"खंड-४" के अवतरणों में अंतर

574 बैट्स् नीकाले गए ,  10 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
(नया पृष्ठ: रश्मिरथी / द्वितीय सर्ग / भाग 4 कवि: रामधारी सिंह "दिनकर" ~*~*~*~*~*~*~*~ खड्...)
 
रश्मिरथी / द्वितीय सर्ग / भाग 4
कवि: रामधारी सिंह "दिनकर"
 
~*~*~*~*~*~*~*~
 
खड्‌ग बड़ा उद्धत होता है, उद्धत होते हैं राजे,
जय पुकारती प्रजा रात-दिन राजा जयी यशस्वी की!
 
रश्मिरथी / द्वितीय सर्ग / भाग 5
From Hindi Literature
Jump to: navigation, search
कवि: रामधारी सिंह "दिनकर"
 
~*~*~*~*~*~*~*~
 
'सिर था जो सारे समाज का, वही अनादर पाता है।
जिसमें हो धीरता, वीरता और तपस्या का बल भी।
 
रश्मिरथी / द्वितीय सर्ग / भाग 6
From Hindi Literature
Jump to: navigation, search
कवि: रामधारी सिंह "दिनकर"
 
~*~*~*~*~*~*~*~
 
'वीर वही है जो कि शत्रु पर जब भी खड्‌ग उठाता है,
504

सम्पादन