मुख्य मेनू खोलें

वेडेल सागर (Weddell Sea) अंटार्कटिक प्रायद्वीप से पूर्व में और कोट्स धरती से पश्चिम में स्थित दक्षिणी महासागर का एक सागर है। इसका पूर्वतम बिन्दु रानी मौड धरती का नॉर्वेजिआ अंतरीप (Cape Norvegia) है। अपने सबसे चौड़े मापन पर यह २,००० किमी तक फैला हुआ है। भूमि के साथ लगे इसके कई क्षेत्रों पर हिमचट्टाने स्थित हैं, मसलन फ़िल्च्नर-रोन हिमचट्टान, और वेडेल सागर का दक्षिणी भाग स्थाई और भीमकाय हिमचट्टानों से ढका हुआ लगता है।[1]

वेडेल सागर
Weddell Sea
वेडेल सागर अंटार्कटिक प्रायद्वीप से पूर्व में स्थित है
वेडेल सागर अंटार्कटिक प्रायद्वीप से पूर्व में स्थित है
सागर प्रकार सागर
तटवर्ती क्षेत्र Proposed flag of Antarctica (Graham Bartram).svg अंटार्कटिका
अधिकतम चौड़ाई 2000 किमी
सतही क्षेत्र 28,00,000 किमी2

वेडेल सागर का जल विश्व के सबसे साफ़ समुद्री जलों में गिना जाता है और इसमें बहुत सीलों और व्हेलों की आबादी है। लेकिन साथ-ही-साथ नाविकों के लिये इसे अधिक ख़तरनाक बताया गया है। इतिहासकार थोमस हेन्री ने अपनी १९५० की किताब "श्वेत महाद्वीप" (द व्हाइट कोन्टीनेन्ट) में लिखा कि "वेडेल सागर के हिमशैल-ग्रस्त जल से निकलने वाले सभी नाविक कहते हैं कि यह पृथ्वी का सबसे जोखिम-मय और डरावना स्थान है। इसके मुक़ाबले में रॉस सागर स्थाई, शान्त और सुरक्षित है।"[2]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Weddell Sea". Encyclopædia Britannica. Retrieved July 2015.
  2. Henry, Thomas R. (1950), The White Continent: The Story of Antarctica, New York Sloane, OCLC 487172