वृकासुर महाभारत का पात्र है। यह शकुनि का दूसरा पुत्र था।

वृकासुर
हिंदू पौराणिक कथाओं के पात्र
नाम:वृकासुर
संदर्भ ग्रंथ:महाभारत
मुख्य शस्त्र:तलवार
माता-पिता:शकुनि (पिता) अर्शी (माता)
भाई-बहन:उलूक तथा वृप्रचिट्टी (भाई)

कहानीसंपादित करें

वृकासुर का जन्म तब हुआ था जब शकुनि ने गान्धार में बालक उलूक की रक्षा के लिये यज्ञ करवाया था। तब यज्ञ के प्रभाव से आरशी ने वृकासुर को जन्म दिया। फिर शकुनि तथा आरशी ने वृकासुर को अपना पुत्र मान लिया। वृकासुर एक प्रचंड योद्धा था। वह एक महाबली खड़कधारी था। युद्ध के १७वें दिन नकुल ने वृकासुर का वध कर दिया था।