वर्णन है। अतः वे सभी प्रायः उपदेशात्मक है। परन्तु उनका साहित्यिक रूप भी निखरा हुआ है। उपदेशात्मक होते हुए भी वे पूरे अर्थों में कलात्मक है। जातक के आदि में निदान-कथा (उपोद्घात) है, जिसमे भगवान् बुद्ध के पहले 24 बुद्धों के विवरण के साथ-साथ भगवान गौतम बुद्ध की जीवनी लेतवन विहार के दान की स्वीकृति तक दी गई है। कुछ जातक कथाओं का सारांश तथा उनकी विषय-वस्तु का रूप निम्नलिखित इस प्रकार स्पष्ट है।