श्चियापारेल्ली ईडीएम लैंडर

श्चियापारेल्ली ईडीएम लैंडर (Schiaparelli EDM lander) एक्सोमार्स परियोजना का एंट्री, डिसेंट और लैंडिंग प्रदर्शक मॉड्यूल (ईडीएम) है।[2] यह मंगल ग्रह की सतह पर उतरने के लिए आवश्यक प्रौद्योगिकी विकसित करने में यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी और रूस की रोसकॉस्मोस मदद करेगा।

श्चियापारेल्ली ईडीएम लैंडर
Schiaparelli EDM lander
श्चियापारेल्ली ईडीएम लैंडर का मॉडल
श्चियापारेल्ली ईडीएम लैंडर का मॉडल
मिशन प्रकार मंगल ग्रह लैंडर / प्रौद्योगिकी प्रदर्शक
संचालक (ऑपरेटर) यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी · रोसकॉस्मोस
कोस्पर आईडी 2016-017A
सैटकैट नं॰ 41388
वेबसाइट exploration.esa.int/mars/46124-mission-overview/
मिशन अवधि योजना: 2 से 8 सोल्स [1]
अंतरिक्ष यान के गुण
निर्माता थालेस एलिनिया स्पेस
लॉन्च वजन 600 कि॰ग्राम (1,300 पौंड)
आकार-प्रकार व्यास: 2.4 मी॰ (7.9 फीट)
ऊंचाई: 1.65 मी॰ (5.4 फीट)
मिशन का आरंभ
प्रक्षेपण तिथि 14 मार्च 2016, 09:31 यु.टी.सी
रॉकेट प्रोटॉन-एम/ब्रिज-एम
प्रक्षेपण स्थल बायकोनूर कॉसमोड्रोम स्थल 200/39
ठेकेदार कहरूनिचेव
मंगल लैंडर
लैंडिंग तारीख19 अक्टूबर 2016 (धमाके के साथ उतरा)
लैंडिंग साइटमेरिदिनी प्लेनम
----
एक्सोमार्स कार्यक्रम
2020 एक्सोमार्स रोवर & सतह प्लेटफार्म

इसे एक्सोमार्स ट्रेस गैस आर्बिटर के साथ 14 मार्च 2016, 09:31 यु.टी.सी पर लांच किया गया था। यह एक्सोमार्स ट्रेस गैस आर्बिटर से योजनानुसार 16 अक्टूबर 2016 14:42 जीएमटी पर मंगल पर पहुचने से 3 दिन पहले ही अलग हो गया तथा मंगल की सतह पर 19 अक्टूबर 2016 को पंहुचा।[3] लैंडर अपने साथ एक बिना चार्ज होने वाली बैटरी ले के गया है। जिसके द्वारा यह मंगल पर 2 से 4 सोल्स तक गुजर सकता है। लेकिन यह 19 अक्टूबर 2016 को सॉफ्ट लैंड होने के बजाये मंगल पर क्रैश लैंड हुआ पंहुचा और इस अभियान का अंत हुआ। नासा ने इसकी क्रैश साइट की कुछ तस्वीर जारी की है। [4]

अवलोकनसंपादित करें

7 महीने क्रूज के बाद, लैंडर मंगल पर पहुचने से 3 दिन पहले 16 अक्टूबर 2016 को यान से अलग हो जायेगा। और 19 अक्टूबर 2016 को मेरिदिनी प्लेनम पर लैंड होगा। यह अपने डिसेंट को धीमा करने के लिए एक हीट शील्ड, पैराशूट और रेट्रो रॉकेट का प्रयोग करेंगे। इस दौरान एक्सोमार्स ट्रेस गैस (ऑरबिटर) मंगल ग्रह की कक्षा में प्रवेश करेंगे। [5] एक्सोमार्स ट्रेस गैस ऑरबिटर 2022 तक लैंडर और रोवर के लिए संचार का कार्य करेगा। [6]

श्चियापारेल्ली एक नियंत्रित लैंडिंग अभिविन्यास और टचडाउन वेग के साथ मंगल ग्रह की सतह पर उतरने के लिए यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी और रूस की रोसकॉस्मोस को तकनीक प्रदान करेगा। जो एक्सोमार्स रोवर 2020 मिशन के लिए महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकी है। [7]

लैंडर का नाम 19 वी सदी के खगोल वैज्ञानिक जिओवानी श्चियापारेल्ली के नाम पर रखा गया है। [2]

विशेष विवरणसंपादित करें

व्यास 2.4 मी॰ (7.9 फीट)[8]
ऊंचाई 1.8 मी॰ (5.9 फीट)
वजन 600 कि॰ग्राम (1,300 पौंड)
हीट शील्ड सामग्री नार्को लीज
संरचना कार्बन फाइबर के साथ एल्युमिनियम सैंडविच
प्रबलित बहुलक खाल
पैराशूट डिस्क-अंतर-बैंड कैनोपी
12 मी॰ (39 फीट) व्यास
ईंधन 3 हाइड्राज़ीन पल्स इंजन के 3 क्लस्टर
(400 न्यूटन प्रत्येक से)[7]
शक्ति गैर-रिचार्जेबल बैटरी
संचार एक्सोमार्स ट्रेस गैस आर्बिटर
के साथ यूएचएफ लिंक

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Schiaparelli science package and science investigations Archived 2016-10-23 at the Wayback Machine. ESA. 10 March 2016.
  2. Patterson, Sean (8 November 2013). "ESA Names ExoMars Lander 'Schiaparelli'". Space Fellowship. मूल से 15 मई 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 अक्तूबर 2016.
  3. "European-led Mars lander starts descent to red planet". मूल से 19 अक्तूबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 अक्तूबर 2016.
  4. "ESA Lander Exploded on Impact, Says NASA -- How Will it Affect ExoMars Probe?". मूल से 25 अक्तूबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 25 अक्तूबर 2016.
  5. Aron, Aron (7 March 2016). "ExoMars probe set to sniff out signs of life on the Red Planet". New Scientist. मूल से 8 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 7 March 2016.
  6. Allen, Mark; Witasse, Olivier (16 June 2011), "2016 ESA/NASA ExoMars Trace Gas Orbiter", MEPAG June 2011, Jet Propulsion Laboratory (PDF)
  7. "Schiaparelli: the ExoMars Entry, Descent and Landing Demonstrator Module". ESA. 2013. मूल से 6 अक्तूबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 October 2014.
  8. "ExoMars". Russian Space Web. मूल से 23 अक्तूबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 October 2013.