"लल्लेश्वरी" के अवतरणों में अंतर

440 बैट्स् जोड़े गए ,  13 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
'''लल्लेश्वरी''' या '''लल्ला''' के नाम से जाने जानेवाली चौदवहीं सदी की एक भक्त कवियित्री थी जो [[कश्मीर]] की [[शैव]] [[भक्ति]] परंपरा और [[कश्मीरी भाषा]] की एक अनमोल कड़ी थीं। लल्ला का जन्म [[श्रीनगर]] से दक्षिणपूर्व मे स्थित एक छोटे से गाँव में हुआ था। वैवाहिक जीवन सु:खमय न होने की वजह से लल्ला ने घर त्याग दिया था और छब्बीस साल की उम्र में [[गुरु]] [[सिद्ध श्रीकंठ]] से [[दीक्षा]] ली।
 
[[कश्मीरी संस्कृति]] और कश्मीर के लोगों के धार्मिक और सामाजिक विश्वासों के निर्माण में लल्लेश्वरी का अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान है।
 
[[फूल चन्द्रा]] द्वारा लल्लेश्वरी के कुछ वाख का अनुवाद नीचे प्रस्तुत हैः
:प्रेम की ओखली में हृदय कूटा
:प्रकृति पवित्र की पवन से।
:जलायी भूनी स्वयं चूसी
:शंकर पाया उसी से।।
 
[[श्रेणी:हिन्दू धर्म]]
283

सम्पादन